MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

खुशखबरी: अब प्याज समेत कई फसलों की खेती के लिए मिलेगा 60% तक का अनुदान, लाभ उठाने के लिए पढ़ें पूरी ख़बर

बिहार सरकार कृषि विभाग बागवानी निदेशालय (Agriculture Department Horticulture Directorate) ने किसानों के लिए बड़ा ऐलान किया है. आपको बता दें कि सरकार किसान विशेष उद्यानिक फसल योजना (Special Horticulture Cropping Scheme) के तहत दिए जाने वाले अनुदान के लिए फिर से आवेदन कर सकते हैं. पहले इसकी अंतिम तारीख 15 जनवरी 2022 तय की गई थी. वहीं अब इसको बढाकर 22 जनवरी कर दी गई है.

प्राची वत्स
प्राची वत्स
सेब की खेती पर भी मिलेगा अनुदान
सेब की खेती पर भी मिलेगा अनुदान

बिहार सरकार कृषि विभाग बागवानी निदेशालय (Agriculture Department Horticulture Directorate) ने किसानों के लिए बड़ा ऐलान किया है. आपको बता दें कि सरकार किसान विशेष उद्यानिक फसल योजना (Special Horticulture Cropping Scheme) के तहत दिए जाने वाले अनुदान के लिए फिर से आवेदन कर सकते हैं. पहले इसकी अंतिम तारीख 15 जनवरी 2022 तय की गई थी.  वहीं अब इसको बढाकर 22 जनवरी कर दी गई है.

फसल की लागत पर 50 से 60 फीसदी अनुदान

इस योजना (Government Scheme) के तहत सेब, चाय की खेती, सहजन की खेती, रजनीगंधा, मगही पान, और प्याज की खेती करने वाले किसानों के लिए सरकार विशेष छूट दे रही है. बिहार सरकार अब पारंपरिक खेती से अलग हटकर फसल लगाने के लिए किसानों को बढ़ावा दे रही है.  विशेष उद्यानिक फसल योजना के तहत खेती करने वाले किसानों को फसल की लागत पर 50 से 60 फीसदी अनुदान दे रही है. उद्यान निदेशक के मुताबिक, इच्छुक किसान ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

सेब की खेती के लिए करें आवेदन (Apply for apple cultivation)

सेब की खेती के लिए किसानों को 2 लाख 46 हजार 250 रुपये प्रति हेक्टेयर रखी गई है इसकी लागत की 50 फीसदी तीन चरणों में सरकार अनुदान के रुप में देगी इसके लिए भागलपुर, बेगूसराय, औरंगाबाद, वैशाली, कटिहार, समस्तीपुर मुजफ्फरपुर के किसान आवेदन कर सकते हैं.

सहजन की खेती के लिय अनुदान राशि (Grant amount for drumstick cultivation)

सहजन की खेती के लिए 74.000 हेक्टेयर तय किया गया है. वहीं लागत मूल्य या वास्तविक लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम 37,000 रूपये प्रति हेक्टेयर दो किस्तों में 75 : 25 के अनुपात में के हिसाब से दिया जाएगा. इसके लिए औरंगाबाद, भागलपुर, बांका, बक्सर, भोजपुर, गया, जमुई नालन्दा, नवादा, पटना, रोहतास, शिवहर जिले के किसान आवेदन करें.

रजनीगंधा की खेती (Tuberose Cultivation)

रजनीगंधा की खेती के लिए 1,85,000.रुपये प्रति हेक्टेयर लागत मूल्य या वास्तविक लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम 92,500 रूपये प्रति हेक्टेयर दी जाएगी. भागलपुर, वैशाली, समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, पूर्णिया, बक्सर भोजपुर, गया, पटना, जहानाबाद के किसान आवेदन करें

ये भी पढ़ें: बकरी पालकों के लिए बिहार सरकार ने शुरू की ये योजना, ऐसे उठाएं फायदा

मगही पान की खेती के लिए (Cultivation for Magahi  betel)

मगही पान के लिए 70,500 रुपये 300 वर्ग मीटर की खेती में लागत मूल्य या वास्तविक लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम 35,250 रुपये प्रति 300 वर्ग मीटर के हिसाब से नवादा, गया, नालन्दा, औरंगाबाद के किसान आवेदन करें.

प्याज की खेती  (Farming of onion)

प्याज की खेती के लिए 98,000,00 प्रति हेक्टेयर लागत मूल्य या वास्तविक लागत का 50 प्रतिशत अधिकतम 49,000.00 रूपये प्रति हेक्टयर बक्सर भोजपुर, नालन्दा, पटना, शेखपुरा के किसान आवेदन कर सकते हैं.

आवेदन से जुड़ी सभी जानकारी :

  • संबंधित जिले के किसान ऑनलाईन आवेदन एवं संक्षिप्त जानकारी हेतु bihar.gov.in लिंक पर click करें.

  • उसके बाद Dash Board पर उपलब्ध विशेष उद्यानिक फसल योजना पर जाएं.

  • वहां “आवेदन करें” लिंक पर जाएं एवं जरूरी विवरणों की भरते हुए आप आवेदन दर्ज कर सकते हैं.

  • ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि दिनांक: 01.2022 तक बढ़ा दी गई है.

  • विशेष जानकारी के लिए संबंधित जिला के सहायक निदेशक उद्यान से सम्पर्क किया जा सकता है.

English Summary: Government will give subsidies to farmers who cultivating onion, apple and other advanced crop Published on: 18 January 2022, 03:11 IST

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News