Farm Activities

यह है दुनिया की सबसे महंगी सब्ज़ी, एक किलो के 80 हजार रुपये चुकाना पड़ते हैं

hop shoot

यदि आपसे पूछा जाए कि दुनिया की सबसे महंगी सब्ज़ी कौन सी है तो आप एक बार तो चौंक जाएंगे. ऐसा इसलिए की मांसाहारी उत्पादों की तुलना में सब्जियां काफी सस्ती होती है. लेकिन आज हम आपको एक सब्ज़ी एक बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी कीमत सैकड़ों में हज़ारों में है. जो मांसाहारी उत्पादों से भी कई गुना अधिक है. यह सब्ज़ी है हॉप शूट्स ( Hop Shoots Vegetable). जिसकी कीमत 1000 यूरो प्रति किलो है. भारतीय रुपये में बात करें तो यह 80 हज़ार रुपये प्रति किलो पड़ती है. तो आइये जानते हैं दुनिया की इस सबसे महंगी सब्जी की खासियतें -

इसका मिलना दुर्लभ है

आपको जानकर हैरानी होगी कि यह सब्ज़ी आपको बाजार में कहीं नहीं उपलब्ध होगी. इसकी सबसे बड़ी वजह है कि इसका उपयोग बीयर निर्माण के लिए की जाती है. इसकी खेती केवल इसके लिए होती है. इसके फूलों को हॉप कोन्स कहा जाता है, जिसका इस्तेमाल बीयर के लिए होता है. वहीं बाकी टहनियों का उपयोग खाने में किया जाता है. इस सब्जी के गुणों के बारे में सबसे 800 ईस्वी में पता चला था. तब लोगों को पता चला कि हॉप शूट्स के इस्तेमाल से बीयर का स्वाद बेहतर हो जाता है.

उस समय जर्मनी के किसानों ने इसकी खेती शुरू की. यह वो समय था जब बीयर निर्माण में कई तरह के कड़वे खरपतवारों और दलदलीय क्षेत्र में पाए जाने वाले पौधों का उपयोग बीयर निर्माण में किया जाता था. जिन पर वहां की सरकार कर वसूली करती थी. हॉप्स पर सबसे पहले टैक्स 1710 में इंग्लैंड में लगाया गया.  साथ ही यह भी अनिवार्य किया कि बीयर के निर्माण में हॉप्स का ही उपयोग हो. यह स्वाद को बेहतर करने का कारगर उपाय था. 

hop

कई औषधीय 

यह सिर्फ बीयर के स्वाद को ही बेहतर नहीं करती है बल्कि कई औषधीय गुणों से भी भरपूर होती है. इस वजह से इसका उपयोग दवाइयों के रूप में भी किया जाता रहा है. इसके इस्तेमाल से दांतों के असहनीय दर्द से निजात मिल सकती है, वहीं यह टीबी के इलाज में भी कारगर है, दरअसल, इसमें एंटीबायोटिक तत्व पाया जाता है. 

खा भी सकते हैं

हॉप शूट्स का इस्तेमाल में खाने में भी किया जाता है. इसके डंठलों को कच्चा खाया जाता है, जो काफी कड़वा होता है. वहीं सलाद बनाकर भी इसका उपयोग किया जा सकता है. अचार बनाकर भी हॉप का इस्तेमाल किया जा सकता है.

 खेती कैसे होती है

इसकी सालाना खेती होती है यानि की इसे सालभर उगाया जा सकता है. ठण्ड का मौसम इसके लिए अनुकूल होता है. वहीं मार्च से जून का माह इसकी खेती के लिए सर्वोत्तम माना गया है. सूर्य की रौशनी और नमी हॉप की खेती के लिए आवश्यक है. सूर्य की रोशनी में इसका पौधा तेजी से ग्रोथ करता है. प्रति दिन इसकी टहनी 6 इंच तक बढ़ सकती है. इसका पौधा शुरुआत में बैंगनी रंग का होता है जो बाद में हरा हो जाता है. 



English Summary: hop shoots the costliest vegetable in the world facts you must know

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in