आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे

महा पशुधन संजीवनी योजना: पशु है बीमार तो कैसे करें समाधान?

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Animals

कृषि क्षेत्र में पशुपालन (Animal Husbandry) एक अच्छा विकल्प है इसके जरिए किसान अपनी अलग से सेविंग कर सकते हैं. देश के लगभग सभी राज्यों में पशुपालन कर कई लोग अपनी जीविका यापन कर रहे हैं. इसके दायरे में गाय-भैंस, मुर्गी, मत्स्य समेत कई पशुओं का पालन आते हैं. इस क्षेत्र की खास बात यह है कि कम लागत में बड़े स्तर का कारोबार खड़ा किया जा सकता है. इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारें भी कई योजनाएं चली रही हैं ताकि पशुपालन की तरफ लोगों की रूचि बढ़े. इस बीच महाराष्ट्र के पशुपालकों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है. दरअसल, महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने योजना की शुरूआत की है, जिसके तहत पशुपालकों को बड़ी राहत मिलेगी. इस योजना का नाम महा पशुधन संजीवनी योजना (Maha Pashudhan Sanjivani Yojana) है. आइए आपको इस योजना संबंधी पूरी जानकारी देते हैं.

क्या है महा पशुधन संजीवनी योजना ?

इस योजना के तहत किसानों के घर पर पशुओं के इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. इसे मुख्यमंत्री स्वास्थ्य योजना के तहत लागू किया गया है. इसके लिए महाराष्ट्र सरकार ने भारत फाइनेंशियल इंक्लूजन लिमिटेड (BFIL) के साथ समझौता किया है. जानकारी के लिए बता दें कि बीएफआईएल (BFIL) निजी क्षेत्र के इंडसइंड बैंक की सहायक कंपनी है.

Aniimals

एक फोन कॉल पर मिलेगी पशु चिकित्सा सेवा 

खास बात यह है कि इस योजना के तहत सभी पशु चिकित्सा सेवाओं को केवल एक फोन कॉल पर मुहैया कराया जाएगा. इसके लिए सरकार ने जनवरी 2021 से टोल-फ्री नंबर 1962 चालू किया है.

ज़रूरी जानकारी

महा पशुधन संजीवनी योजना (Maha Pashudhan Sanjivani Yojana) के पहले चरण में महाराष्ट्र के 31 जिलों में स्थित 81 इलाकों में पशु इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. बता दें कि इन इलाकों में कुल 1.96 करोड़ पशु हैं. इस योजना का विस्तार बीएफआईएल द्वारा विकसित एक एकीकृत टेलीमेडिसिन और सेवा प्रबंधन मंच से किया जाएगा.

English Summary: Treatment of animals at home will be facilitated through Maha Pashudhan Sanjeevani Yojana

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News