MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

सूरजमुखी की खेती करने का आसान तरीका

सूरजमुखी की खेती करने के लिए खेत की अच्छी तरह से 3 से 4 बार जुताई करनी चाहिए. इसकी खेती अम्लीय एवं क्षारीय भूमि के अलावा सिंचित होने वाली सभी प्रकार की भूमि में की जा सकती है.

रवींद्र यादव
सूरजमुखी की खेती का तरीका
सूरजमुखी की खेती का तरीका

सूरजमुखी एक तिलहनी फसल है. इसकी खेती मुख्य रुप से भारत के कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उड़ीसा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और बिहार के राज्यों में की जाती है. देश में पहली बार सूरजमुखी की खेती 1969 में उत्तराखंड में की गई थी. यह एक ऐसी तिलहनी फसल है, जिसकी खेती किसी भी मौसम में की जा सकती है. किसान इस फसल को खरीफ, रबी और जायद तीनों समय में उगा सकते हैं.

बीज का चयन

सूरजमुखी के बीज को खेतों में बोने से पहले इसका उपचार अत्यन्त जरुरी होता है. इसके लिए सूरजमुखी के बीज को 24 घंटे के लिए पानी में भीगों दें और ठीक बुवाई से पहले इसे खूब अच्छी तरह से सुखा लें. बता दें बीजों पर फफूंद से बचाव के लिए कुछ ग्राम मेटालैक्सिल की छिड़काव जरुर करें.

सिंचाई का तरीका 

सूरजमुखी को पूरी तरह से विकसित होने में 8 से 10 बार सिंचाई की आवश्यकता पड़ती है. पहली बुवाई के 15 से 20 दिन बाद पौधों पर स्प्रिकलर  करना चाहिए और फिर जरुरत अनुसार बाद में 10 से 15 दिन के अन्तराल पर पौधों में पानी देते रहना चाहिए. आपको बता दें कि  सूरजमुखी के पौधों में फूल निकलते समय इनका वजन काफी बढ़ जाता है तो इस समय इनका विशेष ख्याल रखना होता है. 

कीटों से सुरक्षा 

सूरजमुखी  के पौधों में दीमक, हरे फुदके और डसकी बग आदि जैसे कीड़ों के लगने की संभावना बहुत रहती है.  इसके नियंत्रण के लिए रसायन जैसे मिथाइल ओडिमेंटान, 25 ई सी या फेन्बलारेट आदि रसायनों को पानी में डालकर पौधों पर जरूर छिड़काव करना चाहिए. 

फसल की कटाई 

सूरजमुखी के पौधों की कटाई सही समय पर करनी चाहिए. देर से कटाई करने पर इन पर दीमक लगने की खतरा बना रहता है. यह फसल तब काटी जाती है जब इसके पत्ते सूख जाए और पौधे का सिर वाला हिस्सा पीला हो जाए.

ये भी पढ़ें:सूरजमुखी की खेती से चमकाएं कृषि क्षेत्र में अपना भविष्य, ऐसे कमाएं दोगुना मुनाफा

बीजों का भंडारण 

सूरजमुखी के बीज को थ्रेसर की मदद से अलग कर लेने के बाद इसका भंडारण घर के किसी सूखे स्थान पर करना चाहिए. इसके बीजों से तेल निकालने के लिए बीज का अच्छी तरह से सूखना बहुत ही जरुरी होता है. बीजों से 3 से 4 महीने के अंदर तेल अवश्य निकाल लेना चाहिए अन्यथा तेल में कड़वाहट आ जाती है.

English Summary: Simple method of Sun flower cultivation Published on: 20 December 2022, 04:46 PM IST

Like this article?

Hey! I am रवींद्र यादव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News