1. मशीनरी

भूमि की तैयारी के लिए करें इन 6 कृषि यंत्रों का उपयोग, उत्पादन में होगा इजाफा

श्याम दांगी
श्याम दांगी

कृषि यंत्र

किसी भी फसल का अच्छा उत्पादन लेने में योगदान अच्छे किस्म के बीज, खाद और उर्वरक की होता उतना ही योगदान खेत की अच्छी जुताई का भी माना जा सकता है. यदि खेत की तैयारी अच्छे से नहीं की गई तो उत्पादन अपेक्षा के मुताबिक नहीं मिल पाता है. ऐसे में हम आपको आज खेत की तैयारी में काम आने वाले कृषि यंत्रों के बारे में बताने जा रहे हैं. तो आइये जानते हैं भूमि की तैयारी के लिए उपयुक्त कृषि यंत्र. 

खेत की अच्छी जुताई के फायदें

खेत की अच्छी जुताई करने से भूमि की संरचना में सुधार के साथ मिट्टी की पानी अधिग्रहण क्षमता में इजाफा होता है. इसके अलावा खेत में पाए जाने वाले खरपतवारों का नियंत्रण किया जा सकता है एवं मिट्टी भुरभुरी होने से वायु का अच्छा संचार होता है. 

मिट्टी पलट हल

ट्रैक्टर चलित इस हल को मुख्यतः 4 भागों में बांटा जा सकता है जो इस प्रकार है, फार, लैंड साइड, हरिस मोल्ड बोर्ड और फ्रॉग आदि. इसका फार भाग सामान्यतः कम मिश्रित स्टील और उच्च कार्बन स्टील से बनाया जाता है. ट्रैक्टर के थ्री पॉइंट लिंकेज या हाइड्रोलिक की मदद जुताई की गहराई आसानी से नियंत्रित की जा सकती है. इसका उपयोग मिट्टी को काटने और भुरभुरा बनाने में किया जा सकता है. वहीं यह कम्पोस्ट, चुना और हरी खाद को मिट्टी में अच्छी तरह  मिलाने में मददगार होता है. 

डिस्क हैरो

ट्रैक्टर चलित हैरो को मुख्यतः दो भागों में बांटा जा सकता है. इसमें आगे और पीछे दो डिस्क गैंग पाई जाती है. पहली गैंग मिट्टी को बाहर और दूसरी गैंग मिट्टी को अंदर ओर फेंकता है. बगीचों की जुताई करने के लिए यह बेहद उपयोगी है. 

डक फुट कल्टीवेटर

यह आयताकार बॉक्स होता है जिसमें मजबूत फार और स्वीप होता है. ट्रैक्टर चलित इस कल्टीवेटर से हाइड्रोलिक की मदद से गहरी जुताई की जा सकती है. यह काली मिट्टी के लिए बेहद उपयोगी है और इसके उपयोग से पैदावार में 3 से 4 फीसदी उपज बढ़ाई जा सकती है. इसके उपयोग से खरपतवार नियंत्रण करने के साथ मिट्टी में नमी को बरकरार रखा जा सकता है.  

रोटावेटर

रोटावेटर का उपयोग मिट्टी को भुरभुरा बनाने में किया जाता है. इसमें 'एल' आकार की ब्लेड के अलावा गियर बॉक्स होता है जिसकी मदद से ऊर्जा का संचार होता है. ऐसा माना जाता कि इसकी एक जुताई कल्टीवेटर की दो जुताई की बराबर होती है. इसके उपयोग से उत्पादन में वृद्धि के साथ ही खरपतवार का नियंत्रण भी किया जा सकता है.

 

ट्रैक्टर चलित पटेला

ट्रैक्टर चलित पटेला या लेवलर में मिट्टी को काटने या खुरचने वाली ब्लेडें लगी होती है. मिट्टी की गहरी जुताई को ट्रैक्टर के थ्री प्वाइन्ट लिंकेज या हाइड्रोलिक की मदद से आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है. खेत को समतल बनाने में यह बेहद उपयोगी यंत्र है जो खेत में मिट्टी को एक स्थान से स्थान आसानी से ले जा सकता है. 

 

सबस्वाय्लर हल

इसमें उच्च कार्बन स्टील से बना हरिस होता है जो मिट्टी को समतल करने में मददगार है. इसके अलावा इसमें हाई कार्बन स्टील का बना फार यंत्र होता है. वहीं खेत की गहरी जुताई को ट्रैक्टर के हाइड्रोलिक से नियंत्रित किया जा सकता है. यह अच्छे उत्पादन में बेहद मददगार यंत्र है जो मिट्टी को भुरभुरा बनाता है. जिससे पानी का संचार अच्छी तरह से होता है और उत्पादन में वृद्धि होती है. 

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News