Farm Activities

बेल वाली सब्जियों को प्रमुख कीट और बीमारियों से बचाएं

upaye thum

गर्मियों में बेल वाली यानी कद्दूवर्गीय सब्जियों की खेती व्यापक रूप से होती है. कद्दूवर्गीय सब्जियों में प्रमुख रूप से तोरई, लौकी, खीरा, ककड़ी, चप्पन कद्दू, टिंडा, पेठा, खरबूज, तरबूज शामिल हैं. कई बार इनकी फसलों को कीट और बीमारियां लग जाती हैं. इसकी वजह से फसलों को भारी नुकसान भी पहुंचाता है. इनका प्रकोप फसल की गुणवत्ता और उत्पादकता को कम कर देता है. ऐसे में कद्दूवर्गीय सब्जियों के पौधों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देना चाहिए. इस लेख में आगे कद्दूवर्गीय सब्जियों में लगने वाले कीट और बीमारियों और उनकी रोकथाम के बारे में पढ़िए. 

प्रमुख कीट और उनकी रोकथाम

लालड़ी कीट- इस कीट की सुड़ियां क्रीम और पीले रंग की दिखाई देती हैं. यह प्रौढ़ पत्तियों में गोल सुराख कर देती हैं. इसके साथ ही जमीन में रहकर जड़ों को भारी नुकसान पहुंचाती हैं. इनका प्रकोप अप्रैल के पहले पखवाड़े और मध्य जून से अगस्त तक ज्यादा रहता है.

रोकथाम– कद्दूवर्गीय सब्जियों को इस कीट से बचाने के लिए आवश्यकता अनुसार कार्बोरिल 5डी में राख मिलाकर उपचार कर सकते हैं. इसके अलावा साइपरमेथ्रिन 10 ईसी या फेनवलरेट 20 ईसी को लगभग 100 लीटर पानी में मिलाकर छिड़क सकते हैं.

pests and diseases

फल मक्खी- यह मक्खियां फलों के अंदर अंडे देती हैं. इसके बाद इनसे सुड़ियां निकलती हैं. इससे फल खराब हो जाते हैं. इसका प्रकोप ककड़ी, घीया, खरबूजा, तोरी,¨टिंडा की फसल पर ज्यादा पड़ती है.

रोकथाम– इसके उपचार के लिए आवश्यकता अनुसार फेनिट्रोथियान 50 ईसी या मैलाथियान 50 ईसी, गुड़/शीरा को लगभग 200 से 250 लीटर पानी में मिलाकर 10 दिन के अंतर पर छिड़क दें.

रस चूसने वाले कीड़े –यह कीड़े फसल केपौधों का रस चूस लेते हैं. इनके प्रकोप से पौधे कमजोर पड़ जाते हैं.

रोकथाम – इसके उपचार के लिए आवश्यकता अनुसार मैलाथियान 50 ईसी को लगभग 200 से 250 लीटर पानी में मिला लें. इसके बाद इसको 10 दिन के अंतर पर छिड़कते रहें. 

प्रमुख बीमारियां और उनकी रोकथाम

पाऊडरी मिल्डयू या चिट्टा रोग–यह रोग पत्तों, तनों और अन्य भागों पर फफूंद की सफेद आटे जैसी तह जमा देता है. यह रोग खुश्क मौसम में ज्यादा होता है.

रोकथाम –फसल को बचाने के लिए बारआवश्यकता अनुसारबारीक गंधक के धूड़ें को बीमारी लगे हर भाग पर धूड़ा दें. इससे बीमारी रुक जाती है. इस प्रकिया को सुबह या शाम में करना चाहिए.

एन्थ्रेकनोज या स्कैब –इस रोग में पत्तों और फलों पर धब्बे पड़ जाते हैं. अगर अधिक नमी का मौसम है, तो धब्बों पर गोंद जैसा पदार्थ दिखाई देने लगता है.

रोकथाम –इस रोग से फसल को बचाने के लिए मैंकोजेब को लगभग 200 लीटर पानी में घोल लें. इसके बाद फसल पर इसका छिड़काव कर दें.

pests and diseases

गम्मी कॉलर रॉट–फसलों पर इस रोग का प्रकोप अप्रैल से मई में होता है. यह रोगमें तना पीला पड़कर फटनें लगता है, जिसमें गोंद जैसा चिपचिपा पदार्थ निकलता है.

रोकथाम –इस रोग का उपचार करने के लिए आप पौधों के तनों की भूमि के पास बाविस्टीन घोल से सिंचाई कर सकते हैं..

इसके अलावा आप कृषि वैज्ञानिक की सलाह से फसलों में कीटनाशक दवा भी डाल सकते हैं. ध्यान दें कि खरबूजे की फसल में चिट्टा रोग लगने पर गंधक का धूड़ा न करें. इसके लिए खरबूजे पर आवश्यकता अनुसारसल्फेक्स को पानीमें मिलाकर छिड़क दें.

ये भी पढ़ें: Farmer Income: केंद्र सरकार साल 2022 तक इस तरह बढ़ाएगी किसानों की आमदनी



English Summary: Protect vine vegetables from major pests and diseases

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in