1. ख़बरें

बायो डी-कंपोजर के जरिए पराली से होने वाले प्रदूषण से मिलेगी राहत

स्वाति राव
स्वाति राव

Parali

धान की खेती करने वाले किसानों के लिए एक बेहद ही अच्छी खबर है. बता दें धान की फसल की कटाई के बाद जो अवशेष बचता है, उसे किसान जला देते हैं. जिस वजह से वातावरण में प्रदूषण की समस्याएं उत्पन्न होती हैं जिससे कई प्रकार की बीमारियाँ होने की संभावना रहती है, लेकिन इस बीच एक अच्छी खबर सामने आ रही है.

दरअसल, दिल्ली सरकार ने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूसा के साथ मिलकर पराली से खेत में खाद बनाने की नयी तकनीक (बायो डी-कंपोजर) तैयार की है.

बायो डी-कंपोजर कैप्सूल (Bio D-Composer Capsule)

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने एक खास तरह का कैप्सूल तैयार किया है,  जिसे एक तय मात्रा में पानी, बेसन और गुड़ के साथ मिलाकर छिड़काव किया जाता है. यह कैप्सूल 5 तरह के जीवाणुओं से मिलकर बनाया गया है. जो फसल के लिए बहुत लाभदायी साबित होगी

24 सितम्बर से होगी शुरुआत (will start from 24 september)

बता दें, कि भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने बायो डी-कंपोजर घोल के छिडकाव की टाइम लाईन तय की है, जिमसें इस घोल को बनाने की प्रक्रिया 24 सितम्बर से की जाएगी. सरकार की तरफ से जारी की गई टाइम लाईन के अनुसार इस बायो डी-कंपोजर का उपयोग फसलों में 5 अक्टूबर से चालू कर दिया जायेगा.

बायो डी-कंपोजर तकनीक से किसान को होगा लाभ (Farmers Will Benefit From Bio De-Composer Technology)

बता दें कि इस बायो डी-कंपोजर तकनीक से प्रदूषण की समस्या कम तो होगी, साथ ही इसके उपयोग से मिटटी की उर्वरा शक्ति अच्छी होगी

कैसे होगा छिडकाव की प्रक्रिया (How Will The Process of Spraying Be Done?)

  • इस बायो डी-कंपोजर तकनीक में 4 कैप्सूल से 25 लीटर छिड़काव बनाया जा सकता है जो कि प्रति हेक्टेयर के लिए इतेमाल किया जा सकता है.

  • बता दें कि इस कैप्सूल से घोल बनाने के लिए सबसे पहले 5 लीटर पानी लेना होगा.

  • उसके बाद इसमें 100 ग्राम गुड़ डालकर उबालना है.

  • इसके बाद थोड़ी देर के लिए इस घोल को ठंडा होने को रख दें.

  • जब घोल ठंडा हो जाये इसके बाद इस घोल में 50 ग्राम बेसन मिलाकर 4 कैप्सूल डाल दें.

  • इसके बाद इस घोल को 10 दिन तक एक अंधेरे कमरे में रख दें.

  • इस तरह यह छिड़काव तैयार हो गया.

ऐसे ही फसलों की अच्छी खाद सम्बन्धी जानकारी जानने के लिए जुड़े रहिये कृषि जागरण हिंदी पोर्टल से. 

English Summary: bio de - composer technology will give relief from stubble pollution

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News