आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. खेती-बाड़ी

संकर नेपयिर घास है सबसे सस्ता सबसे अच्छा, दुधारू पशुओं को होगा फायदा

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
animal husbandry and shankar napier grass

पशुपालकों की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है पशुओं को पोषक आहार देना. पोषक आहार की पूर्ति ही दुग्ध उत्पादन की क्षमता को प्रभावित करती है. इतना ही नहीं उनके अच्छे स्वास्थ के लिए भी ये अनिवार्य है कि उन्हें हरे चारे के रूप में शुद्ध भोजन मिले. आंकड़ों पर गौर करें तो पायेंगें कि वर्ष 2020 में हरे एवं सूखे चारे की उपलब्धता और उनकी मांग क्रमशः 64.21 व 24.81 प्रतिशत कम होने वाली है. ऐसे में वर्षभर हरे चारे की उपलब्धता बनाये रखने के कुछ नये कदम उठाने की जरूरत पड़गी. इसके लिये किसान भाई पारम्परिक चारा फसलों के साथ-साथ बहुवर्षीय हरे चारे की खेती भी कर सकते हैं.

संकर नेपियर घास है अच्छा विकल्पः

चारे के रूप में संकर नेपियर घास एक अच्छा, सस्ता एवं पशुओं के लिए स्वास्थवर्धक विकल्प है. इसकी खेती से अन्य चारा फसलों के मुकाबले कई गुना चारा मिलता है. इससे 4-5 वर्षों तक होने वाले बुवाई पर व्यय की भी बचत होती है.

shankar napier grass and farming

क्या है संकर नेपियर घासः

संकर नेपियर घास को हम एक बहुवर्षीय चारा फसल की श्रेणी में रख सकते हैं. अच्छी बात ये है कि ये एक बार बोने पर 4-5 वर्षों तक सफलतापूर्वक हरे चारे का उत्पादन करती है. इसकी वृद्धि तीव्र होती है और इसमे अत्यधिक कल्ले निकलते हैं. इतनी ही नहीं अत्यधिक पत्तियों के साथ ये 2000 से 2500 कु0/है/ वर्ष तक हरा चारा उत्पादन देने में सक्षम है.

पोषण मानः

संकर नेपियर घास को पशु बड़े चाव से खाते हैं. रसीली होने के कारण पशु बहुत आसानी से इसे पचा लेते हैं. स्वाद के अलावा ये पशुओं को अच्छा स्वास्थ प्रदान करता है. इसमे शुष्क पदार्थों की संख्या 16-17 होती है. जबकि क्रूड प्रोटीन 9.38-14 होता है. वहीं कैल्शियम की मात्रा 0.88 4 और फास्फोरस 0.24 की मात्रा में उपलब्ध होता है.

English Summary: shankar napier grass will enhance the milk production know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News