MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Prevention of ladyfinger: भिंडी में लगने वाले रोग और उनकी रोकथाम

भिड़ी आज लगभग हर घर में बनती ही है. साथ ही यह पार्टियों में भी तरह तरह के व्यंजन के रूप में परोसी जाने वाली एक बेहतरीन सब्जी है. आज हम आपको इसी में लगने वाले रोग और उनके प्रबंधन के बारे में जानकारी देंगे.

प्रबोध अवस्थी
Diseases caused by ladyfinger and their prevention
Diseases caused by ladyfinger and their prevention

आज भारत में भिंडी एक ऐसी सब्जी है जो लगभग हर घर में किसी न किसी की ख़ास पसंद बनी रहती है. लेकिन किसान जब भिंडी को खेत में बोता है तो बुआई से लेकर भिंडी के फल को तैयार होने तक इसकी सुरक्षा उसे कई तरह के रोगों से करनी पड़ती है. आज हम आपको इन्हीं में पांच ऐसे रोगों के बारे में बताएंगे जिससे किसानों की फसल में नुकसान होता है. तो चलिए जानते हैं इसके वह पांच रोग और रोकथाम के तरीके.

पीली नस मोज़ेक वायरस (YVMV)

कारण: वाईवीएमवी एक वायरल बीमारी है जो भिंडी के पौधों को प्रभावित करती है. यह मुख्य रूप से सफेद मक्खियों (बेमिसिया टैबासी) द्वारा फैलता है और इससे पत्तियां गंभीर रूप से पीली हो सकती हैं, नसें साफ हो सकती हैं और विकास रुक सकता है.

रोकथाम: वाईवीएमवी को रोकने के लिए, कीटनाशकों या प्राकृतिक शिकारियों का उपयोग करके सफेद मक्खी की आबादी को नियंत्रित करें. संक्रमित पौधों और खरपतवारों को हटाकर उचित स्वच्छता सुनिश्चित करें. जब उपलब्ध हो तो वायरस प्रतिरोधी भिंडी की किस्में लगाएं.

पाउडर रूपी फफूंद

कारण: ख़स्ता फफूंदी एक कवक रोग है जो भिंडी सहित कई पौधों को प्रभावित करता है. यह पत्तियों पर सफेद, पाउडर जैसे धब्बों के रूप में दिखाई देता है, जो प्रकाश संश्लेषण और समग्र पौधे के स्वास्थ्य को कम करता है.

रोकथाम: ख़स्ता फफूंदी को रोकने के लिए, वायु परिसंचरण को बढ़ावा देने के लिए भिंडी के पौधों के बीच उचित दूरी बनाए रखें. सिर के ऊपर पानी देने से बचें, क्योंकि गीले पत्ते फफूंद के विकास को बढ़ावा दे सकते हैं. आवश्यकता पड़ने पर फफूंदनाशकों का प्रयोग करें और रोग प्रतिरोधी भिंडी की किस्मों का चयन करें.

फ्यूजेरियम विल्ट

कारण: फ्यूजेरियम विल्ट मिट्टी-जनित कवक फ्यूजेरियम ऑक्सीस्पोरम के कारण होता है. इसके परिणामस्वरूप पत्तियां मुरझा जाती हैं, पीली पड़ जाती हैं और अंततः पौधे मर जाते हैं. कवक मिट्टी में कई वर्षों तक बना रह सकता है.

रोकथाम: मिट्टी में फ़्यूज़ेरियम के निर्माण को कम करने के लिए फसल चक्र अपनाएं. अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी का उपयोग करें, क्योंकि अत्यधिक नमी फंगल विकास को बढ़ावा दे सकती है. फ़्यूज़ेरियम विल्ट के इतिहास वाले खेतों में भिंडी बोने से बचें और रोग प्रतिरोधी किस्मों का चयन करें.

पत्ती धब्बा रोग

कारण: भिंडी सर्कोस्पोरा और अल्टरनेरिया जैसे कवक के कारण होने वाले विभिन्न पत्ती धब्बे वाले रोगों के प्रति संवेदनशील है. ये रोग पत्तियों पर काले धब्बों के रूप में प्रकट होते हैं, जिससे प्रकाश संश्लेषण और समग्र पौधे की शक्ति कम हो जाती है.

रोकथाम: पत्ती धब्बा रोगों को रोकने के लिए, संक्रमित पत्तियों और पौधों के मलबे को हटाकर अच्छी स्वच्छता अपनाएं. उच्च आर्द्रता की अवधि के दौरान निवारक उपाय के रूप में कवकनाशी लागू करें. पौधों के बीच पर्याप्त दूरी और उचित सिंचाई प्रबंधन भी रोग की घटनाओं को कम करने में मदद कर सकता है.

यह भी देखें- भूलकर भी खेतों में न लगाएं यह पेड़

एफिड-जनित मोज़ेक वायरस

कारण: एफिड-जनित मोज़ेक वायरस एफिड्स द्वारा प्रसारित होते हैं और भिंडी के पौधों को संक्रमित कर सकते हैं. लक्षणों में पत्तियों पर मोज़ेक पैटर्न, रुका हुआ विकास और कम पैदावार शामिल हैं.

रोकथाम: कीटनाशकों या प्राकृतिक शिकारियों के उपयोग के माध्यम से एफिड आबादी को नियंत्रित करें. एफिड संक्रमण के लिए पौधों की नियमित निगरानी करें और संक्रमित पौधों को तुरंत हटा दें. उपलब्ध होने पर एफिड-जनित मोज़ेक वायरस के प्रतिरोधी भिंडी की किस्में चुनें.

भिंडी की सब्जी में लगने वाले इन रोगों के कारण ही किसानों को नुकसान होता है. लेकिन अगर सही रोकथाम के साथ इनकी देखरेख की जाए तो इनकी सुरक्षा और भी बेहतर हो जाती है.

English Summary: Diseases caused by ladyfinger and their prevention Published on: 12 September 2023, 03:46 PM IST

Like this article?

Hey! I am प्रबोध अवस्थी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News