1. लाइफ स्टाइल

जीन्स पहनते हैं तो सावधान !!!

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा

लड़के हो या लड़कियां फैशन के सब दीवाने है. अच्छा दिखने की चाह में आजकल की पीढ़ी क्या कुछ नहीं कर रही है. हर तरह के बेढंगे- बेहूदा फैशन तक अपना रही है. जैसे फट्टी जीन्स और जैकेट.  अगर हम इन कपड़ो को फैशन की दृष्टि से देखें तो यह सब हमें कूल, स्टाइलिश दिखाते है. पर अगर हम इसे सेहत की दृष्टि से देखे तो यह फैशन भविष्य में हमारे लिए एक बड़ी समस्या का कारण भी बन सकता है। जो हमें बहुत गंभीर बीमारियां भी दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें - कोट सिलवाना है तो यहां नहीं जाना है !

आज हम बात कर रहे है, टाइट जीन्स के बारे में, जिसकी लड़कियों से लेकर अब लड़के भी दीवाने बनते जा रहे है. लेकिन फैशनेबल दिखने के चक्कर में वह अपनी सेहत के साथ भी खिलवाड़ कर रहे है.  इसकी वजह से कई सेहत समबन्धित बीमारियां हो रही है. यहां तक कि यह कैंसर जैसी खतरनाक बिमारी को भी न्यौता दे रही है.

चलिए जानते हैं इन बीमारियों के बारे में :

ब्लड सर्कुलेशन (रक्त परिसंचरण):

विशेषज्ञों का कहना है कि जब हम टाइट जीन्स पहनते है तो हमारा ब्लड सर्कुलेशन हमारी  जांघों (थाइस ) में जा कर रुक जाता है और हमारे पैरों के पीछे का भाग भी फूलने लग जाता है. जिस कारण कई व्यक्तियों को इस वजह से चक्कर भी आ जाता है. हाल ही में ऐसे कई मामले देखने को मिले है.

यूट्रस इंफेक्शन (गर्भाशय का संक्रमण)

टाइट जीन्स की वजह से कई लोगों को इन्फेक्शन भी हो जाता है. कई लोगों को तो इस इन्फेक्शन का पता देर में चलता है. जिस कारण महिलाओं का सही समय से इलाज़ भी नहीं हो पाता और जिस कारण  उनके ट्यूब में ब्लॉकेज हो जाती और पुरषों के अंडकोष में बहने वाले रक्त संचार के रुकने से अंडकोष में विकृति आ जाती है.

ये भी पढ़ें - न करें हीटर इस्तेमाल वरना होना पड़ेगा बीमारी का शिकार

टाइट जीन्स से टांगों में सूजन आनी शुरू हो जाती है. जिससे कम उम्र में जोड़ों में दर्द की समस्या होने लगती है. अगर आप 6 -7 घंटे से ज्यादा जीन्स पहनते हो तो इस आदत को कम कर दें. यह आपके लिए काफी नुकसानदेह हो सकती है. न ही सारा दिन इसको पहन कर बैठे रहें और न ही सारा दिन खड़े रहे..

English Summary: bad effects of wearing tight jeans

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News