1. पशुपालन

अपने डेयरी फार्म के लिए सही आवास चुनना

Dairy Farm

कई डेरी फार्म की सफलता या विफलता सीधे आवास के प्रकार से जुड़ी हुई होती है. कई डेरी फार्म में जानवरों का प्रबंधन करना आसान है, क्योंकि उनके द्वारा चुने गए आवास के प्रकार अच्छा है. कुछ डेरी फार्म  में आवास के प्रकार के कारण किसान विभिन्न प्रकार की समस्याओं में फंस गए हैं.

जिस प्रकार के आवास आप अपने डेयरी फार्म के लिए चुनते हैं वह उस श्रम को भी निर्धारित करता है जिसकी आपको प्रतिदिन आवश्यकता होगी. स्मार्ट डेयरी किसान डेयरी आवास संरचनाओं का निर्माण करते हैं जो पशुपालन में रोगों को कम करते हैं. एक उचित आवास व्यवस्था पशुपालन में खर्च को कम करती है.

इससे पहले कि आप अपने डेयरी फार्म को बनाना शुरू करें, आपको कुछ महत्वपूर्ण कारकों पर विचार करना होगा

पानी की उपलब्धता

जब आप अपने डेरी फार्म  के आवास का स्थान चुनते हैं, तो आपको कई बातों का ध्यान रखना होगा. सबसे महत्वपूर्ण बात  पर्याप्त पानी की उपलब्धता है. एक डेरी पशु को प्रतिदिन 150-200 लीटर पानी की आवश्यकता होती है. अशुद्धियों और प्रदूषकों के लिए पानी की गुणवत्ता की जाँच करें. डेरी पशुओं के लिए पानी अच्छी गुणवत्ता और पीने योग्य होना चाहिए. इन चीज़ो से आपके जानवरों को नुकसान पहुंचना नहीं चाहिए.

ढलान

मध्यम से बड़े पैमाने के डेयरी फार्मों को बनाने के लिए ऐसी जमीन लेने का प्रयास करें जो ऊंचा हो और आसपास की तुलना में ऊपर उठाया हुआ हो. ऐसा इसलिए है, क्योंकि डेयरी संचालन के लिए हर रोज गीली खाद हटाने की ज़रुरत होती है. ये दुर्गंध से भी बचने में मदद करता है.

बाजार

यदि आप अपने डेरी फार्म को ग्राहकों या बाजार से बहुत दूर सेट करते हैं तो इससे आपकी परिवहन लागत बढ़ सकती है. यदि आपके ग्राहक आपके डेरी फार्म  से दूध ले जाते हैं, तो सुनिश्चित करें कि वे आपके डेरी फार्म  तक आसानी से पहुंच सकते हैं. अगर आप बाजार को समझकर डेरी फार्म  बनाते हैं तो आपको अपना दूध कम कीमत पर नहीं बेचना पड़ेगा.

चारा उपलब्धता

सभी डेयरी पशुओं को हरे चारे की आवश्यकता होती है जैसे मक्का, अल्फ़ा, नैपियर घास इत्यादि. कड़ा फ़ीड, जिसे कंसन्ट्रेट भी कहा जाता है, लंबे समय तक संरक्षित किया जा सकता है. आपको अपने डेयरी फार्म के पास फ़ीड और चारे की उपलब्धता का पता लगाना होगा. यदि आप हरा चारा उगाना चाहते हैं तो भूमि अच्छी गुणवत्ता की होनी चाहिए ताकि आप चारे से अच्छी उपज प्राप्त कर सकें. आपको अपने डेयरी फार्म में साइलेज तैयार करने की योजना बनानी चाहिए क्योंकि साइलेज बनाने से डेरी फार्म में मुनाफा बढ़ता है.

मौसम की स्थिति

मौसम की स्थिति कैसी भी हो, उससे आपके जानवरों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए. उसके लिए आपको अपने डेयरी आवास डिजाइन को अनुकूलित करने की आवश्यकता होती है. भारी वर्षा वाले क्षेत्रों में आवास की संरचना ऐसी बनाई जानी चाहिए कि यह भारी वर्षा और तेज हवाओं से टूट न जाए. गर्म शुष्क क्षेत्र के लिए खुले आवास संरचना के उपयुक्त डिजाइन में खुले बाड़े के बीच में आराम क्षेत्र होना चाहिए जिसके चारों ओर घने पेड़ लगे हुए हों. यह गर्म धूप के दिनों में पशुओं के लिए छाया प्रदान करता है तथा पशुओं को सूरज की सीधी किरणों से बचाता है. शीतोष्ण क्षेत्रों में आंशिक रूप से खुले आवास तथा दीवारों के साथ बंधी हुई प्रणाली का प्रयोग किया जा सकता है. इस प्रणाली में पशुओं को भारी बर्फ गिरने, बारिश और तेज हवा से बचाने के लिए उचित ध्यान दिया जाता है.

Dairy Housing

डेरी आवास प्रणालियों के प्रकार जिन्हें आप चुन सकते हैं

तीन तरीके हैं जिनसे जानवरों को आवास संरचनाओं में रखा जा सकता है: ढीले आवास या लूज़ हाउसिंग, अर्ध ढीले आवास या बंधे हुए सिस्टम.

ढीले आवास या लूज़ हाउसिंग

जब जानवरों को ढीला रखा जाता है और वे स्वतंत्र रूप से घूमते हैं, तो इसे ढीला या आवास लूज़ हाउसिंग कहा जाता है. लूज़ हाउसिंग में कुछ समय के लिए पशुओं को बाँध कर रखा जाता है जैसे कि दूध दुहने के वक्त और चारा खिलने के समय. लूज़ हाउसिंग प्रणाली सभी आकारों के खेतों के लिए उपयुक्त है. इसमें जानवर कभी भी पानी पी सकते हैं. बारिश के परिमाण के अनुसार गोबर को अलग-अलग तरीको से विभिन्न डेरी फार्म्स से निकला जाता है. आम तौर पर गोबर को एक या दो महीने के अंतराल में साफ किया जाता है. सूर्य के प्रकाश के कारण खुले क्षेत्रों में खाद सूख जाती है और पाउडर में परिवर्तित हो जाती है. यह जानवरों के लिए एक अच्छी सूखी और नरम बिस्तर सामग्री या बेडिंग के रूप में काम करता है. एक पशु को कम से कम 150 से 200 वर्ग फुट क्षेत्र प्रदान किया जाना चाहिए.

बंधे हुए या टाइड हाउसिंग सिस्टम

ये हाउसिंग सिस्टम हैं जहां जानवरों को एक ही जगह पर बांध कर रखा जाता है. पूरे शेड के ऊपर छत होता है और चारो तरफ दीवारें. उपयुक्त स्थानों पर खिड़कियां या वेंटिलेटर भी होते हैं. डेरी फार्म जो शहरों के पास या शहरों के अंदर स्थित हैं, उन्हें बहुत अधिक जगह नहीं मिलती है और इसलिए वे बंधे सिस्टम का विकल्प चुनते हैं.

अर्ध ढीला आवास

इस तरह के आवास में जानवरों को आम तौर पर बांध कर रखा जाता है, लेकिन दिन को कुछ समय के लिए ढीला छोड़ दिया जाता है . यह तब हो सकता है जब उन्हें चारा  दिया जा रहा हो या अन्य समय के दौरान. उन्हें रात भर आराम करने के लिए बाँध कर रखा जा सकता है और दूध पिलाने के समय छोड़ा जा सकता है. बारिश के दौरान भी उन्हें बांध के रखा जाता है. 

डेयरी फार्म बनाने से पहले जिन विभिन्न घटकों पर आपको विचार करना चाहिए

शेड

शेड वह संरचना है जिसके अंदर जानवर रहते हैं. शेड के नीचे दूध पिलाया और चारा खिलाया जाता है. आदर्श रूप से शेड जितना अधिक ऊँचा होगा, जानवरों को उतना अधिक वेंटिलेशन मिलेगा. शेड का निर्माण उत्तर- दक्षिण की दिशा में किया जाना चाहिए ताकि सुबह और शाम दोनों समय अपने शेड के अंदर पर्याप्त धूप आ सकें. यह शेड को सूखा रखने में भी मदद करता है. यदि आपके पास सही प्रकार का शेड है तो पशुओं का हीट स्ट्रेस या तनाव भी कम हो जाता है. छत को ऐसी सामग्री से बनाना चाहिए जो आसानी से गर्मी का संचार नहीं करती है या उसे अंदर आने नहीं देती.

फर्श

फर्श कंक्रीट से बना होता है खिलाने और खड़े होने के क्षेत्र में.  विश्राम क्षेत्रों में इसे मिट्टी से बनाया जा सकता है और पशुओं को नरम बिस्तर प्रदान किया जा सकता है.  कंक्रीट क्षेत्र, फ़ीड मेंजर से 8 फीट की चौड़ाई तक होनी चाहिए और नाली की ओर 2% की ढलान के साथ होनी चाहिए. सुनिश्चित करें कि फर्श का निर्माण अच्छे से किया जाये, क्योंकि डेयरी पशु 500 किलोग्राम से अधिक वजन के भी हो सकते हैं और कभी-कभी 700 किलोग्राम तक होते हैं.  फर्श को भी डिजाइन किया जाना चाहिए ताकि मूत्र जैसे तरल पदार्थ आसानी से निकल जाएं और फर्श यथासंभव सूखा रहे.

चरनी या मैनजर

एक मजबूत फीड मैनजर का निर्माण किया जाना है, जहां पशुओं को चारा परोसा जाता है. कम लागत वाले डेरी फर्मो में, आप कंक्रीट पाइप का उपयोग कर सकते हैं जिसे दो टुकड़ों में काटा जा सकता है. यह एक मैनजर बनाने का सबसे सस्ता तरीका है जहां जानवरों को चारा दिया जा सकता है. चरनी के नींव पर, लोहे के छल्ले को हर 3 फीट की दूरी पर लगाया जा सकता है. दूध दुहते समय जानवरों को बाँधने के लिए धातु के छल्ले का उपयोग किया जा सकता है.

पानी के कुंड

डेयरी पशुओं को हर समय पर्याप्त मात्रा में ताजा और साफ पानी मिलना चाहिए. यदि आपने कक्षों को बनाया है तो प्रत्येक कक्ष में दो पानी के कुंड होने चाहिए. उन्हें विपरीत पक्षों पर रखा जा सकता है ताकि गाय उनके निकटतम कुंड तक आसानी से पहुंच पाए. यदि कोई कुंड खाली हो जाता है या ख़राब हो जाता है तो जानवर अन्य कुंड का उपयोग कुछ समय के लिए कर सकते हैं.

दूध पिलाने और चारा खिलने का क्षेत्र

छोटे डेयरी फार्म में, आमतौर पर दूध दुहन किया जा सकता है जहां जानवर चारा खाने के लिए खड़े होते हैं. एक ढीली आवास व्यवस्था में, जानवरों को दूध दुहने के दौरान बांधा जाता है. मिलिंग क्षेत्र छोटे डेरी फार्म में खिलाने वाले क्षेत्र में होता है.

Dairy Housing Design

गर्म और नम क्षेत्रों में, दुधारू गायों के शेड को पंखे, निकास पंखे और फोगर या स्प्रिंकलर सिस्टम प्रदान किया जाना चाहिए. ग्रीष्मकाल में उच्च तापमान के कारण क्रॉस ब्रेडे गाय गर्मी के तनाव में आ जाती हैं और देखभाल न करने पर उनका दूध उत्पादन काफी कम हो जाता है.

गर्भ धारण करने की उनकी क्षमता भी कम हो जाती है. जब आप स्प्रिंकलर का उपयोग करते हैं, तो पानी गायों की त्वचा पर गिरता है और वाष्पित हो जाता है जिससे शरीर से गर्मी कम हो जाती है. यदि आप केवल एक स्प्रिंकलर या फोगर का उपयोग करते हैं और उनके साथ पंखो का नहीं, तो गायों के शरीर से पानी का वाष्पीकरण नहीं होगा और वे ठन्डे नहीं होंगे. यदि आपका डेरी फार्म  उच्च आर्द्रता के साथ एक जगह पर है, तो एक स्प्रिंकलर एक फोगर से बेहतर काम करेगा क्योंकि फोगर गाय की त्वचा को सीधे ठंडा करने के बजाय गाय के चारों ओर हवा को ठंडा करने का काम करते हैं. जो सबसे अच्छा काम करता है वह निकास पंखे, निकास पंखे और स्प्रिंकलर या फॉगर्स का संयोजन है.

डेरी आवास का निर्माण कैसे करें और डेयरी फार्म के डिजाइन प्राप्त करने के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें https://teplu.in/p/hindi-dairy-housing-shed-designs/?affcode=357385_imflcu2u

English Summary: Choosing the right housing for your dairy farm

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters