1. सरकारी योजनाएं

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना का लाभ उठाएं, घर बनाने के लिए सरकार दे रही है मदद

आप भी अपने परिवार के साथ खुशी से जीवन वयतीत करना चाहते हैं तो आपके लिए प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना फायदेमंद साबित हो सकती है. इस योजना के तहत ज़रूरतमंद लोगों को घर बनाने या घर की मरम्मत कराने के लिए सरकार सहायता प्रदान कर रही है.

दरअसल 2022 से पहले सभी को आवास उपलब्ध करवाना मोदी सरकार की प्राथमिकता है. ये योजना उसी का भाग है, जिसे शुरुआत में‘हाउसिंग फॉर ऑल' के नाम से चलाया गया था. बाद में इसका नाम बदलकर पीएमजीएवाई (प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना) कर दिया गया. चलिए आपको इस योजना के बारे में बताते हैं.

होम लोन और प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना

घर बनाने के लिए अगर आप होम लोन लेना चाहते हैं तो प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत ये लोन ले सकते हैं. इस लोन का ब्याज कम है और इसपर 3 प्रतिशत की सब्सिडी सरकार प्रदान कर रही है.

2 लाख रूपये तक की मिल रही है सहायता

इस योजना के तहत दो लाख रुपये तक की सहायता लोगों को प्रदान किया जा रहा है. घर बनाने या घर की मरम्मत के लिए लिए आप इस पैसे का उपयोग कर सकते हैं. इसका सीधा फायदा ग्रामीण तबके के लोगों को होगा.

मनरेगा भी है शामिल

इस स्कीम को अब मनरेगा से भी जोड़ लिया गया है. वहीं स्वच्छ भारत स्कीम के ज़रिए घरों में शौचालय बनाने के लिए भी लोगों को सरकार प्रोत्साहित कर रही है. इस योजना के तहत जहां लोगों को आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है, वहीं बेरोजगारों को 90 दिन का रोजगार दिया जा रहा है. वहीं लाभार्थियों को स्वच्छ ईंधन की सहायता भी सरकार दे रही है.

क्या है लक्ष्य

इस समय देश की बड़ी आबादी अपने पक्के मकान से वंचित है. 2014 और फिर 2019 के लोकसभा चुनावों में मोदी सरकार ने कहा था कि वो लोगों को आवास देने के लिए प्रतिबद्ध है. इस योजना को उसी लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है.  2022 से पहले सरकार सुनश्चित रूप से एक करोड़ पक्के मकानों का निर्माण करवाना चाहती है.

English Summary: this is how you can make your own home from the help of government plans know more about pradhan mantri gramin awas yojana

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News