1. लाइफ स्टाइल

ज़्यादा तनाव बच्चे नहीं बल्कि ये देते है, जानकर हैरान रह जाएंगे आप..!

आमतौर पर बच्चे स्वभाव से जिद्दी और शरारती होते है. लेकिन कभी-कभी इनका ये स्वभाव घर के अभिभावकों के लिए सिरदर्द बन जाता है. ऐसा अक्सर देखने को मिलता है कि बच्चे के शरारती व जिद्दी स्वभाव के वजह से अक्सर कई मां तनाव में रहने लगती हैं. मगर अभी हाल ही में हुए एक स्टडी से जो खुलासा हुआ है वो सबको हैरान कर देने वाला हैं. दरअसल स्टडी से यह खुलासा हुआ है कि बच्चों के अपेक्षा पति अपनी पत्नियों को अधिक तनाव देते हैं. इसकी पीछे की वजह पति का धोखेबाज होना या दुर्व्यवहार करना नहीं बल्कि परिवार की जिम्मेदारियों को ठीक से नहीं निभाना बताया गया है.

बच्चों के अपेक्षा अधिक तनाव देते है पति

दरअसल, सर्वे में 7 हजार महिलाओं को शामिल किया गया और उन सभी से घरेलू समस्याओं से सम्बंधित कुछ सवाल पूछे गए. सर्वे के दौरान उन सभी महिलाओं से यह भी प्रश्न पूछा गया कि  आपकों किन कारणों से तनाव का सामना करना पड़ता है और इसका जिम्मेदार घर का कौन-सा सदस्य है? तब 46 प्रतिशत महिलाओं ने बताया कि उनके पतियों ने उन्हें बच्चों की तुलना में अधिक तनाव दिया है. इसके पीछे की वजह परिवार की जिम्मेदारियों को ठीक से नहीं निभाना बताया.

गौरतलब है कि सर्वे में 4 में 3 महिलाओं ने यह भी स्वीकार किया कि घरेलू कार्यों और बच्चों की परवरिश में उनको अपने पति की पर्याप्त सहायता नहीं मिलती जिस वजह से उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. सर्वे में शामिल महिलाओं के मुताबिक दुख तब और बढ़ जाता है, जब उनको उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन करने के बावजूद भी श्रेय नहीं दिया जाता.

ऐसी परिस्थिति में महिलाएं क्या करें?

अगर किसी महिला को अपने पति से अतिरिक्त तनाव मिल रहा है जिसे झेलना गवारा नहीं है तो वह इस विषय पर अपने पति से खुलकर बातचीत कर ले. घर की जिम्मेदारियों को आपस में बांट ले. सामानों की खरीदारी, बच्चों की पढ़ाई और अन्य घरेलू काम को आपसी तालमेल बिठाकर करें.

विवेक राय, कृषि जागरण

English Summary: You do not have to stress more children, but you will be surprised to know ..!

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News