1. सरकारी योजनाएं

LIC Jeevan Shanti Plan:एलआईसी पॉलिसी के माध्यम से आजीवन पेंशन प्राप्त करें

स्वाति राव
स्वाति राव
LIC Jivan Shanti Scheme,

LIC Jivan Shanti Scheme,

अगर आपको भी रिटायरमेंट के बाद पेंशन की चिन्ता सता रही है तो हम आपको एक ऐसी योजना के बारे में बताने जा रहे है जिसके द्वारा रिटायरमेंट से पहले ही आपका बुढ़ापा सुरक्षित हो सकता है.

दरअसल, भारतीय जीवन बीमा निगम की एल.आई.सी जीवन शांति योजना (LIC Jeevan Shanti Scheme) ऐसी योजना है, जिसका लाभ लेकर आप अपने बुढ़ापे तक घर बैठे 9 हजार रूपए तक की पेंशन  प्राप्त कर सकते हैं. तो इस लेख में जानिएं एल.आई.सी जीवन शांति योजना का लाभ कैसे ले सकते है आप

एलआई सी जीवन शांति योजना (LIC Jeevan Shanti Scheme)

यह स्कीम काफी पुरानी है, लेकिन LIC ने इसे फिर से कुछ बदलावों के साथ पेश किया है. इस योजना में पालिसी होल्डर को सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक आधार पर पेंशन प्राप्त होती है.

  • एल.आई.सी(LIC)द्वारा इस योजना के अंतर्गत कम से कम 1000 रुपये मासिक पेंशन की गारंटी दी जाती है और निवेशक को कम से कम 1.5 लाख रुपये का निवेश करना पड़ता है.

  • 1.5 लाख के निवेश पर मासिक पेंशन 1000 रुपए, तिमाही पेंशन 3000 रुपए, छमाही पेंशन 6000 रुपए और सालाना पेंशन 12000 रुपए है.

एल आई सी जीवन शांति स्कीम के लिए आयु सीमा  (Age Limit for LIC Jeevan Shanti Scheme )

इस पालिसी को लेने के लिए निवेश करने की न्यूनतम राशि 1.5 लाख रुपए है एवं अधिकतम राशि अभी तय नही है. आप जितना चाहें उतना निवेश कर सकते हैं. निवेश के लिए आपकी उम्र कम से कम 30 साल होनी चाहिए.

हर महीने मिलेगी करीब 9 हजार रु. पेंशन ( Every month around 9 thousand pension will be received)

जीवन शांति स्कीम में यदि आप 5 लाख रूपए का निवेश करते हैं तो आपको हर महीने लगभग 9 हजार रु. पेंशन प्राप्त होगी. इसके बाद 55 साल की उम्र से आपको हर महीने लगभग 9 हजार पेंशन मिलने लगेगी.

नॉमनी को भी मिलेगी पेंशन (Nominee will also get pension)

यदि निवेश करने वाले की मृत्यु हो जाती है तो इसका लाभ उनके परिवार के सदस्यों और विशेषकर नॉमनी को मिलेगा. इस पॉलिसी में  निवेश करने वाले लाभार्थी को जीवन भर मासिक पेंशन की सुविधा प्राप्त होगी. 

English Summary: get lifelong pension through LIC policy

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News