1. पशुपालन

लाभदायक डेयरी पशुपालन के लिए साइलेज कैसे बनायें, डेयरी फार्मिंग में साइलेज की जरूरत

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Teplu

Teplu

अच्छी गुणवत्ता वाले दूध का उत्पादन करने के लिए हमें पूरे वर्ष अच्छी गुणवत्ता वाले फ़ीड और चारे की आवश्यकता होती है, लेकिन ज्यादातर बार किसानों को उपलब्धता की कमी के कारण पशुओं को अच्छी गुणवत्ता वाला चारा उपलब्ध कराना मुश्किल हो जाता है.

उदाहरण के लिए जब आप हरी मक्का की खेती करते हैं, तो यह पोषक अवस्था में केवल 10 से 20 दिनों तक चलेगी और इसलिए पूरे साल हरा मक्का खिलाना मुश्किल हो जाता है, लेकिन साइलेज के साथ हम पौष्टिक मक्का और चारा अच्छी हालत में प्रतिदिन पशुओं को दे सकते हैं और पूरे वर्षभर खिला सकते हैं.

साइलेज का उपयोग करने से किसान के लिए श्रम लागत कम हो जाती है, क्योंकि हमें रोजाना खेतों में कटाई और परिवहन के लिए जाने की जरूरत नहीं होती. यह न केवल हमारे लिए श्रम समस्याओं को कम करता है, बल्कि श्रम उपलब्धता समस्याओं से निपटने में भी हमारी मदद करता है.

हमें अपने डेरी फार्म में चारे के लिए दैनिक काम करने के बजाय केवल 10 -12 दिनों के लिए काम करना है और पूरे वर्ष के लिए चारे को संरक्षित कर सकते हैं. साइलेज का उपयोग करने से हमें  अपने डेयरी फार्म के भविष्य को सुरक्षित करने में मदद मिलती है, क्योंकि हमने एक साल तक चारे की आपूर्ति का भण्डार बनाया होगा और हर दिन चारे के स्रोत खोजने की चुनौतियों का सामना नहीं करना पड़ेगा.

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि साइलेज का उपयोग करके पूरे वर्ष चारे की कीमत को बनाए रखकर दूध उत्पादन की लागत को कम किया जा सकता है, क्योंकि यह तब तैयार किया जाता है जब हरे चारे की कीमत सबसे कम होती है.

Silage for Dairy

Silage for Dairy

साइलेज बनाने में दिक्कतें

साइलेज बनाने में सफल होने के लिए हर पहलू पर पूर्ण ज्ञानआवश्यक है. जिन किसानों ने शुरूकिया, उन्हें सही नमी के स्तर के बारे में पता नहीं था, जो कि साइलेज को बनाने के लिए आवश्यकहैं. किसान गलत अनुपात से एडिटिव्स का इस्तेमाल करते है और साइलेज खराब हो जाता है, इसलिए भले ही उन्होंने साइलेज बनाना शुरू कर दिया हो, लेकिन फिर से साइलेज का उत्पादन करने से पीछे हट गए.

साइलेज बनाने के लिए किन फसलों का उपयोग किया जा सकता है और उनके कटाई की सही चरण

मक्का, शर्बत, जई, बाजरा, संकर नेपियर और ल्यूसर्नया अल्फाल्फा जैसी फसलों को साइलेज बनाने के लिए एकदम सही माना जाता है. साइलेज बनाने के लिए फसल को उस अवस्था में काटना पड़ता है, जब उसमें सबसे अधिक पोषण होता है. मक्का में जब आपसिल को दो में काटते हैं, तो दूध की रेखा स्पष्ट रूप से दिखाई देनी चाहिए. मिल्क लाइन वह लाइन होती है, जिसे कोब में पीले भाग और सफेद भाग के बीच देखा जा सकता है, जो संकेत देता है कि यह साइलेज बनाने के लिए तैयार है, जब आप मक्का के बीज दबाते हैं, तो आपको एक मोटा दूधिया तरल पदार्थ मिलेगा.

Silage

Silage for Dairy

साइलेज तैयार करने के तरीके

आप बैग, गड्ढे, बंकर और ड्रम का उपयोग करके साइलेज तैयार कर सकते हैं. कटाई के बाद जब आप हरे चारे में उचित नमी के बारे में सुनिश्चित हो जाते हैं, तो आपको इसे चौथाई इंच से एक इंच के आकार में कांटना होता है. महत्वपूर्ण बात यह है कि चफिंग के बाद आपको सीधे बैग, गड्ढे या बंकर में चारा भरना पड़ता है. भरने के प्रत्येक 1.5 फीट के बाद आपको चारा को पैरोंसेया ट्रैक्टर से दबाने की आवश्यकता होती है. तब तक दबाते रहिये जब तक इसे और दबाया न जा सके. यदि आप साइलेज कल्चर या एडिटिव्स जोड़ना चाहते हैं, तो इसे सही अनुपात में छिड़का जाना चाहिए.

इन चरणों को आपको शीघ्र करना है, ताकि हवा प्रवेश न करे. हमें हवा को बाहर निकालकर बैग या गड्ढों को चारों तरफ से बंद करना होगा. कुछ लोग अवशिष्ट वायु को बाहर निकालने के लिए वैक्यूम पंप का भी उपयोग करते हैं. उसके बाद आपको कुछ भारी लेख जैसे रेत या मिट्टी या अन्य भारी सामग्री को रखने होंगे, जो आसानी से उपलब्ध हैं. उन्हें साइलेज बैग, गड्ढों या बंकरों के ऊपर रख दें.

साइलेज बनाने के लिए गड्ढों और बंकरों का आकार

Sheet

Sheet

साइलेज बनाने में एडिटिव का उपयोग

जब हम साइलेज में एडिटिव्स का उपयोग करते हैं, तो वे चारे के बेहतर किण्वन और पोषक तत्वों के बेहतर प्रतिधारण में मदद करते हैं. वेसाइलेज गुणवत्ता में सुधार करते हैं, जिससे दूध की उपज में सुधार होता है. एडिटिव्स आमतौर पर साइलेज कल्चर होते हैं, जो बाजार में उपलब्ध हैं जैसे रुम्फीर्म –इंट्रोन या ड्यूपॉन्ट पायनियर आदि. कुछ साइलेज कल्चर तरल रूप में भी उपलब्ध होते हैं, जिन्हें पानी का उपयोग करके पतला करने की आवश्यकता है.

साइलेज बैग,गड्ढों और बंकरों को खोलने के बाद देखभाल की आवश्यकता

  1. साइलेज को निकालते सम यह में साइलेज की एक पूरी परत को बाहर निकालने की आवश्यकता होती है. यदि आप केवल एक तरफ से खुदाई करते हैं, तभी हवा के संपर्क में आने वाले अन्य पक्ष कवक द्वारा संक्रमित हो सकते हैं. यह साइलेज में हानिकारक विषाक्त पदार्थों के निर्माण को जन्म दे सकता है.
  2. जब तक बंकर या गड्ढे का पूरी तरह से उपयोग नहीं हो जाता, तब तक हमें रोजाना साइलेज का उपयोग करना होग. यदि हम उपयोग में अंतराल देते हैं, तो उजागर परतों को कवक या फंगस का विकास होगा, जो साइलेज को नष्ट कर सकते हैं.
  3. खोलने के बाद हमें 60 से 90 दिनों के भीतर सभी साइलेज को बाहर निकालने और उसका उपयोग करने की आवश्यकता है.
  4. प्रतिदिन साइलेज निकालने के बाद हमें बैग, गड्ढे और बंकर को बंद करने और इसे अच्छी तरह से कवर करने की आवश्यकता है.

टेपलू से "डेयरी फार्मों के लिए साइलेज बनाने" पर एक मुफ़्त पाठ्य क्रम में भाग लेने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

https://teplu.in/p/hindi-silage-making-in-dairy-farming/?affcode=357385_imflcu2u

English Summary: How to make silage for dairy animal husbandry

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News