बागवानी में करियर बनाने का अच्छा मौका, बिहार सरकार निकालेगी 1000 से अधिक पदों पर भर्तियां

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

सांकेतिक तस्वीर

बागवानी में अपना करियर खोज रहे युवाओं के लिए बिहार सरकार नई सौगत लेकर आई है. राज्य की नीतीश सरकार ने भवन निर्माण विभाग के उद्यान प्रमंडल, पटना में मालियों को भर्ती करने का फैसला किया है.

25 हजार होगा वेतन

फैसले के मुताबिक इस साल करीब एक हजार मालियों की नियुक्ति पटना प्रमंडल में होगी. सरकारी एलावेंस के साथ-साथ मालियों को करीब 25 हजार रुपये प्रतिमाह के वेतन पर रखा जाएगा. इनकी तैनाती मुख्य रूप से पटना के सभी पार्कों, सरकारी गार्डनों एवं सरकारी भवनों में होगी.

जल्दी बनेगी नियमवली

गौरतलब है कि 20 नवंबर, 2019 में ही राज्य की कैबिनेट ने एक हजार मालियों को स्थायी पद सृजित करने की मंजूरी दी थी. इसके बाद इस पर प्रक्रिया पर लगातार काम किया जा रहा था और अब नीतीश सरकार उद्यान प्रमंडल, पटना में इसकी नियमावली बनाने में जुटी हुई है.

राज्य कैबिनेट में होगी मंजूरी

इस नियमावली को जल्दी ही राज्य कैबिनेट में मंजूरी के लिए रखा जाएगा और मंजूरी के बाद नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. बता दें कि बिहार राज्य में सरकारी पार्कों और सरकारी उद्यानों की देखरेख के लिए मालियों की कमी लंबे समय से चल रही है. 1999 में 747 स्थायी माली नियुक्त किए गए थे, जो घटकर 2010 में 249 रह गए थे और 2020 में 100 मालियों के रिटायरमेंट के बाद अब संख्या बहुत कम रह गई थी.

कई अन्य सुविधाएं भी

मालियों को कई तरह की सरकारी सुविधाएं भी सरकार देगी, जैसे- मूल वेतन के अलावा अलग से महंगाई भत्ता, एचआरए, मेडिकल सुविधाएं और टीए आदि. वैसे बता दें कि सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में पथ निर्माण, स्वास्थ्य, पर्यावरण, वन एवं जल वायु परिवर्तन विभाग आदि को मिलाकर कुल 1533 नए पदों पर भर्तियां निकालने का फैसला हआ है.

स्मार्ट सिटी पटना बनाने का हो रहा प्रयास

माना जा रहा है कि स्मार्ट सिटी रैंकिंग मे पटना राजधानी के गिरते हुए ग्राफ को देखते हुए इतने पदों पर भर्तियां निकाली गई है. बता दें पटना को स्मार्ट सिटी रैंकिंग में 100 में से 35 वां स्थान प्राप्त (2020 में) हुआ था.  

English Summary: Recruitment for 1000 posts for horticulture department in Bihar

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News