MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Green Grass Manure: ग्रीन ग्रास से जैविक खाद बनाकर उगाएं फसल, बढ़ेगा उत्पादन और गुणवत्ता

अगर आप किसान हैं तो आप हरी घास से जैविक खाद बनाकर फसल उगा सकते हैं. जिससे फसल के उत्पादन के साथ- साथ गुणवत्ता भी बढ़ती है...

कंचन मौर्य
green grass
जैविक खाद बनाना का तरीका

खेतीबाड़ी में ग्रीन घास (सन, ढैंचा) से खाद बनाने का चलन काफी बढ़ गया है. यह एक जैविक खाद होती है, जिससे फसल की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी होती है, साथ ही फसल को प्रतिरोधक क्षमता भी प्रदान होती है. देश के कई किसानों ने लॉकडाउन के दौरान खेतों में ढैंचा उगाया है.

इसके बाद खेत में ही ट्रैक्टर चलाकर मथाई कर दिया गया है. किसानों का कहना है कि जब खेतों में मानसून की बारिश का पानी भर जाएगा, तब इसमें वह धान की रोपाई करेंगे. इस तरह फसल का उत्पादन और गुणवत्ता, दोनों बढ़ जाएगी.  बता दें कि कई किसानों ने खाली खेतों में बेहन डालना भी शुरू कर दिया है.

 उगाएं ग्रीन घास (Grow green grass)

आधुनिक दौर में किसान तमाम रासायनिक खादों का उपयोग करते हैं, ताकि उनके खेतों की मिट्टी उपजाऊ बन सके. मगर इस समय अधिकतर किसान अपने खेतों में ग्रीन ग्रास से खाद बना रहे हैं. बता दें कि ग्रीन घास को फसल लेने के पहले 45 दिन तक खेतों में उगाया जाता है. इसके बाद खेत में ही ट्रैक्टर चलाकर मथाई कर पानी भर दिया जाता है. ये पौधे 10 से 12 दिन में पूरी तरह सड़ जाते हैं और खाद के रूप में परिवर्तित हो जाते हैं. यह पूरी तरह ऑर्गेनिक होते हैं. कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि इस तरह के खेत उपजाऊ बनता है, साथ ही खेत में उगाई फसल शुगर, कैंसर, नपुंसकता, हृदय रोग, दिमाग की बीमारियों से बचाती है.

ये खबर भी पढ़ें: Agriculture Mobile App: ये 5 मोबाइल ऐप कृषि से जुड़े किसानों के लिए बने पसंदीदा, खेती से जुड़ी हर नई तकनीक की मिलती है पूरी जानकारी !

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए (increase immunity)

यह एक जैविक खाद होती है, जिसके द्वारा फसलों में एनर्जी, जिंक, आयरन, फाइबर, कैल्शियम समेत अन्य जरूरी न्यूट्रीशियन तत्व पाए जाते हैं. इस तरह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है. बता दें कि फसलों को यूरिया, डीएपी, पोटाश, सुपरफास्फेट जैसे रासायनिक खाद और कीटनाशक की मदद से उगाने पर कई बीमारियों के होने का खतरा बना रहता है. इतना ही नहीं, यह भूजल को भी दूषित करते हैं. किसानों का मानना है कि ग्रीन ग्रास की खाद की मदद से तैयार की गई फसल हमें रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करेंगी. इस तरह हम कोरोना वायरस समेत अन्य बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम बन पाएंगे.

English Summary: Cultivate crops by making organic manure of green grass Published on: 24 June 2020, 04:14 PM IST

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News