चिंता या तनाव को रखे खुद से दूर, नहीं तो हो सकती है ये गंभीर समस्या !

चिंता या तनाव (Stress) एक तरह का मनःस्थिति से उपजा विकार है. इसके वजह से मन अशान्त, भावना अस्थिर एवं शरीर अस्वस्थता महसूस करता हैं. ऐसी स्थिति में हमारी कार्यक्षमता भी प्रभावित होती है और हमारी शारीरिक व मानसिक विकास यात्रा में भी व्यवधान उत्पन्न होता  है. यह कोई आम समस्या  नहीं है। इस समस्या से आजकल हर 3 में से 1 इंसान जूझ रहा है। इसके वजह से कई खतरनाक बीमारियां भी हो रही है. ऐसे में इस समस्या से निजात पाने के लिए मेडिटेशन के साथ-साथ अच्छे मनोवैज्ञानिक की मदद लेना भी बहुत जरूरी है. तो आइये आज हम आपकों स्ट्रेस की वजह से होने वाली समस्याओं  और उसके समाधान के बारे में बताते है-

दिमाग के आकार को सिकोड़ देना

बहुत ज्यादा चिंता दिमाग के आकार को सिकोड़ देता है. जो आगे चलकर बाइपोलर डिसआर्डर की परेशानी पैदा कर सकता है. अभी हाल ही में न्यूरोलॉजी में प्रकाशित हुई एक स्टडी के अनुसार, तनाव की वजह से दिमाग के ग्रे मैटर का हिस्सा कम होने लगता है. यह दिमाग को वो भाग है जो विचारों, आत्म-नियंत्रण और नई यादों को विकसित करने का काम करता है. इसके सिंकुड़ने से इंसान की मानसिक संतुलन बिगड़ सकती है. इसके अलावा एक अन्य स्टडी के मुताबिक, जो लोग लगातार तनाव में घिरे रहते हैं, उनके दिमाग में कई तरह के बदलाव आने शुरु हो जाते हैं. जो बाइपोलर डिसआर्डर को बढ़ावा देता है.

चिंता या तनाव से छुटकारा

चिंता या तनाव से निजात पाना कोई आसान काम नहीं है लेकिन इसके लिए नियमित प्रयास करना बहुत जरुरी है. इसके लिए आप इन उपायों की मदद ले सकते है

1. आप अपने मन के विचारों को दूसरों के साथ हमेशा शेयर करे.

2. कभी अकेले न बैंठे- अपने परिवार के साथ ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त बिताएं.

3. मेडिटेशन का सहारा ले.

4. अपनी पसंद का काम करें.

5. लाइफस्टाइल में सुधार करें.

6. रात में जल्दी सोने और सुबह जल्दी उठने की आदत डालें.

7. भोजन में हैल्दी आहार को शामिल करे.

विबेक राय, कृषि जागरण

Comments