1. लाइफ स्टाइल

रिसर्च: लिपस्टिक बना सकती है महिलाओं को पागल !

बदलते वक्त के साथ लोगों में व्यापक स्तर पर परिवर्तन आये है चाहे वो परिवर्तन खाने में हो या पहनावे में हो. गौरतलब है कि आजकल सबसे अलग दिखने की चाह में लोग पश्चिमी सभ्यता को अपना रहे है. इसे अपनाने में कोई बुराई नहीं पर अपनी सभ्यता को भूलना भी कौन -सी समझदारी है. आज की पीढ़ी पर तो खूबसूरत दिखने की चाह इतनी हावी हो गई है कि वे कम उम्र में ही ऐसे मेकअप  उत्पाद का इस्तेमाल कर रही है. जोकि त्वचा को काफी नुकसान पहुंचा रहा है. जिस वजह से उनकी प्राकृतिक सुंदरता कही खो गयी है. इस नकली सुंदरता की वजह से उन्हें भी नहीं पता की वे अपने लिए कितनी तरह की बीमारियों को न्योता दे रहे है.

अगर बात की जाए महिलाओं की तो उन्हें लिपस्टिक लगाना बहुत पसंद होता है. क्योंकि, यही ऐसा कॉस्मेटिक प्रोडक्ट होता है जिसको लगाने से  वह बेहद खूबसूरत और आकर्षक दिखती है. लेकिन अब समय आ गया है इस कड़वी सच्चाई को स्वीकार करने का कि आपके चेहरे की खूबसूरती को निखारने वाली लिपस्टिक आपके लिए बेहद खतरनाक है. अमेरिका में लिपस्टिक पर अध्ययन किए गए रिपोर्ट से से जो बात सामने आई है वह सुन कर आपके होश उड़ जाएंगे.

गुड मार्निंग अमेरिका पत्रिका द्वारा  अध्ययन

हाल ही में अमेरिका में छपने वाली पत्रिका ‘गुड मार्निंग’ ने एक अध्ययन करवाया है, जिसमें कई अच्छी ब्रांड की कुल 22 लिपस्टिक  को लिया गया. जिसमें से लगभग 55 प्रतिशत लिपस्टिकों में विषैले तत्व पाये गए. जिसमें से 12 लिपस्टिक उत्पादों में अधिक मात्रा में सीसा पाया गया. इसके मद्देनजर बोस्टन सीसा विषाक्तता रोकथाम कार्यक्रम(Boston Lead Poison Prevention Program) के डॉ. शॉन पालफ्रे ने महिलाओं को चेतावनी देते हुए कहा है कि सीसे(lead) की कम मात्रा के संपर्क में आने से भी कई तरह की शारीरिक और मानसिक बीमारियों होने का खतरा बढ़ जाता है.

डॉ. शॉन पॉलफ्रे  के मुताबिक, सीसे के तत्व हमारे शरीर में जा कर सबसे पहले हमारे दिमाग पर असर डालते है जिससे धीरे -धीरे हमारे व्यवहार में चिड़चिड़ापन और सीखने की क्षमता कमजोर होती है.

English Summary: lipstick can make a women mad according to this research

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News