1. खेती-बाड़ी

Ground Report: मशरूम की खेती और बिज़नेस से कमाएं डबल मुनाफा, इस लेख में पढ़िए संपूर्ण जानकारी

"खेती के व्यवसाय में भी फायदा होता है, लेकिन खेती करने का भी एक कायदा होता है". कृषि को व्यवसाय से जोड़कर ही किसानों की समस्याओं का हल किया जा सकता हैं. किसान सबसे सुखी हो सकता है यदि वो शिक्षित हो जाये. ऐसी एक मिसाल उत्तर पश्चिमी दिल्ली जिले की नरेला तहसील के तिग्गीपुर गांव के मशरूम ग्रोवर पप्पन सिंह गेहलोत (Mushroom Grower Pappan Singh Gehlot) ने कयाम की है. इनके फार्म का नाम पीताम्बर मशरूम फार्म (Pitambar Mushroom Farm) है और इन्हें मशरूम की खेती में 28 साल का अनुभव है.

कृषि जागरण (Krishi Jagran) की टीम ने पप्पन सिंह गेहलोत के फार्म पर जाकर विजिट किया और उनसे बातचीत भी की. इस दौरान बताया कि उन्होंने बहुत ही छोटे लेवल पर मशरूम की खेती (Mushroom Farming) शुरू की थी. उनके मन में शुरु से ही एक इच्छा शक्ति थी कि उन्हें कुछ अलग करना है और इसका व्यवसाय (Mushroom Farming Business) करके अच्छा मुनाफा कमाना है. नतीजन आज उन्होंने अपना फार्म बना लिया है, जिसमें यह लोगों को रोज़गार (Employment) भी दे रहे हैं.

बता दें कि लॉकडाउन में जहां मजदूरों को दुःख झेलना पड़ा, वहीं उन्होंने अपने मजदूरों को फ्लाइट से उनके गांव भेजा था. इसके चलते यह मेनस्ट्रीम मीडिया की सुर्ख़ियों में बने रहे थे. खास बात यह है की पप्पन सिंह पहले मशरुम की खेती के लिए गेंहू के भूसे का इस्तेमाल करते थे. मगर समय के साथ उन्होंने देखा कि पराली (Parali) पर्यावरण के लिए एक संकट बनती जा रही है. ऐसे में उन्होंने पराली के भूसे से खेती करना शुरू कर दिया जोकि पराली का इस्तेमाल करने का एक बेहतर विलकप है. तो आइये जानते है कि मशरुम फार्मिंग और उसका बिज़नेस (Mushroom farming and its business) कैसे करें.

बटन मशरूम की खेती कैसे करें? (How to Cultivate Button Mushroom?)

जलवायु संबंधी आवश्यकताएं (Climatic Requirements): मशरूम पर्यावरण नियंत्रित फसल शेड में उगाए जाते हैं. इसे वानस्पतिक वृद्धि के लिए 20-28 डिग्री सेल्सियस और प्रजनन वृद्धि के लिए 12-18 डिग्री सेल्सियस यानी की आवश्यकता होती है. 80-90% डिग्री के समय इसे वेंटिलेशन की भी आवश्यकता होती है.

स्टेप बाय स्टेप प्रक्रिया (Step by Step Procedure)

  • मशरूम स्पॉन उत्पादन (Mushroom Spawn Production)

  • खाद की तैयारी (Preparation of compost)

  • उत्पन्न करने वाला (Spawning)

  • आवरण मिट्टी (Casing Soil)

  • फसल और कटाई (Cropping and Harvesting)

मशरूम स्पॉन उत्पादन (Mushroom Spawn Production)

स्पॉन उत्पादन में, मशरूम की नस्ल 'मायसेलियम' (Mycelium) को भाप-निष्फल (Steam-Sterilized) अनाज पर रखा जाता है. उस समय में माइसेलियम पूरी तरह से अनाज के माध्यम से बढ़ता है. इस प्रक्रिया को स्पॉन कहा जाता है. इस स्पॉन को खाद बनाने की आगे की प्रक्रिया के लिए भेजा जाता है. स्पॉन का उत्पादन प्रयोगशालाओं में किया जा सकता है या अन्य स्रोतों से खरीदा जा सकता है.

खाद तैयार करने की प्रक्रिया  (Preparation of compost)

कम्पोस्ट स्पॉन की वृद्धि के लिए कृत्रिम रूप से तैयार किया गया साधन है. यह पौधों के अपशिष्ट, लवण, अन्य पूरक और पानी को मिलाकर बनाया गया मिश्रण है. इस विधि से तैयार कम्पोस्ट उच्च उपज देने वाले मशरूम उत्पादन के लिए सुविधाजनक है. इसके लिए अधिक संसाधनों और पूंजी की आवश्यकता होती है और संक्रमण की कम संभावना के साथ उच्च गुणवत्ता वाला मशरूम देता है.

कम्पोस्टिंग के पहले चरण में यानि बाहरी खाद, गेहूं, धान या पराली के भूसे को चिकन खाद के साथ मिलाया जाता है और फिर पानी मिलाया जाता है. पहले 5 फीट ऊंचा ढेर बनाएं और 7वें दिन से दूसरी बारी शुरू करें और गेहूं की भूसी, यूरिया और जिप्सम डालें, फिर अच्छी तरह मिलाएं. इसके बाद  70-75 डिग्री सेल्सियस के मिश्रण के अंदर खाद बनाए रखें.

तीसरे दिन 8 और फिर 10 वें दिन, खाद को पास्चुरीकरण सुरंग में स्थानांतरित करें. अब कंपोस्टिंग के दूसरे चरण, यानी, इंडोर कम्पोस्ट, तैयार की गई खाद को अवांछित रोगाणुओं को मारने और अमोनिया को माइक्रोबियल प्रोटीन में बदलने के लिए पास्चुरीकृत करने की आवश्यकता होती है. इस प्रक्रिया को स्टीमिंग टनल में किया जाता है.

जहां हवा का तापमान 60 डिग्री सेल्सियस पर 4 घंटे तक बनाए रखा जाता है. और अंत में, प्राप्त खाद में 7.5 पीएच दानेदार संरचना होनी चाहिए, जिसमें 70% नमी की मात्रा और कीड़ों से मुक्त हो. यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद कम्पोस्ट को 25 डिग्री सेल्सियस तक ठंडा किया जाता है.

स्पॉनिंग (Spawning)

इसमें स्पॉन को खाद के साथ समान रूप से मिलाया जाता है. यह तीन तरह से किया जा सकता है, स्पॉट स्पॉनिंग, जिसमें खाद की गांठें बनती हैं और स्पॉन मिलाया जाता है. सरफेस स्पॉनिंग, जिसमें स्पॉन को कम्पोस्ट पर फैलाया जाता है और फिर कम्पोस्ट को ऊपरी सतह पर 3-5 सेमी तक फैला दिया जाता है. लेयर स्पॉनिंग, स्पॉन और कम्पोस्ट की 3-4 परतें तैयार की जाती हैं और कम्पोस्ट की अंतिम ऊपरी परत तैयार की जाती है.

आवरण मिट्टी (Casing Soil)

मिट्टी के आवरण का महत्व माइसेलियम की उचित वृद्धि और प्रदूषकों के आदान-प्रदान के लिए खाद के अंदर नमी की मात्रा को बनाए रखना है. बाग़ की दोमट मिट्टी और रेत को 4:1 के रेश्यो में मिट्टी के आवरण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. आवरण सामग्री में उच्च सरंध्रता, जल धारण क्षमता और 7-7.5 का पीएच होना चाहिए. आवरण मिट्टी को 4% फॉर्मेलिन घोल से उपचारित किया जाता है और बेहतर परिणामों के लिए आवरण मिट्टी का पाश्चराइजेशन किया जाता है. फिर केसिंग के लिए मिट्टी और खाद की मोटी परत (4-5 सेमी) फैली रहती है.

फसल और कटाई (Cropping and Harvesting)

10-12 दिनों के बाद मशरूम उगना शुरू हो जाता है और मशरूम की फसल 50-60 दिनों में काटी जा सकती है. मशरूम की कटाई हल्की घुमाव से की जानी चाहिए और आवरण वाली मिट्टी को नुकसान पहुंचाए बिना ताजा आवरण सामग्री और पानी का छिड़काव करके मिट्टी के बिस्तर पर गैप को भरना चाहिए.

मशरूम की खेती का व्यवसाय कैसे शुरू करें? (How to start mushroom farming business?)

  • मशरूम हाउस ढूँढना/बनाना जरुरी है.

  • मशरूम हाउस की खरीद और कीटाणुरहित करना जरुरी होता है

  • खाद की स्पॉनिंग और कीटाणुशोधन का प्रबंधन

  • मार्केटिंग के लिए मंडी के अलावा कैनिंग प्लांट की मदद भी ले सकते हैं.

बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती का व्यवसाय क्यों शुरू करना चाहिए (Why you should start mushroom farming business on a large scale)

  • मशरूम को साल भर उगाया जा सकता है.

  • मशरूम घर के अंदर उगाए जाते हैं, इसलिए मौसम से सीधे प्रभावित नहीं होते क्योंकि खेती में एक सामान्य समस्या है.

  • कचरे को रिसाइकिल किया जा सकता है.

  • उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थ मांग में हैं और मशरूम उच्च प्रोटीन हैं.

  • विस्तार के लिए एक अच्छी व्यवसाय योजना के साथ, आप छोटी शुरुआत कर सकते हैं और बढ़ सकते हैं.

  • खाली औद्योगिक इमारतों में शहरी खेती की सेटिंग में मशरूम उगाने की क्षमता है.

English Summary: Mushroom cultivation and how to do its business, know complete information

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters