1. लाइफ स्टाइल

बरसात में तेज़ी से फैलती है यह बिमारियां, ऐसे रखें सेहत का ख्याल

बरसात का मौसम किसे अच्छा नहीं लगता. ठंडी- ठंडी हवा और चारों तरफ हरियाली ही हरियाली मन को ऐसा आभास कराती है, जैसे पूरी कुदरत खिल-खिलाकर हंस रही है. वैसे हम भी आपको यही सलाह देते हैं कि बरसात के मौसम में काम से कुछ फुर्सत निकालकर मौसम का आनंद ले. लेकिन साथ ही साथ अपनी सेहत का भी ख्याल रखें.

गौरतलब है कि बरसात के समय में मौसम तेज़ी से बदलता है, जिस कारण अनेक बीमारियों का आगमन अचानक होता है. सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है खान-पान के स्टाईल पर, क्योंकि ज्यादातर बीमारियां मूंह से होकर ही आप तक पहुंचती है. बरसात के मौसम आपको और किन-किन बातों का ख्याल रखना चाहिए आइये हम आपको बताते हैं.

स्ट्रीट-फ़ूड को करें अवॉइड

बरसात के मौसम में साफ-सफाई रखना एक बड़ी समस्या होती है. बाहर ठेले के खाने अधिकतर इस मौसम में मक्खी-मच्छर एवं अन्य प्रकार के कीटों से प्रभावित रहतें हैं. चटपटे एवं लाजवाब लगने वाले यह फुड कीटाणु से इतने दुषित होतें हैं कि इंसान को पल भर में ही बिमार कर देते हैं.

मच्छरों एवं कीटों से बचे

मानसून में मच्छरों एवं कीटों का आतंक चर्म पर होता है. इसलिए जरूरी है कि इन बरसात के मौसम में पानी जमा होने वाले सारे जगहों की सफाई की जाए एवं दवाईयों का छिड़काव किया जाए. अपने घर में कूलर के पानी को अच्छे से जाँच ले और रोज़ाना उस पानी को बदलें. जितना हो सके पूरे बदन को ढ़ंकने वाले कपड़ों को पहने एवं मच्छरदानी का प्रयोग करें.

बरसात में भीगना अपने आप में आनंद है, लेकिन ज्यादा भीगने से आप बीमार भी पड़ सकते हैं. इसलिए जरूरी है कि आप जब भी घर से बाहर स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि महत्तवपूर्ण कामों से जाए छाता, रेन कोट आदि लेकर जाएं. इस मौसम में अक्सर पॉवर कट लगते हैं, इसलिए मोबाइल फोन, इंवार्टर, लैपटॉप आदि उपकरण चार्ज करके रखें.

सम्बन्धित खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

बिहार-असम में बाढ़ का तांडव और सियासत की नौटंकी

English Summary: take care of your health in monsoon season

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News