1. ख़बरें

किसान भाईयों को नहीं मिला पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम का लाभ

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
PM Kisan Samman Nidhi Scheme

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के लिए कई अहम कदम उठाए हैं. किसानों की समस्या को लेकर पीएम मोदी काफी संजीदा रहते हैं. इसी के चलते उन्होंने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम को चलाया था. इस स्कीम को एक साल पूरा हो गया है, जिसमें किसानों को तीन किस्तों में 6-6 हजार रुपए मिले है, लेकिन हैरान कर देने वाली बात है कि करोड़ों किसानों को तीसरी किस्त का लाभ ही नहीं मिला है.

आपको बता दें कि इस योजना के तहत 1 दिसंबर तक देश के करीब 14.5 करोड़ किसानों  को 87 हजार करोड़ रुपये जाना था जिसमें से अभीतक 35 हजार करोड़ रुपये ही किसानों तक पहुंची है और बाकि के किसानों को अभी तक किस्त नहीं मिली है. जी हां, एक बार फिर किसान सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रह गए. कहा जा रहा है कि अधिकारियों की लापरवाही से पीएम मोदी के मिशन किसान पर ब्रेक लग रहा है. पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम को साल भर पूरे हो गए, लेकिन अब तक सभी किसानों तक इसका लाभ नहीं पहुंच सका है.

Prime Minister Narendra Modi

जानकारी के लिए बता दें कि इस स्कीम में 2000 रुपए की पहली किश्त 1 दिसंबर 2018 से 31 मार्च 2019 के बीच किसानों को भेजी जानी थी. तो वहीं अंतिम और तीसरी किश्त 30 नवंबर 2019 तक पहुंच जानी चाहिए थी, लेकिन 1 दिसंबर 2019 की आखिरी किश्त कराब 3.86 करोड़ किसानों तक ही पहुंची है. जबकि लगभग 10.64 करोड़ किसानों को अब भी इसका इंतजार है. इस मामले पर केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने बताया है कि जिन-जिन राज्यों से लिस्ट आ रही है, उसके हिसाब से स्कीम का पैसा दिया जा रहा है. 

बता दें कि केंद्र सरकार ने किसानों का आधार लिंक करवाने में 30 नवंबर 2019 तक की छूट दी थी. इसके अलावा इस स्कीम का लाभ लेने वाले किसानों की संख्या पहले से बढ़ी है. कैलाश चौधरी का कहना है कि अब अगर कोई किसान इस योजना में रजिस्ट्रेशन करवाना चाहता है, तो किसानों को अधिकारियों के पास नहीं जाना पड़ेगा. मतलब अब किसान भाई पीएम किसान पोर्टल पर जाकर अपना आधार, मोबाइल और बैंक खाता नंबर डालें. इसके बाद वह इसके स्टेटस की जानकारी देख सकते है.

English Summary: Farmer did not get the benefit of PM Kisan Samman Nidhi Scheme

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News