1. लाइफ स्टाइल

देसी घी खाने के लाखों फायदे, घर पर बनाने का आसान तरीका

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
ghee

हम शरीर को फिट रखने के लिए अपने खान-पान में देसी घी को शमिल करते है, लेकिन बदलते वक्त के साथ लोगों की सोच भी बदल गई है. जी हां, आजकल ज्यादातर लोग देसी घी खाने से बचना चाहते है, लेकिन यह हमारे शरीर के बहुत फायदेमंद होता है. पुराने जमाने में घर-घर देसी घी बनाया जाता था, लेकिन अब ऐसा ज्यादातर संभव नहीं होता है. इसलिए हम सभी बाज़ार से ही घी खरीद लेते हैं, फिर भी उसमें मिलावटी होने का डर बना रहता है. ऐसे में अच्छा होगा कि आप अपने घर पर ही घी तैयार कर लें. इससे आपको मिलावट का डर भी नहीं रहेगा. तो आज हम आपको घर पर देसी घी बनाने की विधि बताने जा रहे है.

आपको बता दें कि आजकल हर घर में दूध का इस्तेमाल होता है, लेकिन हम लोग दूध के ऊपर की मलाई का क्या करते है. शायद कुछ भी नहीं. हम इसी की मदद से घी बना सकते है. इससे पैसों की बचत होगी ही, साथ ही घर पर शुद्ध देसी घी खाने को भी मिलेगा. सबसे पहले रोजाना दूध उबालने के बाद उसकी मलाई को किसी ढक्कन वाले बर्तन में जमा करके ही रखें. इस बर्तन को फ्रिज में ही रखें.  जब ज्यादा मात्रा में मलाई जमा हो जाए, तो मलाई को एक बड़े बर्तन में डालकर धीमी आंच पिघलने के लिए रख दें.

milk

मलाई को बीच-बीच में चलाते रहें, ताकि बर्तन की तली में मलाई चिपके नहीं. इसके थोड़ी देर बाद घी, मलाई से अलग होने लगेगा. बता दें कि घी बनने में कितना वक्त लगेगा, यह मलाई की क्वॉलिटी पर निर्भर करता है. जब घी में हल्का दरदरापन लगने लगे, तो एक चुटकी से भी कम नमक मिला दें. इसके बाद आंच बंद कर दें और जब घी ठंडा होने के लिए रख दें. अब इसको एक जार में छानकर रख लें. जब घी गाढ़ा हो जाए, तो नींबू डाल दें. जिससे घी जल्दी निकल जाएगा. साथ ही नींबू डालने की वजह से घी नहीं जलेगा.

इस तरह आप घर में ही देसी घी तैयार कर सकते है. जोकि एकदम शुद्ध होगा. अगर आप अच्छा घी बनान चाहते हैं, तो करीब 10 से 15 दिनों तक दूध की मलाई उतारते रहे और फिर घी बनाएं.

ये भी पढ़ें: देसी घी खाने के साथ-साथ अब लगाने के भी फायदे

English Summary: Millions of benefits of eating desi ghee, easy way to make at home

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News