एग्रीमैक्स राईस-व्हीट सीडर से प्रति एकड़ रोपनी खर्च में 3000-3500 रुपए तक की बचत

अभी कुछ वक्त पहले की अगर बात करें तो किसानों के लिए खेती करना उतना आसान नहीं था... वजह थी किसानों का आधुनिकीकरण से दूर होना... या फीर यूं कहें की कृषि कार्यों के लिए उचित कृषि यंत्रों का नहीं होना... लेकिन धिरे-धिरे समय बदलता गया और किसानों के लिए खेती सरल होता गया... कंपुनीयों ने किसानों के कार्य को सरल बनाने और उपयोगी बनाने के लिए कई तरह के उपयोगी कृषि यंत्र बनाने शुरू कर दिए... लेकिन,किसानों को और बेहतर देने के लिए भी लगातार प्रयोग हो रहे हैं और आज किसानों के लिए कई सस्ते कृषि यंत्र उपलब्ध है...

बिहार के मधुबनी जले में स्थित बिहार माँ दूर्गा एग्रो इण्डस्ट्रीज प्रा0 लि0 के द्वारा एग्रीमैक्स राईस-व्हीट सीडर तैयार किया गया है... यह यंत्र किसानों के लिए काफी मददगार है और यह किसानों के लिए काफी कारगर है... किसानों द्वारा फसलों की पंक्तिबद्ध खेती के लिए काफी उपयोगी है यह कृषि यंत्र या फीर इसे धान तथा गेहूँ की फसलों की पंक्तिबद्ध खेती हेतु एक वरदान भी कह सकते हैं...

आइये देखते हैं इस सस्ते और सरल मानव- चालित यंत्र की विशेषताएँ :

-जोते हुए खेत में धान के जलशोषित एवं हल्का अंकुरित बीज की सीधी बुआई के लिए उपयुक्त.

-धान तथा गेहूं की किसी भी प्रजाति की पंक्तिबद्ध बुआई में सक्षम.

-सही बीज दर के लिए यंत्र का कैलिब्रेशन अत्यंत आसान.

-फसल के पंक्ति में होने के कारण धान में कोनेवीडर तथा गेंहूं में वीडर से खर-पतवार नियंत्रण के लिए उपयुक्त.

-परंपरागत विधि की तुलना में इस यंत्र से बुआई किये हुए धान में ज्यादा कल्ले का निकलना.

-दोनों फसलों की उत्पादक्ता में न्यून्तम 8-10 प्रतिशत तक वृद्धि.

-प्रति एकड़ रोपनी खर्च में कम से कम 3000 से 3500 रु0 तक की बचत.
-धान की उपज के लिए बिचड़ा तथा खेत में कदवा करने की आवश्यकता नहीं.

-मूल्य में सस्ता तथा छोटे-छोटे खेतों एवं लघु/ सिमान्त किसानें के लिए वरदान.

-यंत्र परिचालन में अधिक तकनिकी ज्ञान की आवश्यकता नहीं एवं न्यूनतम रख-रखाव की जरुरत.

-मानव-चालित इस यंत्र के परिचालन के लिए ट्रैक्टर, पावर टीलर इत्यादि की आवश्यकता नहीं.

-मुँग और मसूर की पंक्तिबद्ध बुआई के लिए भी उपयुक्त.

-यंत्र को खेत तक ले जाने के लिए रोड की आवश्यकता.

इसके साथ ही एक प्रमुख बात यह है की एग्रीमैक्स राईस-व्हीट सीडर से धान एवं गेहूँ की बुआई के पश्चात क्रमश:  कोनोवीडर तथा वीडर से खर-पतवार नियंत्रण करने का पौधा ज्यादा विकास करता है और उपज भी ज्यादा होती है...

यंत्र का मूल्य :

रु 10,000/ - Ex Factory (फैक्ट्री से ले जाने पर)

रु 12,000/- For Bihar (आपके शहर में)

यंत्र के बारे में अनुदान व अन्य संबंधीत जानकारीयों के लिए आप निचे दिए हुए नंबर्र पर संपर्क कर सकते हैं...

जिम्मी (पत्रकार)

कृषि जागरण

नई दिल्ली

और खबर से संबंधित कंपनी

बिहार मँ दूर्गा एग्रो इणडस्ट्रीज प्रा0 लि0

0943187000, 09204655800, 09431860000

Comments