1. खेती-बाड़ी

सामूहिक खेती कर नक्सल प्रभावित गांव पेश कर रहा मिसाल

किशन
किशन
MULTI  FARMING

झारखंड के लातेहार जिले के सदर प्रखंड का नक्सल प्रभावित हेसलवार गांव आज सामूहिकता और स्वावलंबन की नई मिसाल को पेश कर रहा है. गांव के लोग सामूहिक तौर पर केले की खेती को करके अपनी किस्मत को बदलने का कार्य कर रहे है. एक समय पहले ऐसा समय था जब इसी गांव के लोग पेट पालने हेतु पलायन के लिए मजबूर थे.

सामूहिक खेती की मिसाल

इस गांव में 50 आदिवासियों का घर है. इस पर गांव वालों का कहना है कि धान और मक्के की खेती से काफी सीमित ही कमाई होती थी. लोग पहले ही यहां से धीरे-धीरे पयालन के लिए मजबूर हो जाते थे. उपायुक्त और बीडीओ ने गांव का दौरा किया है. हम लोगों को अलग तरीके से खेती को करने की सलाह दी जाती है.जिसके बाद गांववालों ने सामूहिक तौर पर केले की खेती को करने का फैसला ले लिया है. गांव वालों के अनुसार लगभग 6 एकड़ में केले की खेती को किया गया है. यहां पर 2600 पौधे लगाए गए है और खेती में जितने भी खर्च हुए है उसे पूरे गांव वालों ने मिलकर वहन किया है. इसकी खेती को जो भी फायदा होगा तो गांव वाले इसको बराबर वांट लेंगे. गांव वालों का कहना है कि 7 से 8 महीने में इसकी खेती से 8 से 9 लाख का अनुमान है. खेती में जिले प्रशासन की भरपूर मदद मिल रही है.

SAMUIHIK KHETI

केले के बाद पपीता और फूल खेती की योजना

हेसलबार गांव के लोग काफी मेहनती है. गांववालों ने सामूहिक खेती की मिसाल कायम कर ली है आने वाले दिनों में अन्य प्रखंड और जिले के लोग इनसे प्रेरित होंगे. फिलहाल इन्होंने केले की खेती को करने का कार्य किया है और बाद में पपीता और फूलों की खेती को करने की योजना भी है. यहां के डीसी का हना है कि सरकार की योजनाओं से ही गांव और ग्रामीणों का विकास संभव है. यदि कोई समूह इसको ठान लें तो हेसबार के ग्रामीण सामूहिक खेती करके बेहतर उदाहरण पेश कर रहे है. बता दें कि यह गांव जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर है. यह एक नक्सल प्रभावित क्षेत्र है. गांव तक पहुंचने में दो नदियों को पार करना पड़ता है. इन पर अभी तक पुल भी नहीं बने है.

English Summary: New examples presenting women from the village by collective cultivation

Like this article?

Hey! I am किशन. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News