MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Perfume farming: पारंपरिक खेती छोड़कर की जिरेनियम की खेती, आज लाखों में कर रहा कमाई

बीते कुछ सालों में कृषि क्षेत्र में लगातार बदलाव देखे जा रहे हैं. कृषि क्षेत्र में आधुनिक उपकरणों के साथ नई तकनीकों को भी अपनाया जा रहा है. इससे किसानों को कम समय में अच्छा उत्पादन का लाभ मिल रहा है. वहीं कुछ किसान पारंपरिक खेती से हटकर नए तरीकों को अपनाकर लाखों की कमाई कर रहे है.

वर्तिका चंद्रा
geraniums cultivation
geraniums cultivation

Perfume farming: वर्तमान समय में किसान अब पारंपरिक खेती को छोड़कर नई फसलों का उत्पादन कर रहे है. किसान अब गेहूं-धान जैसी फसलों पर निर्भर न होकर नगदी फसलों पर ध्यान दे रहे है. इससे उन्हें समय की बचत के साथ-साथ कम लागत में अधिक मुनाफा मिल जाता है. ऐसे ही एक किसान के बारे में आज हम बताने जा रहे है, जिन्होंने पारंपरिक खेती छोड़कर परफ्यूम फार्मिंग शुरू कर लाखों की कमाई कर रहे है. 

ये कहानी है रोहित मुले की जो महाराष्ट्र के सांगली में कवलपुर गांव के रहने वाले है. तीन साल पहले वे भी आम किसानों की तरह ज्वार, अंगूर की खेती करते थे. लेकिन बाढ़, ओलावृष्टि और विभिन्न कारणों से कई बार फसल में नुकसान उठाना पड़ता था. ऐसे में उन्होंने कुछ अलग करने की सोची और कई स्थानों की यात्रा के साथ-साथ विभिन्न तरीकों की फॉर्मिंग के बारे में जानकारी जुटाई. इस दौरान उनका ध्यान जिरेनियम पर गया. उन्हें पता चला कि जिरेनियम, लैवेंडर और लेमन ग्रास की तरह परफ्यूम प्लांट है. इन सभी पौधों की पत्तियों से निकलने वाले तेल का इस्तेमाल इशेंसियल ऑयल्स और परफ्यूम आदि में होता है और इस खेती से उन्हें अधिक मुनाफा मिल सकता है. फिर क्या था उन्होंने जिरेनियम खेती को करने की ठान ली. 

5 एकड़ में शुरू की जिरेनियम की खेती

रोहित ने पांच एकड़ की जमीन पर जिरेनियम की खेती शुरू की. इस दौरान उन्होंने बताया कि  जिरेनियम की खेती बीज से नहीं बल्कि कटिंग से की जाती है. जिरेनियम के शूट्स को नर्सरी में नए पौधे तैयार करने के लिए इस्तेमाल करते हैं.

इसे भी पढ़ें- इस फसल की खेती से मालामाल होंगे किसान, 14 हजार रुपए तक बिकता है सिर्फ 1 लीटर तेल

जिरेनियम के लिए सही तापमान

रोहित ने बताया कि जिरेनियम की खेती के लिए सामान्य तापमान 30-35 डिग्री होना चाहिए. ऐसे तापमान में आसानी से जिरेनियम की खेती की जा सकती है. एक एकड़ में जिरेनियम के 12000 पौधे लगाए जाते हैं. इसके अलावा, जिरेनियम की सिंचाई के लिए ड्रिप इरीगेशन सिस्टम होना चाहिए.

 

चार महीने में मिल जाएगी पहली फसल

रोहित ने बताया कि जिरेनियम की खेती करने पर आपको पहली फसल साढ़े चार महीने बाद ही प्राप्त हो जाती है. इस खेती को करने में पहली बार पौधों समेत इरीगेशन सिस्टम, खरपतवार व लेबर की लागत 1 लाख 20 हजार हो सकती है. वर्तमान में एक किलो जिरेनियम तेल की कीमत लगभग साढ़े आठ हजार रुपये है. एक एकड़ से एक बार में 14 से 15 किलो तेल मिल जाता है. इससे आप पहली लागत वसूल कर सकते है.

तीन साल तक चलता है जिरेनियम का पौधा

रोहित ने बताया कि जिरेनियम खेती की पहली कटिंग के बाद हर साढ़े तीन महीने में इसकी फसल प्राप्त कर सकते है. इसके पौधे तीन साल तक रहते है. इस तरह से हर तीन महीने में वह लाखों की कमाई कर लेते है. उनका कहना है कि खेती से 150 किलो जिरेनियम का तेल मिलता है जिसकी कमाई 12 लाख रुपये होती है. 

English Summary: Leaving traditional farming and cultivating geraniums and earn more money Published on: 03 October 2023, 06:56 PM IST

Like this article?

Hey! I am वर्तिका चंद्रा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News