MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

सिर्फ 5 रुपए की कीमत में मिलेगा दूध, इस योजना से लोगों को मिलेगी राहत

दूध उत्पादन का व्यवसाय देश में बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है क्योंकि पशुपालकों को तरह-तरह की रहत और अनुदान दिया जा रहा है. ऐसे में राजस्थान सरकार ने दूध उत्पादन योजना में 5 रुपये का अनुदान देने की योजना शुरू की है.

रुक्मणी चौरसिया
रुक्मणी चौरसिया
Milk Production Support Scheme 2022
Milk Production Support Scheme 2022

क्या आपने कभी सोचा है कि आज के समय में 5 रुपये का दूध (Milk in 5 Rupees) मिल पाना संभव है, शायद नहीं. लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राजस्थान सरकार (Rajasthan) ने हाल ही में दूध उत्पादन संबल योजना (Dudh Utpadan Sambal Yojana) शुरू की है. जिसके चलते किसानों को दूध पर 5 रुपये की सब्सिडी (Subsidy on Milk) मिल सकेगी.

दूध उत्पादन संबल योजना में क्या है ख़ास (What is special in the milk production support scheme)

  • 2500 नई दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियां बनेंगी.

  • राजसमंद में लगेगा मिल्क प्रोसेसिंग.

  • प्लांट ऊंट संरक्षण विकास नीति लागू करने की घोषणा.

  • गौशाला (Gaushala) की स्थापना के लिए एक करोड़ रुपये दिए जाएंगे.

  • स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से ग्राम पंचायतों में गौशालाएं खोली जाएंगी.

  • राजसमंद में लगेगा मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट.

  • पशु बीमा योजना (Pashu Bima Yojana) में 150 करोड़ खर्च किए जाएंगे.

  • दूध उत्पादन पर 5 रुपये प्रति लीटर की सब्सिडी दी जाएगी.

किसानों के लिए अन्य योजनाएं (Rajasthan schemes for farmers)

  • संरक्षित खेती के लिए आधुनिक तकनीक अपनाई जाएगी.

  • राजस्थान ऑगमेंटेड फार्मिंग मिशन की शुरुआत की जाएगी.

  • पहले चरण में 10 हजार किसान लाभान्वित होंगे.

  • राजस्थान बागवानी विकास मिशन शुरू होगा.

  • 3 हजार हेक्टेयर में मसाला फसलों का होगा विस्तार राजस्थान फसल सुरक्षा मिशन शुरू होगा.

  • आवारा पशुओं से बचाव के लिए योजना शुरू तारबंदी के लिए 100 करोड़ का अनुदान दिया जाएगा.

  • कृषि संयंत्र खरीदने के लिए हर साल 5 हजार रुपये दिए जाएंगे.

  • राजस्थान में कृषि प्रौद्योगिकी मिशन शुरू होगा.

  • 7 हजार किसानों को कृषि संयंत्रों पर 150 करोड़ का अनुदान मिलेगा.

राजस्थान और पशुधन (Rajasthan and Livestock)

राजस्थान में 56.8 मिलियन पशुधन (Pashudhan) हैं. जिनमें से 13.9 मिलियन गाय, 13.7 मिलियन भैंस, 20.84 मिलियन बकरियां और 2.13 लाख ऊंट हैं. ऐसे में आप समझ सकते हैं कि यहां के लिए पशुपालन कितना जरूरी है. सरकार ने पशु अस्पतालों को अपग्रेड करने का भी ऐलान किया है. मंडावा और झुंझुनू में पशु चिकित्सा (Animal Hospital) के लिए पशु चिकित्सा महाविद्यालय खोलने की घोषणा की गई है. राजकीय पशु चिकित्सालय चाकसू, जयपुर को बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय में बदलने की घोषणा की गई है.

पशुओं के चारे की गुणवत्ता जांचने के लिए बनेगी लैब (A lab will be built to check the quality of animal feed)

पशुपालन (Pashupalan) को लेकर सरकार की गंभीरता इस बात से साफ झलकती है कि उन्होंने बजट में पशुओं के चारे की गुणवत्ता (Animal feed quality) की जांच के लिए नियामक प्राधिकरण गठित करने की भी घोषणा की है. सीएम गहलोत ने कहा कि पशुओं के चारे की गुणवत्ता जांचने के लिए हर जिले में पशु लैब स्थापित किए जाएंगे. उन्होंने इस साल 6 लाख पशुपालकों को पशु बीमा का लाभ देने की घोषणा की है. जिस पर 150 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.

राजस्थान बजट के अन्य मुख्य बिंदु (Highlights of Rajasthan budget)

  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वित्तीय वर्ष 2022-23 का वार्षिक बजट पेश कर दिया है.

  • यह मौजूदा सरकार का चौथा वार्षिक बजट है.

  • इस बजट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान की करीब 1.33 करोड़ महिलाओं को स्मार्टफोन देने का प्रावधान किया है.

  • वहीं, जैविक खेती के लिए किसानों को 600 करोड़ रुपये दिए जाएंगे और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाएगा.

  • साथ ही मनरेगा की तर्ज पर शहरी क्षेत्रों में 100 दिन का रोजगार सृजित किया जाएगा. इस पर करीब 800 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2022-23 का वार्षिक बजट पेश करते हुए कहा कि मनरेगा की तर्ज पर शहरी क्षेत्र के युवाओं को हर साल 100 दिन का रोजगार मिलेगा.

 

English Summary: Apply Milk Production Support Scheme Published on: 28 February 2022, 05:31 IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News