Farm Activities

ऐसे करे देशी पालक की उन्नत खेती, पढ़े पूरी जानकारी

spinach farming

देशी पालक हरे पत्ते वाली सब्जी है इसे सब्जियों में विशेष स्थान प्राप्त है. इसकी पत्तियों  का आकर विलायती पालक से बिल्कुल अलग है. देशी पालक को मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, बंगाल, हरियाणा, दिल्ली, गुजरात, और महाराष्ट्र आदि राज्यों में सफलपूर्वक उगाया जाता है. हालांकि यह दक्षिणी भारत में अधिक लोकप्रिय नहीं है, वहाँ पर विलायती पालक की खेती विशेष रूप से पहाड़ियों पर की जाती है. बता दे कि देशी पालक की पत्तियों से सब्जी बनाई जाती है. पालक की सब्जी में आलू, बैगन, प्याज पनीर आदि मिलाये जाते है. इसकी पत्तियों से सॉस भी बनाया जाता है.

spinach

जलवायु :

यह ठंडे मौसम की फसल है इसके अंदर पाले को सहने की विशेष क्षमता रखता है. इसके उत्पादन के लिए मृदु जलवायु की आवश्यकता होती है. इस फसल के लिए तापमान में बढ़ोतरी होने के कारण वृद्धि और इसके विकास और उत्पादन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है.

देशी पालक की भूमि :

देशी पालक की फसल को कई तरह की भूमि में उगा सकते है.लेकिन इस फसल के सफल उत्पादन हेतु उचित जल निकाय रेतीली दोमट भूमि सर्वोत्तम मानी गयी है. पालक की फसल थोड़ी क्षारीय मृदा को भी सहन करने में सक्षम होता है और लवणों को ज्यादा मात्रा में भी सहन कर लेता है.   

देशी पालक की खेत की तैयारी

इस फसल की प्रथम जुताई मिटटी पलटने वाले हल संकरे 2 -3  जुताइयाँ देशी हल या फिर कल्टीवेटर की मदद से करें। जुताई के बाद पाटा जरूर लगाएं.

देशी पालक की उन्नत किस्में

भारतीय पालक को दो भागों में विभक्त किया जाता है. -ऑल ग्रीन, पूसा पालक, पूसा ज्योति, पूसा हरित। ये समस्त किस्में उत्तरी भारत के राज्यों में उगाने के लिए उपयुक्त है.

देशी पालक की बुवाई :

इस फसल का प्रवर्धन बीज द्वारा किया जाता है.

देशी पालक की बीज की मात्रा :

इस फसल का 15 से 20 किलोग्राम बीज प्रति हेक्टेयर में पर्याप्त होता है.

देशी पालक की बीजोपचार :

इस फसल को बोने से पहले रात को इसके बीजों को पानी में भिगोए ताकि इसका अंकुरण समान रूप से हो सके. इसके साथ ही इस फसल को फफूंदीजनक रोगों से बचाने के लिए कैप्टान, वोबिस्टिन या थायरस की दर से उपचारित करना चाहिए.

देशी पालक की बोने का समय :

देशी पालक को मैदानी क्षेत्रों में जनवरी - फरवरी, जून - जुलाई या फिर सितम्बर - नवंबर में बोया जाता है, जबकि पर्वतीय क्षेत्रों में इसे आमतौर पर अप्रैल से लेकर जून तक बोया जाता है.

देशी पालक की सिंचाई :

इस फसल को पलेवा करके बोना चाहिए और बोने  के कुछ दिन बाद ही इसकी पहली सिंचाई करनी चाहिए। इसकी वसंत ग्रीष्म में 6 से 7 दिन के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए, जबकि शरद ऋतु की  बात करे तो उसमें इस फसल को 10 से 15 दिन के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए.

देशी पालक की कटाई :

इस फसल को बोने के 3 से 4 हफ्ते के बाद पहली कटाई की जा सकती है. इसके उपरांत 15 से 20 दिनों के अंतराल पर कटाई करनी चाहिए. पूरी फसल की अवधि में 6 से 8  कटाइयां की जा सकती है.

देशी पालक की उपज :

इस फसल की उपज इसकी किस्म, मौसम और भूमि की दशाओं, फसल की देखभाल पर निर्भर करती है. आमतौर पर 8 से 12 तन प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त हो जाती है.   



Share your comments