किसान अन्नदाता ही नहीं बल्कि ऊर्जादाता भी होगा : मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लखनऊ में चल रहे कृषि कुम्भ को सम्बोधित किया। अपने इस सम्बोधन में मोदी जी से कृषि के क्षेत्र में नई प्रौधोगिकी के उपयोग के महत्व पर जोर दिया. उन्होंने कहा की मेरा तो स्पष्ट मानना है की किसान को कोई भी आगे नहीं ले जाता बल्कि देश के किसान देश को आगे ले जाते है. प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी बताया की खेत में ऐसी कोई भी चीज नहीं है जो बेकार होती है मेरा तो अपना मानना है की कचरे को भी कंचन बनाया जा सकता है. उन्होंने कहा मेरी सरकार यानी भाजपा की सरकार 2022 तक किसानो की आय को दो गुना करने, खेती की लागत को कम करने और किसानो के लाभ बढ़ाने के लिए प्रतिबद्धता से काम कर रही है. मोदी जी ने कहा हम बिजली और डीजल पर चलने वाले पम्पों को सोलर पंप में बदलने की ओर आगे बढ़ रहे हैं.

आपको बता दे की बिजली और डीजल से चल रहे पम्पो को सौर ऊर्जा से चलने वाले पम्पो में बदलने का व्यापक अभियान चल रहा है. इस अभीयान के तहत अगले चार साल में देश भर के 28 लाख किसानो के सोलर पम्प लगाने का अभियान है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा ऐसा करने से किसानो को बिजली मुक्त मिलेगी और इसके आलावा यदि जरूरत से ज्यादा बिजली पैदा होती है तो हम इस विजली को वितरण कंपनियों को बेंच पाने में सक्षम होंगे. उन्होंने कहा की एक समय था जब किसान आनंदता हुआ करता था मगर अब तो किसान के ऊर्जा दाता बनने की संभावना भी जन्म ले चुकी है. इस अभियान से किसानो के जीवन में अमूल चूल परिवर्तन आएगा.

उन्होंने कहा अभी कुछ महीने ही पहले ही कृषि उन्नति मेले के दौरान किसान मेला लगाने की सलाह दी थी. इसी का ही विस्तार कृषि कुम्भ में देखने को मिल रहा है. प्रयागराज (इलाहबाद) के कृषि कुम्भ अभी कुछ ही महीने बाकी है लेकिन यूपी की धरती पर एक और कुम्भ आज से शुरू हो गया. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि उत्तर प्रदेश की सरकार ने पहली बार आलू खरीदने का भी फैसला किया है.

Comments