Farm Activities

कृषकों की आर्थिक उन्नति में सहायक मशरूम उत्पादन

ढींगरी खुंभी (ऑयस्टर मशरूम) लिग्निन सेल्युलोज वाले पौधों के अवशेष पर बढ़ने वाला कवक है, जो कि प्रकृति में शीतोष्ण और उष्णकटिबधीय जंगलों में मुख्यतः मृत और सडी गली लकडियों या कभी कभी क्षयमान/कार्बनिक पदार्थों पर उगती है, मशरूम में पाए जाने वाले पोषक तत्वों के कारण इसकी उपयोगिता समूचे विश्व भर में है। इस मशरूम की खेती सुदूर-पूर्वी एशिया, यूरोप और अमेरिका के लगभग 25 देशों में की जाती है। यह दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा खेती किया गया मशरूम है। अकेले विश्व के कुल उत्पादन में 85% योगदान केवल चीन का है। अन्य प्रमुख ऑइस्टर मशरूम (सीप मशरूम) उत्पादक देश कोरिया, जापान, इटली, ताइवान, थाईलैंड और फिलीपींस हैं। वर्तमान में भारत इस मशरूम का सालाना 15,000 टन उत्पादन करता है। लगभग 11,797 टन ताजे मशरूम और 4,099 टन संरक्षित मशरूम विदेशों में निर्यात किए गए। 2001-2002  की अवधि के दौरान यू.एस.ए., फ्रांस, आयरलैंड, यूएई, रूस आदि देशों को निर्यात की गई ऑइस्टर (सीप) मशरूम की मात्रा बटन मशरूम की तुलना में कम है जिसका निर्यात का प्रमुख हिस्सा है। निर्यात किये जाने वाले मशरूम में मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर राज्यों मेघालय, त्रिपुरा मणिपुर, मिजोरम और असम लोकप्रिय है I भारत की जलवायु ऑयस्टर मशरुम उत्पादन हेतु उपयुक्त है, चूंकि भारत में ऊष्णकटिबंधीय और उपोष्ण प्रदेशों में आयस्टर मशरूम की तापक्रम आवश्यकताएं (25-28 डि.सें.) इस प्रकार की है, जिससे यह उष्णकटिबंधीय और उपोष्ण प्रदेशों में साल भर भारत के सभी राज्यों में आसानी से उगाया जा सकता है । वही किसान मशरुम को सहायक धंदो के रूप में उगाकर आर्थिक मजबूत एवं अपनी आमदनी को दोगुना कर सकते है।

ऑयस्टर मशरूम का आर्थिक महत्व

ऑयस्टर मशरुम मुख्य रूप से मानव उपभोग के लिए भोजन के रूप में उपयोग होता है। यह विटामिन सी और बी कॉम्प्लेक्स में समृद्ध है और प्रोटीन की मात्रा 1.6 से 2.5 प्रतिशत के बीच उपस्थित होती है। इसमें मानव शरीर की आवश्यकताओं हेतु प्रचुर मात्रा में खनिज लवण पाए जाते है। इसमें उपस्थित नियासिन (विटामिन B3) की मात्रा  किसी भी अन्य सब्जियों की तुलना में लगभग दस गुना अधिक पायी जाती है, जो सामान्य अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए शरीर के लिए बेहद जरूरी है। ऑयस्टर (सीप) मशरूम में मौजूद फोलिक एसिड एनीमिया को ठीक करने में मदद करता है। यह कम सोडियम, पोटेशियम अनुपात, स्टार्च, वसा और कैलोरी होने के कारण हाइपर-टेंशन, मोटापा और मधुमेह वाले लोगों के लिए उपयुक्त है। क्षारीय राख और उच्च फाइबर सामग्री, उच्च रक्तचाप और कब्ज वाले लोगों के खाने के लिए इसे उपयुक्त बनाती है। एक पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक कंपाउंड प्लुरोटिन को P. griseus से अलग किया गया है जिसमें एंटीबायोटिक गुण होते हैं।

इसके साथ उपयोग किए गए पुआल को गेहूं या चावल की भूसी को 10-15 प्रतिशत के अनुपात में पूरक पदार्थ के रूप में उपयोग करने के बाद ऑयस्टर (सीप) मशरुम उगाने के लिए पुन: प्रयोग किया जा सकता है और साथ ही नाइट्रोजन समृद्ध चिकन खाद (उपयोग के लिए धूप में सुखाया गया) के साथ उपयुक्त पूरकता के बाद सफेद बटन मशरूम उत्पादन हेतु खाद को तैयार करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। एवं उपयोग किए गए पुआल का इस्तेमाल पशुओ के चारे के रूप में किया जा सकता है और इसके साथ जैव-गैस उत्पादन के लिए भी, घोल को खाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऑयस्टर मशरुम ( सीप मशरूम) पोषण तत्वों की मात्रा।

यह पोषण संबंधी जानकारी यूएसए द्वारा 1 कप सेवन करने (86 ग्राम) कच्चे, कटा हुआ ऑयस्टर मशरूम (सीप मशरूम) के लिए प्रदान की जाती है-

कैलोरी: 28

वसा: 0.3 ग्रा

सोडियम: 15.5mg

कार्बोहाइड्रेट: 5.2 ग्रा

फाइबर: 2 जी

शक्कर: 0.95

प्रोटीन: 2.9 ग्रा

कार्बोहाइड्रेट

एक कप कच्चे, कटा हुआ ऑयस्टर मशरुम (सीप मशरूम) में सिर्फ 28 कैलोरी होती हैं। अधिकांश कैलोरी कार्बोहाइड्रेट (5.2 ग्राम) से आती हैं। मशरूम में चीनी बहुत  कम मात्रा में पाई जाती हैं, स्वाभाविक रूप से उपयोग होने वाली 1 ग्राम चीनी के साथ आपको 2 ग्राम फाइबर का लाभ होता है। जबकि इसमें बाकी कार्बोहाइड्रेट स्टार्च होता है।

वसा

ऑयस्टर मशरुम (सीप मशरूम) लगभग वसा रहित होते हैं, जो प्रति सेवन  केवल 0.3 ग्राम प्रदान करते हैं।

प्रोटीन

एक कप ऑयस्टर मशरूम (सीप मशरूम) का सेवन करने पर यह लगभग 3-4 ग्राम तक प्रोटीन प्रदान करते है।

विटामिन और खनिज

ऑयस्टर मशरूम (सीप मशरूम) कई विटामिन का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं, जिसमें नियासिन (विटामिन B3) (आपके अनुशंसित दैनिक सेवन का 21% तक प्रदान करता है),  राइबोफ्लेविन (18%), और पैंटोथेनिक एसिड (11%) शामिल हैं। जिसमे फोलेट, विटामिन B6 और थियामिन की मात्रा भी उपलब्ध होती है।

खनिज

ऑयस्टर मशरूम (सीप मशरूम) में खनिजों में फास्फोरस, पोटेशियम, तांबा (प्रत्येक के लिए आपकी दैनिक आवश्यकताओं का 10% प्रदान करता है ), लोहा, मैग्नीशियम, जस्ता, मैंगनीज और सेलेनियम शामिल हैं।

औषधीय गुणों से भरपूर

ऑयस्टर मशरुम  में स्वास्थ्य को मजबूत करने के लिए कई पदार्थ होते हैं। इन पदार्थों में फाइबर, बीटा-ग्लूकन, और कई अन्य पॉलीसेकेराइड शामिल हैं. ऑयस्टर (सीप) मशरुम के स्वास्थ्य लाभों पर कई वैज्ञानिक अध्ययन उभर कर सामने आ रहे हैं। अनुसंधान ने इस कवक के संभावित लाभों की जांच की है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक

2015 के एक अध्ययन में साक्ष्य पाया गया कि ऑयस्टर (सीप) मशरूम के सेवन में फाइबर घटक (प्लुरोटस ओस्ट्रीटस) लीवर में ट्राइग्लिसराइड संचय को कम करने में उपयोगी हो सकता है।

हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में सहायक

अनुसंधान से प्राप्त संकेत में, दिया है कि फाइबर के साथ पूरे खाद्य पदार्थ, जैसे कि मशरूम, कुछ कैलोरी के साथ कई स्वास्थ्य प्रभाव प्रदान करते हैं जो उन्हें एक स्वस्थ भोजन के पैटर्न के लिए एक स्मार्ट विकल्प बनाते हैं। जिसमे कई अध्ययनों में हृदय स्वास्थ्य के साथ फाइबर का अधिक सेवन शामिल है।

एक अध्ययन में  लेखकों ने विशेष रूप से कहा कि सब्जियों और अन्य खाद्य पदार्थों में फाइबर, "उन्हें रोग की रोकथाम और एथेरोस्क्लेरोसिस और हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए मजबूत बनता है।

इम्यून फंक्शन को बेहतर बनाने में सहायक

ऑयस्टर मशरूम पारंपरिक और पूरक चिकित्सा के जर्नल में प्रकाशित एक छोटे से अध्ययन के अनुसार (जर्नल ऑफ़ ट्रेडिशनल एंड कम्प्लीमेंट्री मेडिसिन), प्रतिरक्षा को बढ़ा सकते हैं। अध्ययन के अनुशार, प्रतिभागियों ने आठ सप्ताह के लिए एक ऑयस्टर (सीप) मशरूम अर्क निकाल कर सेवन किया। अध्ययन के अंत में, शोधकर्ताओं ने पाया कि अर्क में प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले प्रभाव मौजूद थे जिससे प्रतिरक्षा को बढ़ाया जा सकता  हैं।

एक अन्य प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि ऑयस्टर (सीप) मशरूम में ऐसे यौगिक होते हैं जो इम्युनोमोड्यूलेटर के रूप में कार्य करते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को विनियमित करने में मदद करते हैं।

कैंसर के खतरे को कम करने में सहायक 

कुछ प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि सीप मशरूम में कैंसर से लड़ने वाले गुण हो सकते हैं। इस शोध में इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन शामिल है, जिसमें मानव कोशिकाओं पर किए गए परीक्षणों से पता चला है कि सीप मशरूम का अर्क स्तन कैंसर के विकास और प्रसार को दबा सकता है और पेट के कैंसर को भी। वैज्ञानिकों का सुझाव है कि इसके संबंधों को पूरी तरह से समझने के लिए इसमें और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

मेटाबोलिक स्वास्थ्य में सुधार करने में सक्षम

ऐसे आहार का सेवन करना जिसमें बहुत अधिक फाइबर युक्त सब्जियां शामिल हैं, अक्सर स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा एक स्वस्थ वजन तक पहुंचने और उसे बनाए रखने  के लिए फाइबर युक्त भोजन के सेवन की  रूप में सिफारिश की जाती है। इसके साथ ही मशरूम उपयुक्त फाइबर एवं  बेहतर चयापचय स्वास्थ्य बनाए रखने में सहायक होता है।

सावधानी

यदि आपके पास मोल्ड एलर्जी है, तो आप मशरूम का सेवन करते समय मौखिक एलर्जी सिंड्रोम के लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं। इन लक्षणों में मुंह, चेहरे, होंठ, जीभ और गले में खुजली या सूजन शामिल हो सकती है। यदि आपको मोल्ड करने के लिए एलर्जी है, तो मशरूम का सेवन करने से पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें।

ऑयस्टर (सीप) मशरुम उगाने के लाभ

1. सबस्ट्रेट्स की विविधता

प्लुरोटस मशरूम किसी भी प्रकार के कृषि या वन से प्राप्त अवशेषो का उपयोग कर  उगाया जा सकता है। जिनमें पर्याप्त लिग्निन एवं  सेल्युलोज और हेमिकेलुलोज की उपलब्ध होती हैं।

2. प्रजातियों की भिन्नता

सभी खेती की गई मशरूमों की प्रजातियों में, प्लुरोटस अधिकतम व्यावसायिक रूप से खेती की जाने वाली प्रजातियो में से एक हैं, जो साल भर खेती के लिए उपयुक्त हैं। इसके अलावा अन्य प्रजातियां,आकार, रंग, बनावट और सुगंध में भिन्नता के आधार पर  उपभोक्ता की पसंद के अनुसार उपलब्ध हैं।

3. सरल उत्पादन तकनीकी

प्लुरोटस का मायसीलीयम ताजा या किण्वित पुआल पर विकसित हो सकता है और इसे विकास के  लिए खाद सब्सट्रेट की आवश्यकता नहीं होती है। ऑयस्टर मशरूम के लिए सब्सट्रेट तैयारी करना बहुत सरल है। इसके अलावा इस मशरूम के उत्पादन के लिए, बटन मशरुम (Agairicus bisporus) की तरह नियंत्रित पर्यावरण की आवश्यकता नहीं होती, इसकी प्रजातियो को सामान्य तापक्रम (25-28 सेंटीग्रेड ) पर वर्ष भर उगाया जा सकता है।

4. लंबे समय तक शैल्फ जीवन

सफेद बटन मशरूम के विपरीत, ऑयस्टर (सीप) मशरूम फल निकायों को आसानी से सुखाकर और संग्रहीत किया जा सकता है। सूखे सीप मशरूम को तुरंत गर्म पानी में 5 से 10 मिनट तक भिगोने के बाद इस्तेमाल किया जा सकता है या इसे कई तरह की तैयारी के लिए पाउडर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। ताजा मशरूम का कमरे के तापमान पर भी 24-48 घंटे का शेल्फ जीवन होता है।

5. उच्चतम उत्पादकता

अन्य सभी उत्पादित  मशरूम की तुलना में प्रति इकाई समय ऑयस्टर  मशरूम की उत्पादकता बहुत अधिक है। एक टन सूखे गेहूं के भूसे या धान के पुआल से, एक टन से 45-50 दिनों में ताजे मशरूम की न्यूनतम 500 से 650 किलोग्राम की कटाई की जा सकती है, जबकि एक ही मात्रा में धन के पुआल के साथ सफेद बटन मशरूम केवल 400-500 किलोग्राम, 80 दिनों में प्राप्त होता हैं एवं 100 दिन (खाद तैयार करने के लिए आवश्यक अवधि सहित)। इस मशरूम के उत्पादन को उपयुक्त नाइट्रोजन स्रोत अर्थात सोयाबीन और कपास के खाद के उपयोग के साथ सब्सट्रेट के पूरक द्वारा या उच्च उपज वाली प्रजातियों का उपयोग करके बढ़ाया जा सकता है।

ओएस्टर मशरूम की उत्पादन तकनीक

आयस्टर मशरूम उत्पादन में उपयोग होने वाली सामग्री की पूर्ति मुख्यतौर पर कृषि अवशेषो से हो जाती है, ऑयस्टर मशरूम उत्पादन में आवश्यक गेहू का भूसा या धान के पुआल की आवश्यकता मुख्यतौर पर होती है, जो आसानी से फसलों के अवशेषों से प्राप्त हो जाता है। जिसमे किसान अनावश्यक कृषि अवशेषो  का उपयोग आमंदनी को बढ़ाने के लिए कर सकता है एवं मशरुम उत्पादन के पस्चात बचे अवशेषो का उपयोग उत्तम खाद के रूम में भूमि की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने में किया जा सकता है। 

आवश्यक सामग्री

भरावन सामग्री (सब्सट्रेट) गेहूं का भूसा, धान का पुआल।

कवकनाशी (फंगीसाइड) - कार्बेन्डाजिम (7.5 ग्राम/100 लीटर पानी )

फॉर्मेल्डिहाइड (150ml/100लीटर पानी)

पॉलीथिन बैग

प्लास्टिक ड्रम (क्षमता 200लीर )/ बड़ी सीमेंट की टंकी

आवश्यकता अनुशार रस्सी (मुँह बांधने एवं लटकाने हेतु)

बॉस आवश्यकता अनुसार ( उत्पादन में उपयोग की जाने वाली जगह के अनुसार, रैक बनाने हेतु)

ऑयस्टर मशरूम की खेती योग्य प्रजातियाँ

पी.ऑलियेरियस और पी. निदिफॉर्मिस ( जिन्हें जहरीला बताया गया है) को छोड़कर ऑयस्टर मशरूम की सभी किस्में या प्रजातियां खाद्य हैं. पूरे विश्व भर में इस जीनस की 38 प्रजातियाँ दर्ज हैं। हाल के वर्षों में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में 25 प्रजातियों की व्यावसायिक खेती की जाती है, जो इस प्रकार हैं: पी. ओस्ट्रीटस, पी. फ्लैबेलैटस, पी. फ्लोरिडा, पी. साजोर-काजु, पी. सेपिडस, पी. सिस्टिडिओसस, पी. इरिंजिएइ. पी फोसुलैटस, पी. ओपंटिया, पी. कॉर्नुकोपिया, पी. युक्काए, पी. प्लैटिपस, पी. डजॉमर, पी. ट्यूबर-रेजियम, पी. ऑस्ट्रलिस, पी. पर्पुरो-ओलिवेसस, पी. पॉपुलिनस, पी. लेविस, पी. कोलबुम्बिनस, पी. मेम्ब्रेनैसस आदि हैं।

ऑयस्टर (ढींगरी, सीप) मशरूम उत्पादन की प्रक्रिया निम्न चरणों द्वारा पूरी की जाती है-

1. स्पॉन की तैयारी या खरीद 
2. सबस्ट्रेट की तैयारी 
3. सब्सट्रेट का स्पॉन और 
4. क्रॉप मैनेजमेंट

स्पॉन की तैयारी या खरीद

स्पॉन बनाने हेतु गेहूं के दानों का चुनाव

ऑयस्टर (सीप) मशरूम के लिए स्पॉन तैयारी करने की तकनीक सफेद बटन मशरूम (एगैरिकस बिस्पोरस) के समान ही है। जिसके लिए प्लुरोटस स्पेसीज का शुद्ध कल्चर होना आवश्यक है। जिसे निष्क्रिय गेहूं, ज्वार, अनाज पर टीका लगाकर तैयार किया जाता है इसके  लिए अनाज पर माइसेलियम की पूर्ण वृद्धि के लिए लगभग 10-15 दिनो  का समय लगता है। यह ज्ञात है कि ज्वार और बाजरा, माइसेलियम की वृद्धि के लिए गेहूं के दानों से बेहतर होते हैं। ऑयस्टर (सीप) मशरूम का माइसेलियम गेहूँ के दानों पर बहुत तेजी से बढ़ता है और 25-30 दिन में पुराना स्पॉन बोतल में ही फल-फूल बनाने लगता है। इसलिए, यह सुझाव दिया गया है कि स्पॉन तैयारी या स्पॉन प्रोक्योरमेंट के लिए शेड्यूल के अनुसार योजना बनाई जानी चाहिए। एवं आवश्यकतानुसार स्थानीय संस्थाओ एवं उत्पादको से स्पान की आवश्यक खरीदी की जा सकती है, जिसका अनुमानित बाजारू मूल्य 60-70 रुपये/ किलोग्राम की दर से प्राप्त हो जाता है।

सब्सट्रेट की तैयार

ऑयस्टर मशरूम गेहूं, धान और रागी, मक्का, ज्वार, बाजरा और कपास के पत्तों, गन्ने के बैगस, मटर अखरोट के ऑयस्टर (सीप) मशरूम के अधिकतम उत्पादन के लिए और उनके पोषण की गुणवत्ता के लिए उपयुक्त  सबस्ट्रेट्स का चुनाव करना अति आवश्यक है। ऑयस्टर (सीप) मशरूम उगाने के लिए बड़ी संख्या में कृषि, वन और कृषि-औद्योगिक उप-उत्पाद उपयोगी हैं। ये उपोत्पाद या अपशिष्ट, सेल्युलोज, लिग्निन और हेमिकेल्यूलोज से भरपूर होते हैं। हालांकि, ऑयस्टर (सीप) मशरूम की उपज काफी हद तक सब्सट्रेट के पोषण और प्रकृति पर निर्भर करती है। सब्सट्रेट ताजा, सूखा, मोल्ड के संक्रमण से मुक्त और ठीक से संग्रहीत होना चाहिए।

गोले, सूखे घास, सूरजमुखी सहित कई कृषि-कचरे का उपयोग कर उगाये जा सकते हैं। सेलूलोज़ और लिग्निन सामग्री किसी भी सब्सट्रेट के महत्वपूर्ण घटक हैं जहाँ तक उपज का संबंध है। कपास अपशिष्ट जैसे सेलूलोज़ समृद्ध सब्सट्रेट बेहतर उपज देते हैं। सेलूलोज़ अधिक एंजाइम उत्पादन में मदद करता है, जिसका  उच्च उपज के सहसंबद्ध है। मुख्यतौर पर उपलब्धता के आधार पर गेहू का भूसा एवं धन की पुआल का उपयोग सब्सट्रेट के रूप में बहुयात मात्रा में किया जाता है।

सब्सट्रेट तैयार करने की विभिन्न विधियाँ

प्लुरोटस के मायसेलियम प्रकृति में सैप्रोफाइटिक है, और इसके विकास के लिए चयनात्मक सब्सट्रेट की आवश्यकता नहीं है। मायसेलियल की ग्रोथ एक साधारण जल उपचारित भूसे पर हो सकती है लेकिन पुआल पर पहले से मौजूद अन्य सेल्युलोलिटिक मोल्ड्स की संख्या होती है, जो स्पॉन रन के दौरान प्लेयूरोटस मायसेलियम के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं और विषाक्त चयापचयों को स्रावित करके इसके विकास में बाधा उत्पन्न करते हैं। प्लुरोटस मायसेलियम के विकास के पक्ष में अवांछनीय सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए विभिन्न तरीके का उपयोग किआ जाता हैं। सब्सट्रेट तैयार करने के लोकप्रिय तरीके निम्नानुसार हैं-

स्टीम पाश्चराइजेशन विधि 

इस विधि का उपयोग मुख्यतौर पर बड़े पैमाने पर व्यावसायिक उत्पादन हेतु किया जाता है, न इसमें नम  किए गए पुआल को लकड़ी की ट्रे या बक्से में भर लिया जाता है और फिर 58-62 सेंटीग्रेड पर चार घंटे के लिए पाश्चराइजेशन रूम में रखा जाता है। पास्चुरीकरण कक्ष के तापमान को बॉयलर के माध्यम से भाप की मदद से नियंत्रित किया किया जाता है। उसके पश्चात कमरे के तापमान पर ठंडा करने के बाद सब्सट्रेट में  स्पॉन की विजाई की जाती है। पूरी प्रक्रिया में लगभग 4-5 दिन लगते हैं।

ट्राइकोडर्मा, पेनिसिलियम, एस्परजिलस और डोरैटोमाइसीटीस की विभिन्न प्रजातियां। ऑयस्टर (सीप) मशरूम की खेती के दौरान पुआल पर आम प्रतियोगी कवक के रूप में उपस्थित होते हैं। यदि यह स्पॉन रन के दौरान भूसे पर मौजूद होते हैं, तो वे मशरूम मायसेलियम की वृद्धि की में अवरोध उत्पन्न कर मायसेलियम की वृद्धि नहीं होने देते, जिसके परिणामस्वरूप उपज में कमी या फसल की पूर्णतः विफलता हो जाती है। जिसके लिए भूसे या पुआल को 15-18 घंटे की अवधि के लिए कार्बेन्डाजिम 50% WP (7.5 ग्राम/100 लीटर पानी) और फॉर्मलाडेहाइड (125 एम एल /100 लीटर पानी) के रासायनिक घोल को एक प्लास्टिक के ड्रम (200 लीटर छमता युक्त ) में डूबा कर, ड्रम के मुँह को एक पॉलिथीन शीट से कवर कर उपचारित  किया जाता है, जिससे अधिकांश प्रतियोगी कवक निष्क्रिय या ख़त्म हो जाते है। 15 से 18 घंटे के बाद भूसे को बाहर निकाल कर अतिरिक्त पानी निकाल दिया जाता है। अधिक पुआल को भिगोने के लिए एक बड़ा कंटेनर या 1000-2000 लीटर के सीमेंटेड टैंक का उपयोग किया जा सकता है।

गर्म पानी का उपचार विधि

गर्म पानी उपचार विधि में गेहू के भूसे या धन के पुआल को गर्म पानी (65-75 डिग्री सेल्सियस) पर एक घंटे के लिए या 80 डिग्री सेल्सियस पर 60 से 120 मिनट तक उपचारित किया जाता है। इसके बाद अतिरिक्त पानी निकाल कर ठंडा करले उसके बाद, स्पॉन की बिजाई की जाती है। गर्म पानी के उपचार से मक्के के डंठल, तने आदि सख्त पदार्थ मुलायम हो जाते हैं, जिससे माइसेलियल का विकास आसानी से हो जाता है।

गर्म पानी का उपचार विधि

स्पॉनिंग/बिजाई करना

स्पूनिंग या बिजाई निम्नवत विधियों द्वारा की जा सकती है

छिटकवा विधि

छिटकवा विधि में स्पॉन की बिजाई, निथारे गए भूसे के ऊपर छिटक कर की जाती है उसके पश्चात स्पॉन को भूसे में हाथो से अच्छी तरह मिलाकर उसे पॉलिथीन में अच्छी तरह दबाकर भरा जाता है, पॉलिथीन भरते समय ध्यान रखा जाना चाहिए की पॉलिथीन में भूसा चारो तरफ सामान मात्रा एवं सामान दाब के साथ भरा जाए, पॉलिथीन में भूसा इस मात्रा में भरा जाना चाहिए कि पॉलिथीन का मुँह बांधने में परेशानी न हो,पॉलिथीन के मुँह को अच्छी प्रकार से बांधने के पश्चात किसी लकड़ी या पेन की सहायता से प्रति बैग 60-70 छेद करना चाहिए, उसका पश्चात बैग को उचित  स्थान पर रेको में या रस्सी की सहायता से लटकाया जा सकता है।

परत विधि

परत विधि में स्पॉन की बिजाई स्पॉन की परत दर परत बनाकर की जाती है जिसकी प्रक्रिया में पॉलिथीन के आधार पर पहली परत भूसे की भरकर एवं दूसरी परत स्पॉन की बनायीं जाती है (स्पॉन की परत में लगभग 30-40 बीज स्पॉन उपयोग किये जाते है) उसके पश्चात पॉलिथीन बैग के मुँह को रस्सी से अच्छी तरह बांध दिए जाता है।

पोषकपूर्ति या (सप्लीमेन्टेशन)

आयस्टर खुंभी की उपज बढाने के लिए माध्यम में बीजाई के पहले कई प्रकार के पदार्थ पोषकपूर्ति  के लिए मिलाये जाते हैं। प्लूरोटस सजोर काजू और प्लूरोटस फ्लेबेलेट्स के लिए निर्जीवीकृत मुर्गी की खाद उपयोग में लायी जाती है। जई का आटा और अरहर की दाल पाउडर भी प्लूरोटस की उपज बढाते हैं। इसके अलावा स्टार्च (10 ग्राम प्रति किलो माध्यम), गेहूँ का चोकर, कपास की खली, लकडी का बुरादा और मुर्गी की बीट की खाद 14 प्रतिशत के स्तर पर धान की भूसी, धान के पैरा में कपास की खली, गेहूँ का चोकर और सोयाबीन का आटा, गेहूँ का चोकर और धान की भूसी (4 प्रतिशत) के उपयोग से मशरुम की पैदावार बढ़ती है।

फसल उत्पादन एवं रख रखाव:

बीजाई की गई थैलियों को अँधेरे कमरे (उत्पादन कक्ष) में 15 से20  दिन (विभिन्न प्लुरोटस प्रजातियों के लिए अलग-अलग) तक रखते हैं तब तक कवक जाल भेदकर माध्यम की निचली सतह पर न पहुंच जाए।

कवकजाल की वृद्धि

10-15 इंच की दूरी पर रख रखाव

जब माध्यम पर खुंभी का कवकजाल पूरी तरह फैल जाए तब पॉलीथीन थैलियों को या तो निकाल दिया जाता है या उसे तेज चाकू की सहायता से लम्बाई में काट देते है, जिससे फलनकाय का विकास उचित प्रकार से हो सके। किसी भी दशा में थैलियों को 18-20  दिन बाद ही खोलना चाहिये ताकि कवकजाल का पूर्ण विकाश हो सके। कवकजाल की वृद्धि के कारण माध्यम सफेद दिखायी देने लगता है। कवकजाल की वृद्धि के समय कमरे का तापक्रम 25-28 सेन्टीग्रेड, आपेक्षित आर्द्रता 75-80 प्रतिशत और अंधेरा होना चाहिये। इस समय सबसे कम वातायन रहना चाहिये जिससे तापक्रम में बदलाव न आये।

कवकजाल के पूरी तरह फैलने के बाद थैलियों या माध्यम के ब्लॉक्स को छिद्रदार बास के फ्रेम या लोहे की अलमारी पर (10-15 इंच की दूरी पर रखते हैं) या तिरछे बांस लगाकर लटकाया जा सकता है। फसल उगाने का कक्ष पूर्णत: वातायित होना चाहिये। कमरे की खिडकियां व दरवाजे प्रतिदिन 2 घटे खुले रखने चाहिये, जिससे कार्बन डाय ऑक्साइड बाहर निकलती रहे तथा ऑक्सीजन की उचित मात्रा कमरे में विद्यमान रहे।

फलनकाय बनते समय तापक्रम 20±25  सेन्टीग्रेड, आर्द्रता 80-90 प्रतिशत एवं हल्का वातायन रहना चाहिये। उचित नमी बनाये रखने के लिए माध्यम पर पानी का छिडकाव किया जाता है। ज्यादा पानी देने से माध्यम में पानी जमा हो जाता है  जिसके कारण  माध्यम सडने लगता है और खुंभी के बनने में बाधा उत्पन्न होती है। पानी का छिडकाव हमेशा ढींगरी तोडने के बाद करना चाहिये।

आयस्टर खुंभी की उपज बढाने के लिए माध्यम में बीजाई के पहले कई प्रकार के पदार्थ पोषकपूर्ति  के लिए मिलाये जाते हैं। प्लूरोटस सजोर काजू और प्लूरोटस फ्लेबेलेट्स के लिए निर्जीवीकृत मुर्गी की खाद उपयोग में लायी जाती है। जई का आटा और अरहर की दाल पाउडर भी प्लूरोटस की उपज बढाते हैं। इसके अलावा स्टार्च (10 ग्राम प्रति किलो माध्यम), गेहूँ का चोकर, कपास की खली, लकडी का बुरादा और मुर्गी की बीट की खाद 14 प्रतिशत के स्तर पर धान की भूसी, धान के पैरा में कपास की खली, गेहूँ का चोकर और सोयाबीन का आटा, गेहूँ का चोकर और धान की भूसी (4 प्रतिशत) के उपयोग से मशरुम की पैदावार बढ़ती है।

फसल उत्पादन एवं रख रखाव:

बीजाई की गई थैलियों को अँधेरे कमरे (उत्पादन कक्ष) में 15से20  दिन (विभिन्न प्लुरोटस प्रजातियों के लिए अलग-अलग) तक रखते हैं तब तक कवक जाल भेदकर माध्यम की निचली सतह पर न पहुंच जाए।

जब माध्यम पर खुंभी का कवकजाल पूरी तरह फैल जाए  तब पॉलीथीन थैलियों को या तो निकाल दिया जाता है या उसे तेज चाकू की सहायता से लम्बाई में काट देते है, जिससे फलनकाय का विकास उचित प्रकार से हो सके । किसी भी दशा में थैलियों को 18 -20  दिन बाद ही खोलना चाहिये ताकि कवकजाल का पूर्ण विकाश हो सके।कवकजाल की वृद्धि के कारण माध्यम सफेद दिखायी देने लग्गता है। कवकजाल की वृद्धि के समय कमरे का तापक्रम 25-28 सेन्टीग्रेड, आपेक्षित आर्द्रता 75-80 प्रतिशत और अंधेरा होना चाहिये। इस समय सबसे कम वातायन रहना चाहिये जिससे तापक्रम में बदलाव न आये।

कवकजाल के पूरी तरह फैलने के बाद थैलियों या माध्यम के ब्लॉक्स को छिद्रदार बास के फ्रेम या लोहे की अलमारी पर (10-15 इंच की दूरी पर रखते हैं) या तिरछे बांस लगाकर लटकाया जा सकता है। फसल उगाने का कक्ष पूर्णत: वातायित होना चाहिये। कमरे की खिडकियां व दरवाजे प्रतिदिन 2 घटे खुले रखने चाहिये, जिससे कार्बन डाय ऑक्साइड बाहर निकलती रहे तथा ऑक्सीजन की उचित मात्रा कमरे में विद्यमान रहे।

फलनकाय बनते समय तापक्रम 20±25 सेन्टीग्रेड, आर्द्रता 80-90 प्रतिशत एवं हल्का वातायन रहना चाहिये। उचित नमी बनाये रखने के लिए माध्यम पर पानी का छिडकाव किया जाता है। ज्यादा पानी देने से माध्यम में पानी जमा हो जाता है  जिसके कारण माध्यम सडने लगता है और खुंभी के बनने में बाधा उत्पन्न होती है। पानी का छिडकाव हमेशा ढींगरी तोडने के बाद करना चाहिये।

यदि कमरे के अंदर का तापमान 30 सेन्टीग्रेड से अधिक हो जाता है तो समय-समय पर कमरें में पानी का हल्का छिडकाव करने से तापक्रम में कमी आती है और खुंभी जल्दी निकलती है। रात के समय कमरे में ठण्डी हवा अंदर आने के लिए खिडकी और दरवाजे खोल दिये जाते हैं ।

फलनकाय की वृद्धि

थैली खोलने के 3-4 दिन बाद खुंभी के पिन हेड बनने लगते है। अगले 2-3 दिन में परिपक्व खुंभिया तोडने लायक हो जाती है। यदि माध्यम पर खुंभी का कवकजाल पूरी तरह नहीं फैला है तो फलनकाय देरी से बनते हैं। ढींगरी के फलनकाय बनने के लिए प्रकाश की आवश्यकता होती है, अंत: प्रतिदिन 4 से 5 घंटे टयूबलाइट अथवा बल्ब का प्रकाश देना चाहिये। इसका इसका फसल चक्र 50-60 दिन तक चलता है।

अंतिम भाग से खुंभी तोडने के पश्चात माध्यम के मध्य भाग में लंबी दरारें बनायी जाती हैं जिससे और अधिक खुंभियां बन सके। जब तक माध्यम सफेद रहता है तब तक उपयुक्त वातावरण में खुंभियां बनती रहती हैं। जब यह रंगहीन और नरम हो जाता है तब थैलियों को कमरे से बाहर निकाल लिया जाता है.

मशरुम की तुड़ाई

जब खुंभी का किनारा ऊपर की तरफ मुडने लगता है तब प्लूरोटस के फलनकाय को तोड़ लेना चाहिए। खुंभी की तुड़ाई के बाद फलनकाय में धीरे-धीरे पानी और भार में कमी आने लगती है और यह नाजुक हो जाती है।

पोस्ट हार्वेस्ट प्रैक्टिस

पानी का स्प्रे करने से पहले मशरूम की कटाई करना उचित माना जाता है। फलकाय के शरीर के आकार और शेप के आधार पर पिकिंग के लिए सही अवस्था का अंदाजा लगाया जा सकता है। युवा मशरूम में, टोपी का किनारा मोटा होता है जबकि परिपक्व मशरूम की टोपी सपाट होती है, और उसमे  कर्लिंग होना शुरू हो जाती है। एक बैग से एक बार में सभी मशरूम की कटाई करने की सलाह दी जाती है ताकि मशरूम की अगली फसल जल्दी शुरू हो। तुड़ाई के बाद डंठल के निचले हिस्से को चाकू का उपयोग करके काट देना चाहिए, क्यों की कुछ उपभोक्ताओ द्वारा इसे पसंद नहीं किया जाता है। विपणन के लिए ताजा मशरूम को छिद्रित पॉलीथीन के बैग में पैक किया जाना चाहिए। इसे  सूरज की तेज रोशनी या विसरित प्रकाश में एक सूती कपड़े पर फैलकर भी सूख सकते हैं। 2-4% नमी के साथ सूखे उपज को उचित सील के बाद 3से4 महीने तक संग्रहीत किया जा सकता है।

ऑयस्टर (सीप) मशरूम से तैयार होने वाले व्यंजनों की सूची-

ऑयस्टर (सीप) मशरुम केलगभग 60 से अधिक व्यंजन अलग अलग प्रकार से बनाये जाते है, जिनमे से कुछ अधिक पसंद के आधार पर निम्न है-

कढाई मशरूम रेसिपी, मशरूम मसाला, मशरूम बिरयानी, मशरूम सूप, मशरूम फ्राई, मशरूम मंचूरियन, मिर्च मशरूम, मशरूम फ्राइड राइस रेसिपी, मशरूम पुलाओ रेसिपी, मटर मशरूम रेसिपी, कडाई मशरूम ग्रेवी रेसिपी, आलू मशरूम रेसिपी, मशरूम बटर मसाला, मशरूम बटर मसाला रेसिपी, पालक मशरूम, मेथी मशरूम रेसिपी, मशरूम टिक्का मसाला, मशरूम पनीर, मशरूम मंचूरियन ग्रेवी रेसिपी, मशरूम मटर करी रेसिपी, मशरूम विंदालू रेसिपी, चाइनीज स्टाइल गार्लिक मशरूम, मशरूम कलर्ड रेसिपी, तवा मशरूम रेसिपी, मशरूम दो प्याजा।

श्री सतेंद्र कुमार शर्मा
सहायक प्राध्यापक
चंडीगढ़ ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेस, झाझेड़ी, मोहाली, पंजाब
ईमेल:-ss0944619@gmail.com

श्री मोहित कुमार
सहायक प्राध्यापक
चंडीगढ़ ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेस, झाझेड़ी, मोहाली, पंजाब



English Summary: Profitable farming: oyster mushroom production costs to profits, know when and how you can do farming

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in