1. खेती-बाड़ी

मसूर की ये उन्नत किस्में देती हैं 10 से 11 क्विंटल प्रति एकड़ पैदावार

भारत में जलवायु के हिसाब से मसूर की कई किस्में उगाई जाती हैं. आज इस लेख के जरिए उन उन्नत किस्मों के बारे में बताने जा रहे हैं तो बंपर पैदावार देती हैं...

निशा थापा
variety of lentil
variety of lentil

दाल प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होती है.  इसमें से एक मसूर है. मसूर दलहनी फसलों की प्रमुख श्रेणी में रखा गया है. बात करें मसूर की खेती की, तो यह आमतौर पर देश के सभी हिस्सों में की जाती है. इसमें मौजूद पोषक त्तव हमारे शरीर के लिए बेहद लाभदायक माने जाते हैं. मसूर की अच्छी पैदावार के लिए जरूरी है कि आपको मसूर की उन्नत किस्मों की जानकारी हो.

दाल प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होती है.  इसमें से एक मसूर है. मसूर दलहनी फसलों की प्रमुख श्रेणी में रखा गया है. बात करें मसूर की खेती की, तो यह आमतौर पर देश के सभी हिस्सों में की जाती है. इसमें मौजूद पोषक त्तव हमारे शरीर के लिए बेहद लाभदायक माने जाते हैं. मसूर की अच्छी पैदावार के लिए जरूरी है कि आपको मसूर की उन्नत किस्मों की जानकारी हो.

मसूर की उन्नत किस्में

बॉम्बे 18: मसूर की यह किस्म बुवाई के 130-140 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है. 4-4.8 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत उपज देता है.

डीपीएल 15: डीपीएल 15 प्रति एकड़ 5.6-6.4 क्विंटल की औसतन उपज देती है. साथ ही यह किस्म बुवाई के 130 – 140 दिनों में पक जाती है.

डीपीएल 62 : 6-8 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत उपज देनी वाली यह खास  डीपीएल 62 बुवाई के 130-140 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है.

LL 931:  एलएल 931 गहरे हरे पत्तों और गुलाबी फूलों के साथ छोटी किस्म है. जो कि बुवाई के 146 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है. यह फली छेदक के लिए प्रतिरोधी है. यह 4.8 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत उपज देती है.

एल 4632 के 75: 120-125 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है. 5.6-6.4 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत उपज देती है.

पूसा 4076: 10-11 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत बंपर उपज देती है. साथ ही 130-135 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है.

यह भी पढ़ें: Black Wheat Price: सामान्य से 4 गुना अधिक है काले गेहूं की कीमत, जानें क्या हैं इसके फायदे

LL 699: एलएल 699 मसूर की उन्नत किस्मों में से एक है. यह जल्दी पकने वाली, छोटी किस्म गहरे हरे पत्तों वाली होती है. यह किस्म बुवाई के 145 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है. यह फली छेदक के लिए प्रतिरोधी है और जंग और झुलस रोग को सहन कर सकता है. यह औसतन 5 क्विंटल प्रति एकड़ उपज देता है.

English Summary: This special variety of lentil will give 10-11 quintal per acre yield Published on: 30 September 2022, 05:03 IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News