सोनालीका का सीआईआई एग्रोटेक में सॉलिस 120 के साथ प्रदर्शन

भारत की तीसरी सबसे बड़ी ट्रैक्टर निर्माता सोनालीका इंटरनेशनल ट्रैक्टर्स लिमिटेड ने चंडीगढ़ के परेड ग्राउंड में आयोजित सीआईआई एग्रो टैक में अपने शक्तिशाली ट्रैक्टरों की रेंज प्रदर्शित की। कंपनी ने इस मौके पर, किसानों के लिए स्वदेश में ही विकसित सर्वाधिक एचपी वाला ट्रैक्टर ’सॉलिस 120‘ भी पेश  किया जिसे देश में उपलब्ध सर्वश्रेश्ठ ट्रैक्टर टैक्नोलॉजी की गहरी समझ के आधार पर तैयार किया गया है। सोनालीका आईटीएल ने यहां अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ  ट्रैक्टर रेंज NT 30,Rx 60 MM Super,  Rx75III HDM, Rx 745III, Worldtrace 60, Solis  90 और Solis 26 ट्रेक्टर प्रदर्शित की है। इस द्विवार्शिक मेले ने हमेशा से ही भारतीय किसानों की जरूरतें समझने में मदद की है जिससे उन्हें बेहतर समाधान उपलब्ध कराया जा सके।

सोनालीका ने पिछले माह घरेलू बाजार में 50 फीसदी की दर से बढ़त हासिल की है। सोनालीका आईटीएल की कामयाबी का श्रेय उनके उत्पादों को जाता है जिन्हें देशभर के किसानों की जरूरतों को ध्यान में रखकर एरगोनॉमी के अनुसार डिजाइन किया जाता है। किसानों के लिए नई टैक्नोलॉजी प्रस्तुत करने में सोनालीका सदैव अग्रणी रही है जैसे सीआरडीआई इंजन, 110एचपी और अब 120 एचपी ट्रैक्टर्स। इसके अलावा, कंपनी ने विभिन्न फार्मिंग परिचालनों जैसे ऑर्चर्ड फार्मिंग, पटेटो फार्मिंग आदि के लिए खासतौर से उत्पादों को निर्मित एवं पेश किया है। इन सभी प्रयासों ने सोनालीका आईटीएल को पिछले 15 वर्शों में दोहरे अंक की सीएजीआर की उपलब्धि दी है जिससे यह भारत की सबसे तीव्रता से बढ़ने वाली ट्रैक्टर कंपनी बन गई है।

इस बारे में अपने विचार रखते हुए श्री रमन मित्तल, कार्यकारी निदेशक , सोनालीका आईटीएल ने कहा, ’’हमने हमेशा से ही भारतीय किसानो की बेहतरी के लिए काम किया है जिसका उदेश्य समाज का विकास भी है। हाल ही में, देश में बढ़ते प्रदुषण के मद्देनज़र हमने पंजाब और हरियाणा में बेलर एप्लीकेशन वाले ट्रैक्टर को पेश किया है। इससें किसानों को फसलों की कटाइ के बाद बचे-खुचे भुसे को जलाने के बजाय उन्हें आधुनीक तरीको से बांधकर दुसरे कामो में लाया जा सकता है । जिससे प्रदुषण नियंत्रित रहे और उन्हें बचे-खुचे भुसे से भी अधिक कमाने का अवसर मिले। सीआईआई एग्रो टैक जैसे कृषि मेले हमें ऐसा मंच मुहैया कराते हैं जहां हम देशभर के किसानों के संपर्क में आकर उनकी जरूरतों को समझते हुए खेती के मशीनीकरण के लिए नए उपकरणों की संरचना कर सकें। आगे भी हम ऐसे उम्दा उत्पादों को पेश  करने के लिए कोशिश जारी रखेंगे जिनसे हैवी-ड्यूटी परफॉरमेंस का लाभ मिले और साथ ही किसानों को अधिक कमाने और अधिक बचत करने का अवसर भी मिले। हम सीआईआई एग्रो टैक के साथ जुड़कर गर्व महसूस कर रहे हैं।‘‘

सोनालीका आईटीएल आज भारत को वैश्विक मंच पर प्रदर्शित करते हुए दुनियाभर के 100 देशों के लिए उत्पाद मुहैया कराती है जिनमें 20 यूरोपीय देश भी शामिल हैं। इसकी पेशकश  में 20एचपी से 120एचपी तक के उत्पाद शामिल हैं। कंपनी अपने इंटीग्रेटेड ट्रैक्टर मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट के जरिए, जिसकी सालाना प्रोडक्शन क्षमता 2 लाख से अधिक है, घरेलू तथा वैष्विक बाजारों में 600,000 से अधिक ग्राहकों के लिए संपूर्ण कृषि समाधान उपलब्ध कराती है।

सोनालीका इंटरनेशनल टै्रक्टर्स लिमिटेड के बारे में

सोनालीका इंटरनेशनल टै्रक्टर्स लिमिटेड, देश की हैवी ड्यूटी टै्रक्टर रेंज है, जो 20 एचपी से लेकर 120 एचपी तक की श्रेणी में प्रौद्योगिकी के लिहाज़ से बेहद उम्दा टै्रक्टरों का निर्माण करती है। आज सोनालीका भारत में तीसरी सबसे बड़ी टै्रक्टर निर्माता कंपनी है और घरेलू व इंटरनेशनल बाज़ार में भी  एक दिग्गज कंपनी के तौर पर अपनी साख स्थापित कर चुकी है। कंपनी ने महज़ 2 दशक के कार्यकाल में ही 100 से अधिक देशों में 6 लाख से अधिक ग्राहकों का भरोसा जीता है, जो अपने आप में एक शानदार उपलब्धि है।

वैश्विक स्तर पर टै्रक्टरों की बढ़ती मांग और इस मांग को पूरा करने के लिए सोनालीका आईटीएल के पास पंजाब के होशियारपुर में एक अत्याधुनिक एकीकृत टै्रक्टर निर्माण संयंत्र सोनालीका वर्ल्ड प्लांट है। इस संयंत्र की वार्शिक उत्पादन क्षमता करीब 2 लाख टै्रक्टर है और लगभग हर 2 मिनट में एक ट्रैक्टर निर्मित होता है। कंपनी लगातार विकास कर रही है जिसकी ब्लैकस्टोर पीई एवं यनमार, जापान के साथ व्यावसायिक साझेदारी है।

Comments