1. खेती-बाड़ी

सितंबर माह के कृषि एवं बागवानी कार्य

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा
horticulture

कृषि कार्य करने के लिए किसानों के पास ये जानकारी होनी बहुत जरुरी है कि वो किस माह में कौन - सा कृषि कार्य करें. क्योंकि मौसम कृषि कार्य को बहुत प्रभावित करता है. इसलिए तो अलग- अलग सीजन में अलग फसलों की खेती की जाती है ताकि फसल की अच्छी पैदावार ली जा सकें. ऐसे में आइये जानते है कि सितंबर माह में किसान कौन -सा कृषि कार्य करें-

धान

  • धान का भंडारण करते समय आद्रता स्टार 10 – 12 प्रतिशत से कम होना चाहिए.

  • धान का भंडारण कक्ष और जुट के बोरों को विसंक्रमित करना चाहिए.

  • धान भंडारण के समय कीड़ों के नियंत्रण के लिए फोस्टोक्सिन दावा का प्रयोग करें.

  • कीड़ों से बचाव हेतु स्टॉक को तरपोलीन से ढ़क दें .

paddy Farming

सरसों

  • इस माह में सरसों की अगेती क़िस्मों जैसे पूसा सरसों – 25, पूसा सरसों - 28, पूसा सरसों – 27 एवं पूसा तारक की बुवाई करें.

  • सरसों में सफेद रतुआ के बचाव हेतु मेटालैक्सिल (एप्रॉन 35 एस॰ डी॰ ) 6 ग्राम प्रति किग्रा॰ बीज दर से या बैविस्टीन 2 ग्राम / किग्रा॰ बीज दर से उपचारित करें.

  • सरसों में खरपतवार नियंत्रण के लिए बुवाई से पहले 2.2 लिटर / हैक्टेयर फ्लूक्लोरोलिन का 600 – 800 पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें.

  • यदि बुवाई से पूर्व खरपतवार नियंत्रण नहीं किया गया है तो 3.3 लिटर पेंडीमिथालिन (30 ई सी ) को 600 – 800 पानी में घोलकर बुवाई के 1-2 दिन बाद छिड़काव बनाकर करें.

mustard Farming

बागवानी कार्य

सब्जियां

  • गोभी की पूसा सुक्ति, पूसा पौषजा प्रजातियों की नर्सरी तैयार करें.

  • बंद गोभी – गोल्डेन एकर, पूसा कैबेज हाइब्रिड 1

  • पालक – पूसा भारती की बुवाई आरंभ कर सकते है.

  • बैगन की पौध पर 3 ग्राम मैंकोजेब + 1 ग्राम कार्बेन्डाजिम लिटर की दर से छिड़काव करें.

  • अगेती गाजर की पूसा वृष्टि किस्म की बुवाई करें.

• गाजर को स्क्केरोटिनियाविगलन से बचाव के लिए 15 ग्राम प्रति 3 लिटर पानी में घोल बनाकर मृदा को सींचें.

फल फसलें

  • वयस्क आम के पौधोंमें बची हुई उर्वरक की मात्रा (500 ग्राम नत्रजन, 250 ग्राम फास्फोरस, 500 ग्राम पोटाश) को मानसून की बारिश के पश्चात डाले.

  • नींबू वर्गीय फलों में यदि डाईबे, स्केब तथा सूटी मोल्ड बीमारी का प्रकोप हो तो कॉपर ऑक्सीक्लोराइड (3 ग्राम / लीटर पानी ) का छिड़काव करे.

  • कैंकर बीमारी की रोकथाम के लिए पौधों में स्ट्रेप्टोसाइक्लीन तथा कॉपर सल्फेट ( 5 ग्राम स्ट्रेप्टोसाइक्लीन, 10 ग्राम कॉपर सल्फेट / 100 लीटर पानी में ) या कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 3 ग्राम प्रति लिटर पानी में डाले.

English Summary: September agricultural and horticultural work

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News