MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. पशुपालन

Desi Jugaad: पैसे की कमी के चलते किसान ने अपनाया खेत में देसी जुगाड़

आपने खेत की जुताई (plowing field) के लिए बहुत जुगाड़ देखें होंगे. लेकिन आज हम आपको ऐसे एक किसान भाई के तरीके के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने बिना किसी लागत से खेत की जुताई की. सोशल मीडिया पर भी जुताई का यह देसी जुगाड़ (desi jugaad) तेजी से वायरल हो रहा है.

लोकेश निरवाल
लोकेश निरवाल
खेत जुताई का देसी जुगाड़
खेत जुताई का देसी जुगाड़

आज के समय में उन्नत और अच्छी पैदावार प्राप्त करने के लिए किसान भाइयों को खेत की अच्छे तरीके से जुताई करनी चाहिए. जिसके लिए किसान ट्रैक्टर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन कुछ किसान भाई अपने खेत में ट्रैक्टर की जगह पशुओं के द्वारा भी खेती की जुताई करते हैं. यह ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि उनके पास ट्रैक्टर खरीदने के लिए पैसे नहीं होते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज के समय में उन्नत खेती करने और किसानों की मदद के लिए सरकार कृषि उपकरणों पर कुछ सब्सिडी भी उपलब्ध करवाती है. ताकि वह खेती के लिए ट्रैक्टर खरीद पाएं. लेकिन फिर भी हमारे देश में ऐसे कुछ गांव हैं, जहां सरकार की सब्सिडी का सही तरीके से लाभ किसानों को नहीं मिल पा रहा है. यह भी देखा गया है कि कुछ ग्रामीण इलाकों में सब्सिडी मिलने के बाद भी किसान ट्रैक्टर नहीं खरीद पाते हैं. क्योंकि इनके पास सब्सिडी के बाद भी कुछ प्रतिशत देने के लिए भी पैसा नहीं होता है. आज हम आपको ऐसे ही एक किसान भाई के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके पास पर्याप्त धन नहीं होने की वजह से अपने खेत में पशुओं से खेती करवाता है और यह पशु कोई जोटा, भैसा नहीं है, बल्कि घोड़ा है. जिससे किसान अपने खेत में काम करवा रहा है. दूसरे किसान भाई भी इस किसान के अनोखे तरीके को देखकर हैरान हैं.

खेत जुताई के लिए किसान का देसी जुगाड़

इस समय सोशल मीडिया (social media) पर महाराष्ट्र के वाशिम जिले के शेलगाव नामक गांव के किसान भाऊराव धनगर की खेत को जुताई करते हुए वीडियों सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है.

वीडियो में दिखाया गया है कि यह किसान घोड़ों की मदद से अपने खेत में जुताई कर रहा है. Zee Hindustan के मुताबिककिसान भाऊराव के पास खेत की जुताई (plowing field) करने के लिए न तो बैल जोड़ी है और न ही ट्रैक्टर खरीदने के लिए राशि है. किसान बताता है कि ट्रैक्टर से खेत की जुताई करने पर बहुत अधिक लागत लग जाती है. जो मेरे पास नहीं है. लेकिन घोड़े से खेत की जुताई करने से उस किसान पर किसी भी तरह की लागत नहीं लगती है.

ये भी पढ़ेंः बुलेट का देसी जुगाड़, बाइक खर्च में करें पूरे खेत की जुताई-गुड़ाई

बता दें कि वर्तमान समय में सोशल मीडिया पर यह चर्चा का विषय बना हुआ है और साथ ही इससे जुड़े फोटो भी तेजी से वायरल हो रहे हैं.

English Summary: Horse Farming Due to lack of money, the farmer adopted indigenous jugaad in the field Published on: 28 February 2023, 03:36 IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News