MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Bitter Gourd Farming: इस तकनीक से करें करेले की खेती, कम समय में मिलेगा डबल मुनाफा

Karele ki kheti: देश के किसान भाई करेले की खेती से कम समय में अच्छी कमाई कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें अपने खेत में इस बेहतरीन तकनीक को अपनाना होगा.

लोकेश निरवाल
इस उन्नत तकनीक से खेती में मिलेगा अच्छा लाभ
इस उन्नत तकनीक से खेती में मिलेगा अच्छा लाभ

आज के इस दौर में अगर आप अपने बंजर खेत (Barren Field) में भी उन्नत तकनीकों के साथ काम करेंगे, तो उसमें सफलता जरूर मिलेगी. ऐसे ही आज हम आपको करेले की उन्नत तकनीक (Advanced Technology of Bitter Gourd) के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे सही तरीके से करने से किसानों को अधिक मुनाफा प्राप्त होगा.

अगर आप किसान हैं और अपनी खेती में सफल होना चाहते हैं, तो आपको नई-नई तकनीकों को अपनाना चाहिए. बता दें कि किसानों के लिए वर्टिकल फार्मिंग (Vertical Farming) कमाई का शानदार तरीका है. देश के कुछ किसान इस फार्मिंग से हर महीने हजारों-लाखों रुपए कमा रहे हैं. इसी तकनीक की मदद से आप करेले की खेती भी कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि वर्टिकल फार्मिंग करने से किसानों को क्या फायदा पहुंचेगा और करेले की भारत में उन्नत किस्में (Improved Varieties of bitter Gourd in India) कौन-कौन सी हैं, जिसे वह अपने खेत में उगा कर कम समय में अच्छी कमाई कर सकता है.

देश में करेले की उन्नत किस्में

  • पूसा हाइब्रिड 1  (Pusa Hybrid 1)

  • पूसा हाइब्रिड 2 (Pusa Hybrid 2)

  • पूसा विशेष  (Pusa special)

  • अर्का हरित  (Arka Harit)

  • ग्रीन लांग (Green long)

  • फैजाबाद स्माल (Faizabad Small)

  • जोनपुरी (Jonpuri)

  • झलारी (Jhalari)

  • सुपर कटाई (Super Harvesting)

  • सफ़ेद लांग (White long)

  • ऑल सीजन  (All Season)

  • हिरकारी (Hitkari)

  • भाग्य सुरुचि (Bhagya Suruchi)

  • मेघा-एफ 1 (Megha-F1)

  • वरून -पूनम (Varun-1 Poonam)

  • तीजारावी (Tijaravi)

  • अमन नं.- 24 (Aman No.- 24)

  • नन्हा क्र. -13 (Nanha No. -13)

वर्टिकल फार्मिंग से करेले की खेती

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्टिकल फार्मिंग एक उच्च उत्पादक प्रणाली की अच्छी खेती मानी जाती है. इसमें करेलों को ऊंचाई के साथ उगाया जाता है. इस तकनीक के माध्यम से करेले के पौधे सीधे उगते हैं. यह तकनीक सिर्फ करेले की खेती ही नहीं बल्कि अन्य फल-सब्जियों की खेती में भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: करेले की खेती की पूरी जानकारी

वर्टिकल फार्मिंग से किसानों को फायदा

  • इस फार्मिंग से किसान जमीन से अधिक मात्रा में उपज प्राप्त कर सकता है.

  • वर्टिकल फार्मिंग में उगाई गई फसल पर मौसम की मार नहीं पड़ती है.

  • इसके अलावा इसमें फसल खराब होने का खतरा न के बराबर होता है.

  • फसल की सिंचाई के लिए पानी की आवश्यकता भी बहुत ही कम होती है.

English Summary: Bitter Gourd Farming: Cultivate bitter gourd with this technique, you will get double profit in less time Published on: 19 May 2023, 12:32 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News