आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

Farm Bill 2020: संसद के बाद कृषि बिल को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी, बना कानून

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
krishi

देशभर में कृषि बिल (Farm Bill) को लेकर विपक्ष और किसानों द्वारा भारी विरोध प्रदर्शन जारी है. इसी बीच राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (Ramnath Kovind) ने संसद द्वारा पारित तीनों कृषि बिलों (Farm Bill) को स्वीकृति दे दी है. इसके बाद भी विपक्ष और किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है. खासतौर पर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों में इन कृषि बिलों को लेकर ज्यादा गुस्सा है. वह इसे 'काला कानून' बताकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इसके अलावा विपक्ष भी लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रहा है.

जानकारी के लिए बता दें कि बीते दिनों उच्च सदन में केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा अहम बिल 'कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तीकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 पर चर्चा की गई. इस पर विपक्षी दलों और किसानों ने विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. विपक्षी दल और किसानों का कहना है कि इन बिलों को किसानों के हितों के खिलाफ और कॉरपोरेट को लाभ दिलाने के लिए लाया जा रहा है दिशा में उठाया गया कदम करार दिया था. हालांकि, भारी विरोध प्रदर्शन के बीच कृषि बिलों को लोकसभा और राज्यसभा (Rajya Sabha) में पास करा दिया गया था. इसके बाद इन कृषि बिल को राष्ट्रपति की भी मंजूरी मिल गई है.

kheti

पीएम मोदी ने फैसले को बताया ऐतिहासिक

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि भारतीय कृषि इतिहास में इस फैसले को एक ऐतिहासिक क्षण बताया है. उनका कहना है कि ये बिल कृषि क्षेत्र में अच्छा बदलाव लाएंगे, साथ ही करोड़ों किसानों को सशक्त बनाएंगे. अबी तक बिचौलियों द्वारा किसानों को विवश रखा गया है, लेकिन अब ये कृषि बिल किसानों को इससे दिलाएगा. इन बिल से किसानों की आमदनी दोगुनी होगी. पीएम मोदी ने कहा कि कृषि क्षेत्र को नवीनतम प्रौद्योगिकी की नितांत आवश्यकता है. मगर अब किसानों तक उसकी पहुंच सुगम होगी, जिससे फसल का उत्पादन बढ़ पाएगा.

English Summary: After Parliament, the Agriculture Bill has been approved by President Ramnath Kovind

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News