1. ख़बरें

लॉकडाउन में घर बैठे ही पानी के लिए खोद डाला 20 फ़िट गहरा कुंआ, वो भी केवल 7 दिनों में...

पूरे देश में कोरोना संक्रमण फैला हुआ है जिसके चलते लम्बे समय से Lockdown चल रहा है.इस बीच मन्दसौर जिले के बोलिया के पास एक गाँव खारखेड़ा के रहने वाले एक किसान परिवार ने कमाल कर दिया. सालों से पीने के पानी की समस्या से परेशान अपने परिवार को पिता ओर दो पुत्र की जोड़ी ने राहत दी.दोनों ने मिलकर इस Lock down कापूरा फ़ायदा उठाया. खारखेड़ा के किसान भोनीशंकर मेहर ने दोनों बेटे, जगदीश ओर कैलाश के साथ मिलकर 7 दिन में अपने ही घर के आंगन में पानी का 20 फ़िट गहरा कुंआ खोद दिया.

इस Lock down में घर बैठकर कुछ लोग टी॰वी॰ देखने में लगे हैं, कुछसोशल मीडिया में लगे हैं, लेकिन इस बात की प्लानिंग कोई नहीं कर रहा है कि आने वाले समय से कैसे निपटा जा सके.परन्तु इस परिवार ने अपनी प्रमुख समस्या का समाधान आख़िरकार निकाल ही लिया है. कुंए से अच्छा पानी भी आगया है जिसे देखकर परिवार में ख़ुशी की लहर है. इस परिवार का कहना है कि पानी जीवन का अमृत माना गया है. क़ुंए में पानी आने से उन्हें तो फ़ायदा होना ही है, साथ आस-पड़ोसी को भी इससे लाभ होगा . 

परिवार को घर में पीने का पानी दूर से लाना पड़ता था. लेकिन कोरोना माहमारी आने के बाद पूरे देश में Lockdown हो गया, जिससे मुश्किल और भी बढ़ गई. इस किसान परिवार ने कभी सोचा भी नहीं था कि जीवन में पानी की समस्या का समाधान इस Lockdown के चलते हो जाएगा. इस किसान परिवार का मानना है कि पानी की समस्या कई गाँव वालों को होती है, उनको दूर-दूर से पानी लाना पड़ता है.अपनी समस्या का समाधान अपने पास ही होता है, बस एक कोशिश करना ज़रूरी है. 
भोनीशंकर का कहना है,“मेरे परिवार को पानी की दिक़्क़त हो रही थी लेकिन अब हम खुश हैं और आस-पास के लोगों को भी पीने का पानी मिलेगा. भगवान से प्रार्थना करता हूं कि कोरोना महामारी से सबको बचाए, ये मौका है, घर बैठकर अपनी परेशानियों का समाधान कर सकते हैं.घर रहें,अपना और अपने परिवार का ध्यान रखें.”

English Summary: family digged a well during lockdown in just 7 days

Like this article?

Hey! I am अशोक परमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News