Lifestyle

जानें सफ़ेद शुगर और ब्राउन शुगर के छुपे हुए राज़

ब्राउन शुगर और सफ़ेद शुगर में क्या अंतर है ? यह सवाल शायद हर किसी के दिमाग में उत्पन्न होती है. और इसके साथ यह सवाल भी उत्पन्न होती है की इन दोनों में हमारे स्वास्थ्य के लिए कौन बेहतर है. तो चलिए आज इस सवाल के जवाब को ढ़ूंढ़ते हैं और इन दोनों के बीच अंतर की जानकारी प्राप्त करते हैं.

सफ़ेद शुगर बनाने की विधि :

सफ़ेद शुगर बनाने के लिए गन्ने के जूस को निकालकर उसे क्रिस्टल का रूप दिया जाता है. फिर उसके अंदर से गंदगी को निकालकर क्रिस्टल्स को गर्म पानी में डाला जाता है. और इस प्रकार से अलग -अलग प्रकार के सफ़ेद चीनी के दाने बनते हैं. यह चीनी ज्यादा मिठी, सुखी और चिपचिपी होती है. इसमें रासायनिक तत्व शामिल होते हैं.

ब्राउन शुगर बनाने की विधि :

ब्राउन शुगर बनाने में उसके अंदर गुड़ डाला जाता है. जिससे उसका रंग भूरा हो जाता है. यह कम मीठी होती है और इसके अंदर कम रासायनिक तत्व होते हैं. ब्राउन शुगर में विटामिन्स, मिनरल्स, आयरन और कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है इसमें गुड़ की मात्रा नियंत्रित होने के कारण यह वजन को नियंत्रण रखने में सहायक नहीं होती.

शुगर में कैलोरी की मात्रा :

ब्राउन शुगर :100 ग्राम चीनी में 377 कैलोरी होती है, जिसमें से इसमें 10 प्रतिशत ही गुड़ की मात्रा पाई जाती है इसमें तरल पदार्थ (लिक्विड) की मात्रा बहुत अधिक होती है.

सफ़ेद शुगर : 100 ग्राम चीनी में 387 कैलोरी होती है, जिसमें गुड़ की मात्रा 5 प्रतिशत पाई जाती है और इसमें तरल पदार्थ (लिक्विड) की मात्रा बहुत कम होती है.

ब्राउन शुगर और सफ़ेद शुगर में ज्यादा फर्क नहीं होता दोनों का अपना स्वाद, रंग और अपने गुण है.

ऐसी ही दिलचस्प जानकारियों को पानी के लिए आप हमारी वेबसाइट पर क्लिक करें

मनीशा शर्मा, कृषि जागरण



Share your comments