MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

सिंचाई के लिए पानी का संरक्षण कैसे करें?

जल एक अनिवार्य संसाधन है, लेकिन जनसंख्या वृद्धि, औद्योगिक गतिविधियों में वृद्धि और बदलती जीवन शैली के कारण दुनियाभर में पानी के संसाधनों पर दबाव तेजी से बढ़ रहा है. पानी का महत्व केवल मानव जीवन के लिए ही जरुरी नहीं बल्कि खेत खलियन की हरियाली और अच्छी उपज के लिए बहुत जरुरी होता है.

स्वाति राव
Water Conservation Tips For Irrigation
Water Conservation Tips For Irrigation

जल एक अनिवार्य संसाधन है, लेकिन जनसंख्या वृद्धि, औद्योगिक गतिविधियों में वृद्धि और बदलती जीवन शैली के कारण दुनियाभर में पानी के संसाधनों पर दबाव तेजी से बढ़ रहा है. पानी का महत्व केवल मानव जीवन के लिए ही जरुरी नहीं बल्कि खेत खलियन की हरियाली और अच्छी उपज के लिए बहुत जरुरी होता है.

अगर पानी का सही तरह से संरक्षण नहीं किया जाये, तो फसलों की खेती (Cultivation Of Crops) करना बहुत कठिन हो जायेगा, इसलिए हम सबको पानी के मूल्य को समझना चाहिये और पानी के संरक्षण (Water Conservation ) के लिए तमाम उपाय करने चाहिए. हमारे देश में करीब 3290 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में खेती लगभग 63 प्रतिशत अभी भी बारिश के पानी पर आधारित रहती है. तो चलिए जानते हैं जल संरक्षण किस प्रकार करना चाहिए.

जल सतह संग्रह तकनीक (Water Surface Collection Technology)

जल सतह तकनीक वह तकनीक होती है, जिसमें बारिश का पानी (Rainwater) ज़मीन पर गिर कर धरती के निचले भागों में बहकर जाने लगता है. नालियों में जाने से पहले सतह जल को रोकने के तरीके को सतह जल संग्रह (Surface Water Collection) कहा जाता है. बड़े-बड़े ड्रेनेज पाइप के माध्यम से बारिश के पानी को को कुआं,नदी, तालाबों में जमा करके रखा जाता है जो बाद में पानी की कमी को दूर करता है.

इसे पढ़ें - गेहूं की फसल में कौन-कौन सी है सिंचाई की क्रांतिक अवस्था

बांध तकनीक (Dam Technique)

उसी प्रकार जल संरक्षण के लिए बांध बनाकर भी आप पानी को जमा कर सकते हैं. बड़े - बड़े बांध के माध्यम से बारिश के पानी को अच्छी मात्रा में रोका जाता है, जिन्हें गर्मी के महीनों में या पानी की कमी होने पर कृषि कार्य में सिंचाई (Irrigation In Agriculture) के लिए उपयोग किया जा सकता है. जल संरक्षण के मामले में बांध बहुत उपयोगी साबित हुए हैं, इसलिए भारत में कई बांधों का निर्माण किया गया है और साथ ही नए बांध बनाए भी जा रहे हैं.

भूमिगत टैंक तकनीक (Underground Tank Technology)

सिंचाई के लिए जल की आपूर्ति को पूरा करने के लिए भूमिगत टैंक की तकनीक (Underground Tank Technology ) भी बहुत उपयोगी साबित होती है. इस तकनीक के माध्यम से भूमि के अंदर पानी को संरक्षित रख सकते हैं. इसमें बारिश के पानी को जमीन के नीचे एक गहरे गड्ढे में रखा जाता है. इस तरीके में हम ज्यादा से ज्यादा पानी को मिट्टी के अंदर बचा कर रख पाते हैं. यह तरीका खेत में सिंचाई के लिए बहुत ही मददगार साबितहोता है.

English Summary: water conservation process for irrigation Published on: 23 February 2022, 04:08 PM IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News