1. खेती-बाड़ी

बेल वाली फसलों की खेती से मिलेगा बंपर उत्पादन, किसान शुरू कर दें तैयारी

खेती से अधिक मुनाफा तभी प्राप्त होता है, जब मौसम के हिसाब से फसल की खेती की जाये, सही मायने में मौसम के अनुसार ही फसलों की खेती करने पर ही उत्पादन अच्छा प्राप्त होता है.मगर कुछ ऐसी फसलें भी होती हैं, जो ठंड के मौसम में अधिक उत्पादन देती हैं, जिससे किसानों को अधिक लाभ मिलता है.

स्वाति राव
Agriculture
Agriculture

खेती से अधिक मुनाफा तभी प्राप्त होता है, जब मौसम के हिसाब से फसल की खेती की जाये, सही मायने में मौसम के अनुसार ही फसलों की खेती करने पर ही उत्पादन अच्छा प्राप्त होता है.मगर कुछ ऐसी फसलें भी होती हैं, जो ठंड के मौसम में अधिक उत्पादन देती हैं, जिससे किसानों को अधिक लाभ मिलता है. ऐसे ही जानकारी हरियाणा के बागवानी विभाग की तरफ से किसानों के लिए दी गयी है, जिससे किसानों को अधिक उत्पादन के साथ – साथ मुनाफा भी प्राप्त हो सकेगा.

वैसे तो सर्दियों के मौसम में बहुत सी सब्जियां उगाई जाती हैं, जिसमे से कुछ के नाम ये है:- हरी मिर्च, गाजर, मूली, धनिया, आलू, पालक, मटर, प्याज, शिमला मिर्च, बंद गोभी, साग आदि हैं. मगर बागवानी विभाग ने किसानों को बेल वाली फसलों जैसे तोरई, घिया, लोकी, टमाटर आदि की खेती करने का सुझाव दिया है. उन्होंने कहा कि किसान भाई इन फसलों की खेत से अधिक मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं. बेल वाली फसल जैसे लौकी की नर्सरी फरवरी के अंत तक तैयार कर सकते हैं. बाजार से अच्छे भाव लेने के लिए लौकी की अगेती और पछेती खेती करना अधिक लाभदायक माना जाता है.

विभाग द्वारा दी गयी सलाह (Advice Given By The Department)

  • सब्जियों की खेती करने से पहले उसकी नर्सरी तैयार करें.

  • नर्सरी से तैयार पौधे में लगभग सभी प्रकार के पोषक तत्व देकर एक अच्छा हाइब्रिड लौकी का बीज (पौधा) तैयार कर सकते हैं.

  • नर्सरी का पौधा दो सप्ताह के बाद अंकुरित हो जाता है.

इस खबर को पढ़ें - लौकी की फसल में लगने वाले प्रमुख रोग एवं उनकी रोकथाम

  • पौधे पर चार पत्तियां आने के बाद उसे लगा दें.

  • किसान पहले अपने खेत को अच्छी तरह से तैयार करें.

  • बुआई के लिए नाली बना लें और एक मीटर बनी नाली में दोनों ओर से अंदर की ओर पौधों को लगाएं.

मिलेगा अनुदान (Will Get Grant)

इसके अलावा बागवानी विभाग की तरफ से सब्जियों के खेत में बांस व तार लगाकर सब्जिया उत्पादन करने पर किसानों को अनुदान दिया जा रहा है. जिसमें प्रति एकड़ 39,250 रुपये अनुदान के रूप में दिए जाते हैं.

English Summary: prepare for vine crop for more profit Published on: 17 January 2022, 01:01 IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News