MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Til ki Kheti: किसानों के लिए क्यों खास है तिल की खेती, पढ़िए पूरी जानकरी

भारत में तिलहन की खेती बहुत ही पॉपुलर है और साथ ही यह किसानों को बढ़िया मुनाफा भी देती है. ऐसे में तिल की खेती बहुत उपयोगी है. क्योंकि तिल सबसे पुरानी फसलों में से एक है. खास बात यह है कि तिल 40-50% की तेल सामग्री के साथ एक महत्वपूर्ण तेल उपज वाली फसल है.

रुक्मणी चौरसिया
Sesame Seeds
Sesame Seeds

भारत में तिलहन की खेती (Oilseeds Cultivation) बहुत ही पॉपुलर है और साथ ही यह किसानों को बढ़िया मुनाफा भी देती है. ऐसे में तिल की खेती (Sesame Cultivation) बहुत उपयोगी है. क्योंकि तिल सबसे पुरानी फसलों में से एक है. खास बात यह है कि तिल 40-50% की तेल सामग्री के साथ एक महत्वपूर्ण तेल उपज वाली फसल है. तो आइये जानते हैं Til Ki Kheti कैसे करें.

मिट्टी की आवश्यकता (Soil Requirement)

  • तिल को विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है.

  • क्षारीय या अम्लीय मिट्टी इस फसल के लिए उपयुक्त नहीं होती है.

  • Til Ki Kheti के लिए अच्छी जल निकासी वाली हल्की से मध्यम बनावट वाली मिट्टी बेहतर होती है.

  • इसके लिए पीएच रेंज 5 - 8.0 के बीच होनी चाहिए.

बीज उपचार (Seed Treatment)

  • बीज जनित रोगों से बचाव के लिए बाविस्टिन 0 ग्राम/किलोग्राम बीज से उपचारित बीज का प्रयोग करें.

  • बैक्टीरियल लीफ स्पॉट रोग होने पर बीज को बीजाई से पहले एग्रीमाइसीन-100 के 025% घोल में 30 मिनट के लिए भिगो दें.

भूमि की तैयारी (Land Preparation)

  • 2-4 बार जुताई करें और मिट्टी को बारीक जुताई में तैयार करने के लिए गांठों को तोड़ दें.

  • फिर, बीज समान रूप फैला दें.

  • Til Ki Kheti में आसान बुवाई के लिए, समान रूप से वितरित बीज को रेत या सूखी मिट्टी के साथ मिलाया जाता है.

  • बीज को मिट्टी में ढकने के लिए हैरो का उपयोग करें, उसके बाद लकड़ी के तख्ते का उपयोग करें.

तिल की खेती के लिए मौसम (Season for Sesame Cultivation)

  • यह फसल राज्यों के लगभग हर बड़े या छोटे क्षेत्र में उगाई जा सकती है.

  • इसे जीवन चक्र के दौरान उच्च तापमान की आवश्यकता होती है.

  • जीवन चक्र के दौरान अधिकतम तापमान 25-35 डिग्री के बीच होता है.

  • यदि तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक चला जाता है तो गर्म हवाएं तेल की मात्रा को कम कर देती हैं.

  • यदि तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ऊपर या 15 डिग्री सेल्सियस से कम है, तो उपज में बड़ी कमी आ सकती है.

अंतर (Spacing)

  • तिल की पंक्तियों और पौधों दोनों के बीच 30 सेमी की दूरी की आवश्यकता होती है.

  • सूखे बालू की मात्रा के चार गुना बीजों को मिलाना चाहिए.

  • बीज को 3 सेमी गहराई में बोना चाहिए और मिट्टी से ढक देना चाहिए.

सिंचाई (Irrigation)

हालांकि फसल वर्षा आधारित स्थिति में उगाई जाती है. लेकिन जब सुविधाएं उपलब्ध हों तो फसल को 15-20 दिनों के अंतराल के भीतर खेत की क्षमता के अनुसार सिंचित किया जा सकता है. फली पकने से ठीक पहले सिंचाई बंद कर देनी चाहिए. महत्वपूर्ण चरणों के दौरान, सतही सिंचाई 3 सेमी गहरी होनी चाहिए जिसका अर्थ है कि 4-5 पत्तियां, शाखाएं, फूल और फली बनने से उपज में 35-52% की वृद्धि होगी.

पौधे का संरक्षण (Plant Protection)

  • पत्ती और पॉड कैटरपिलर को नियंत्रित करने के लिए कार्बेरिल 10% से प्रभावित पत्तियों और टहनियों और धूल को हटा दें.

  • पत्ती और पॉड कैटरपिलर की घटनाओं का प्रबंधन करने के लिए, फली बेधक संक्रमण और फीलोडी घटना 7 वें और 20 वें डीएएस पर 5 मिलीलीटर प्रति लीटर स्प्रे का उपयोग करें.

  • पित्त की मक्खी को रोकने के लिए 2% कार्बरी के साथ निवारक स्प्रे का उपयोग करें.

कटाई (Harvesting)

  • Til Ki Kheti के लिए कटाई सुबह के समय करनी चाहिए.

  • फसल की कटाई तब करनी चाहिए जब पत्तियां पीली होकर लटकने लगें और नीचे के कैप्सूल पौधों को खींचकर नींबू के पीले रंग का हो जाए.

  • जब पत्तियां गिर जाएं तो जड़ वाले भाग को काटकर बंडलों में कर दें. फिर 3-4 दिन धूप में फैलाएं और डंडों से फेंटें ताकि कैप्सूल खुल जाएं.

  • इसे 3 दिन तक दोहराते रहें.

तिल की खेती की अहमियत (Importance of sesame cultivation)

  • तिल सबसे पुरानी देशी तिलहन फसल है.

  • Til Ki Kheti देश के लगभग हर हिस्से में की जाती है.

  • भारत में इसकी खेती का सबसे लंबा इतिहास है.

English Summary: Why is sesame cultivation special for farmers, read full information Published on: 18 January 2022, 03:44 PM IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News