1. खेती-बाड़ी

चने की फसल की कटाई और भंडारण करने का तरीका

श्याम दांगी
श्याम दांगी

Gram Farming

चना एक प्रमुख दलहनी फसल है जिसकी बुआई रबी सीजन में की जाती है. इस समय चने की बुआई को एक महीने का समय बीत चुका है और कुछ महीनों बाद इसकी फसल पक जाएगी. इसके बाद इसकी कटाई और भंडारण की आवश्यकता पड़ती है. गौरतलब है कि दलहनी फसलों के भंडारण की उपयुक्त व्यवस्था करना पड़ती है. यह नमी की अधिकता के कारण खराब हो जाता है. तो आइए जानते हैं चने की फसल की कटाई और भंडारण कैसे करना चाहिए.

चने की खेती के लिए सिंचाई (Irrigation for Gram Cultivation)

भारत में चने की खेती सिंचित और असिंचित दोनों क्षेत्रों में की जाती है. सिंचित क्षेत्र के लिए पलेवा करके इसकी बुआई की जाती है. इसके बाद इसमें सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती है. लेकिन यदि आपके पास सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था है तो बुआई के 30 से 40 दिनों इसमें एक सिंचाई कर देना चाहिए. जिससे इसकी पैदावार में इजाफा हो जाता है.

चने की खेती के लिए खरपतवार नियंत्रण Weed control for gram farming

अच्छी पैदावार के लिए चने की फसल की सही समय पर निराई गुड़ाई करना बेहद आवश्यक है. बुआई के 30 से 40 दिनों के बाद खेत की अच्छे से निराई गुड़ाई कर दें. वहीं खरपतवार नियंत्रण के लिए पेंडीमेथालिन 30 ई.सी. को 2-5 लीटर की मात्रा में घोलकर छिड़काव करें. वहीं जिन क्षेत्रों में घास अधिक है वहां क्यूजालोफोप इथाईल 5.0 ई.सी. का छिड़काव करना चाहिए. 

चने की फसल के लिए कटाई (Harvesting for gram crop)

जब फसल पककरसुखने लगे तब इसकी कटाई करना चाहिए. कटाई के बाद इसकी मड़ाई की जाती है. वहीं इसे आप थ्रेसर में भी निकाल सकते हैं. दरअसल, चने की फसल अच्छी तरह सूख जाने के बाद इसे खलियान में इकट्ठा करके दाने और भूसे को अलग किया जाता है.

चने की फसल के लिए भंडारण (Storage for gram crop)

बता दें कि चने की फसल नमी की अधिकता होने पर ख़राब हो जाती है. वहीं इसमें अन्य दलहनी फसलों की तरह घुन अधिक लगता है इसलिए इसे अच्छी तरह सुखाकर उपयुक्त जगह भंडारित करना चाहिए.

English Summary: Harvesting and storage of gram cultivation

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News