MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. औषधीय फसलें

कभी सुना है विदंगा का नाम, यूपी-बिहार में पाया जाता है ये औषधीय पौधा, जानें खासियत व कमाई

क्या आपने कभी विदंगा का नाम सुना है. अगर नहीं तो आइए इसके बारे में विस्तार से जानें.

मुकुल कुमार
मुकुल कुमार
बड़े काम का है विदंगा जानें खासियत
बड़े काम का है विदंगा जानें खासियत

हमारे देश में बहुत कम ही लोग विदंगा के पौधे के बारे में जानते होंगे. यह एक प्रचलित औषधीय पौधा है. जो कई बड़े व खतरनाक रोगों को खत्म करने में काम आता है. यह औषधीय पौधा आमतौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार में पाया जाता है. इसे वायविडंग के नाम से भी जाना जाता है. खास बात यह है कि इस पौधे की लकड़ी, फल व पत्तियां सबकुछ औषधीय कार्यों में इस्तेमाल हो सकती हैं. तो आइए इस औषधीय पौधे से जुड़ी प्रमुख बातों पर एक नजर डालें.

पाचन स्वास्थ्य को करता है दुरुस्त

विदंगा अपने कृमिनाशक गुणों के लिए जाना जाता है. इसका मतलब है कि यह आंतों के कीड़ों और परजीवियों को बाहर निकालने में मदद करता है. इसका उपयोग अक्सर कृमि संक्रमण के कारण होने वाले पाचन विकारों के इलाज में किया जाता है.

दर्द से राहत दिलाने में करता है मदद

इसके पौधे में सूजन-रोधी और एनाल्जेसिक के गुण पाए जाते हैं. जो विभिन्न सूजन संबंधी स्थितियों के प्रबंधन और दर्द से राहत दिलाने में उपयोगी साबित होते हैं. इसके अलावा, विदंगा का उपयोग अस्थमा, खांसी और ब्रोंकाइटिस जैसी श्वसन संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है. यह कंजेशन को दूर करने और श्वसन संबंधी परेशानियों से राहत दिलाने में मदद करता है.

यह भी पढ़ें- जानें किन पौधों को अपने बगीचे में लगाने पर आप रहेंगे हमेशा निरोगी

दंत स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद

दांत को साफ करने के लिए विदंगा के चूर्ण का उपयोग किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि इसमें रोगाणुरोधी गुण होते हैं. जो दांत और मसूड़ों की बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं. इसके अलावा खुजली, चकत्ते और एक्जिमा जैसी त्वचा की स्थितियों के प्रबंधन के लिए भी विदंगा का उपयोग बाहरी रूप से किया जाता है. यह सूजन को कम करने में मदद करता है और त्वचा की जलन से राहत देता है.

वजन घटाने में भी सहायक

विदंगा में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो चयापचय में सुधार करने और वजन घटाने में मदद करते हैं. इसे अक्सर आयुर्वेद में वजन घटाने के फॉर्मूलेशन में शामिल किया जाता है. विदंगा घने जंगलों में उच्च नमी वाले क्षेत्रों में प्राकृतिक रूप से विकसित होता है. यह औषधीय पौधा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), बिहार (Bihar) और उसके आसपास के राज्यों के वन एवं उपजाऊ भूमि में सामान्य रूप से पाया जाता है.

विदंगा का पौधा एक लता के रूप में विकसित होता है और इसके फल लाल रंग के होते हैं. बता दें कि बाजार में दवा बनाने वाली कंपनियों के बीच विदंगा के पौधों की काफी मांग है. वह इसके पौधों के लिए अच्छी खासी कीमत देने को तैयार रहती हैं.

English Summary: Vidanga grown in up bihar know interesting facts about this medicinal plants Published on: 09 July 2023, 04:41 IST

Like this article?

Hey! I am मुकुल कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News