MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

दालचीनी के उत्पादन के लिए Pilot Project हुआ लॉन्च

अब Himachal Pradesh दालचीनी (Dalchini) का उत्पादन करने के लिए तैयार है.Virendra Kanwar, Agriculture Minister ने कहा कि "यह महसूस करते हुए कि भारत में लोग घटिया गुणवत्ता वाली Dalchini का सेवन कर रहे हैं

रुक्मणी चौरसिया
Dalchini
Dalchini

अब हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) दालचीनी (Dalchini) का उत्पादन करने के लिए तैयार है. जी हां,  इस परियोजना की शुरुआत उना जिले से की गयी है. कृषि मंत्री वीरेंदर कंवर (Virendra Kanwar, Agriculture Minister) ने कहा कि "यह महसूस करते हुए कि भारत में लोग घटिया गुणवत्ता वाली दालचीनी (Dalchini) का सेवन कर रहे हैं, जिसका स्वास्थ्य पर गंभीर दुष्प्रभाव पड़ रहा है. इसके चलते वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (Council of Scientific and Industrial Research) हिमालय जैव संसाधन प्रौद्योगिकी संस्थान (Himalayan Institute of Bioresource Technology) ने पहली बार संगठित खेती शुरू की है"

पायलट प्रोजेक्ट हुआ लांच (Pilot Project Launched)

कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर ने ऊना जिले के विले खोलिन में एक प्रगतिशील किसान योगराज के खेत में पौधे लगाकर दालचीनी की खेती (Cinnamon Cultivation) पर पायलट प्रोजेक्ट (Pilot Project) लांच किया है. इसकी शुरुआत में पियोर दालचीनी (Pure Dalchini) की योजना बढ़ाने के लिए  600 से 700 पौधे लगाये जाने की बात कही.

दालचीनी की किस्में (Varieties of Dalchini)

  • सिनामोमम वर्म (Cinnamomum Verum) को अक्सर असली दालचीनी या सीलोन दालचीनी के रूप में जाना जाता है. यह अपने बेहतर स्वाद के लिए जाना जाता है.

  • सिनामोमम कैसिया (Cinnamomum Cassia) को आमतौर पर चीनी कैसिया के रूप में जाना जाता है. यह अक्सर किराने की दुकानों में बेची जाने वाली विशिष्ट दालचीनी किस्म है.

  • सिनामोमम लौरेरी (Cinnamomum loureirii) को साइगॉन दालचीनी या वियतनामी दालचीनी के रूप में जाना जाता है. इस किस्म में एक मजबूत स्वाद और सुगंध है. यह एक प्रीमियम कीमत पर आती है.

"पियोर दालचीनी" उगाने का लक्ष्य (The Goal of Growing "Pure Cinnamon")

देश में दालचीनी के पौधे की 'पियोर' किस्म पर बात करते हुए, सीएसआईआर-आईएचबीटी के निदेशक डॉ. संजय कुमार ने बताया कि  "पियोर दालचीनी सिनामोमम वर्म से प्राप्त होती है, जबकि बाजार में बिकने वाली अधिकांश दालचीनी सिनामोमम कैसिया से प्राप्त होती है, जो अभी तक एक अन्य किस्म है, जिसकी छाल का उपयोग किया जाता है.

सिनामोमम वर्म की और इसमें उच्च मात्रा में कौरमारिन होता है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है. इसे किडनी डिस्ट्रॉयर के रूप में जाना जाता है, जिसके कारण इसे अमेरिका और अन्य देशों में प्रतिबंधित कर दिया गया है. सिनामोमम कैसिया (आमतौर पर बेचा जाने वाला) से प्राप्त दालचीनी केक या पाई बनाते समय बड़ी मात्रा में उपयोग किया जाता था.

औषधीय गुणों के लिए होता है इस्तेमाल (Used for medicinal properties)

कई लोगों के लिए दालचीनी की मात्रा भी बड़े औषधीय प्रयोजनों का उपभोग करती है, जो अप्रत्यक्ष रूप से किसी भी अच्छे काम की तुलना में बहुत नुकसान पहुंचाती है. सिनामोमम वर्म मुख्य रूप से श्रीलंका में उगाया जाता था, जबकि यह सेशेल्स, मेडागास्कर और भारत जैसे असंगठित क्षेत्र में कम मात्रा में उगाया जाता था.

भारत चीन, श्रीलंका, वियतनाम, इंडोनेशिया और नेपाल से सालाना 45,318 टन (909 करोड़ रुपये मूल्य) का दालचीनी आयात करता है. वहीं 45,318 टन आयात में से आश्चर्यजनक रूप से भारत 37,166 टन सिनामोमम कैसिया वियतनामचीन (कई देशों में प्रतिबंधित प्रजाति) और इंडोनेशिया से आयात करता है.

हिमाचल प्रदेश है दालचीनी के लिए अनुकूल (HP is favorable for cinnamon)

डेटा ने यह सुझाव दिया है कि उना बिलासपुर, कांगड़ा, हमीरपुर जिले और हिमाचल प्रदेश में सिरमौर में इसकी खेती के लिए संभावित क्षेत्र हैं. निदेशक ने कहा कि सिनामोमम वर्म की खेती के साथ, हिमाचल प्रदेश दालचीनी की संगठित खेती करने वाला भारत का पहला राज्य बन गया है.

English Summary: Dalchini Cultivation: Pilot Project for Cinnamon Production Launched Published on: 30 November 2021, 05:40 PM IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News