MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

वाराणसी के डाकघर हो रहे हैं Cashless, जानिए क्या है ये बदलाव जिससे हो सकता है आपकी जेब का वज़न कम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी या बनारस के डाकघरों में अब डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए QR कोड लगाएं जा रहे हैं. जानिए पूरी खबर हमारे इस लेख में...

देवेश शर्मा
QR कोड
QR कोड

काशी, बनारस या वाराणसी को महादेव की नगरी कहा जाता है, लेकिन जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहां के  सांसद बने हैं तब से यह क्षेत्र उनके संसदीय क्षेत्र के रूप में भी जाना जाने लगा है.

यहाँ पर जाने के बाद लोग ऐसा अनुभव करते हैं जैसे किसी पुरानी सभ्यता में आ गए हों. लेकिन अब इसी पुराने शहर में एक नया प्रयोग हो रहा है. डाकघरों में QR कोड लगाने का यह काम डिजिटल इंडिया अभियान को भी बढ़ावा दे रहा है. इसके तहत शहर के सभी डाकघरों में QR कोड लगाए जा रहे हैं.

इस QR कोड को स्कैन कर ग्राहक डाकघर में स्पीड पोस्ट,रजिस्ट्री और दूसरी सेवाओं के लिए पेमेंट का भुगतान कर सकते हैं.वाराणसी के प्रधान डाकघर के अलावा शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के सभी डाकघरों में ग्राहकों को इस नई सुविधा का लाभ मिल रहा है.

पोस्ट मास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव का कहना है कि वाराणसी के डाकघरों में डिजिटल लेन देन सेवा की शुरुआत हो गई है.इस सेवा की शुरुआत के बाद ग्राहकों को डाक घर की छोटी सेवाओं के लिए अब कैश और फुटकर के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा.वाराणसी  के 273 डाक घरों में ये सेवाएं शुरू की जा चुकी हैं. जिसमें 6 मुख्य डाकघर और 267 ब्रांच शामिल हैं. इस सेवा को शुरू करने का उद्देश्य डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देना और उसके प्रति लोगो को जागरूक करना है.

इसे पढ़िए - Post Office New Update: ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! 1 अप्रैल से बदल जाएंगे ब्याज संबंधित नियम

ग्राहकों की प्रतिक्रिया: 

इस नए बदलाव के बाद पोस्ट ऑफिस में आने वाले ग्राहक भी काफी खुश दिख रहे हैं. पोस्ट करने आए व्यक्ति  ने बताया कि इस सेवा से अब आसानी से डाक घर की छोटी सेवाओं के लिए भुगतान किया जा सकेगा और इससे समय की भी बचत हो पाएगी.

English Summary: A new changement in Banaras's Post Offices Published on: 19 May 2022, 04:19 PM IST

Like this article?

Hey! I am देवेश शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News