Corporate

'एमएएसआई' और 'केआरईपीएल' की सहयोगी 'इकाई ‘एएलएससी' ने भारत में एक संयुक्त उपक्रम एग्मा एनर्जी प्रा. लि. बनाने की घोषणा

एल्गा एनर्जी एक बायोटेक्नोलॉजी-आधारित कंपनी है. जिसे सूक्ष्म शैवाल विज्ञान में विशेषज्ञता हासिल है. कंपनी ने प्रमुख विशेषज्ञ यूनिवसिर्टीज द्वारा उत्पन सूक्ष्म शैवाल से संबंधित 40 साल की जानकारियों को संग्रहित किया है और अनुसंधान एवं विकास पर लाखों संसाधनों का निवेश किया है एवं इस क्षेत्र में अपने आपको एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय संदर्भ के रूप में स्थापित किया है. एल्गा एनर्जी का उद्देश्य विभिन्न उद्योगों में विशिष्ट जरूरतों को लक्षित करते हुए, सूक्ष्म शैवाल से प्राप्त इन्नोवेटिव उच्च-गुणवत्ता वाले उत्पादों का विकास और उनका व्यवसायीकरण करना है.

कृषि क्षेत्र में, अनुसंधान एवं विकास के 10 साल बाद, एल्गाएनर्जी ने अपना ब्रांड AgriAlgae® को लॉन्च किया है, एल्गा एनर्जी की अत्याधुनिक सुविधाओं में उगाए गए विभिन्न सूक्ष्म शैवाल प्रजातियों के संयोजन से बनी उच्च गुणवत्ता वाली बायोस्टीमुलैंट्स की एक श्रृंखला है, जिनकी पैदावार बढ़ाने और गुणों में सुधार की प्रभावकिता को कई स्वंत्रत फील्ड परीक्षणों में प्रदर्शित किया जा चुका है. एल्गा एनर्जी की पूर्ण-स्वामित्व वाली भारतीय इकाई माइक्रोएल्गाई सॉल्युशंस इंडिया प्रा. लि. (एमएएसआई) और कृषि रसायन एक्सपोर्ट प्रा. लि. (केआरईपीएल) की सहयोगी इकाई एग्रोलाइफ साइंसेस कॉरपोरेशन (एएलएससी) ने भारत में 50-50 प्रतिशत की भागीदारी के साथ एक संयुक्त उपक्रम एग्मा एनर्जी प्रा. लि. बनाने की घोषणा की है.

एग्मा एनर्जी, जिसका मुख्यालय दिल्ली में है, को एक फसल कृषि और जलीय कृषि का विश्वस्तरीय व्यवसाय और प्लेटफॉर्म विकसित करने के लिए स्थापित किया गया है, जो बायोलॉजीकल, माइक्रोबियल और रासायनिक आधार पर नए और इन्नोवेटिव समाधान एवं सेवाएं उपलब्ध कराएगा. एग्मा एनर्जी के लिए शुरुआती ध्यान देने वाले प्रमुख बाजारों में भारत के अलावा एशिया एवं अन्य स्थानों के देश शामिल हैं, जो इस संयुक्त उद्यम को अंतरराष्ट्रीय बाजार में उपस्थिति प्रदान करते हैं. एग्मा एनर्जी की नींव की आधारशिला स्पेन की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी एल्गाएनर्जी एस.ए. द्वारा विकसित सूक्ष्म शैवाल पर आधारित अनूठी प्रौद्योगिकियों और उत्पादों पर रखी गई है, जो कई दशकों से फसल कृषि के लिए जैव उर्वरक और जलीय कृषि सहित विभिन्न क्षेत्रों में पशुओं के लिए पोषण उत्पादन सहित विभिन्न प्रकार के बाजारों के लिए प्राकृतिक जैवकि समाधान तैयार कर रही है. एल्गा एनर्जी के उत्पाद पोर्टफोलियो और पाइपलाइन केआरईपीएल समूह की एग्मा एनर्जी को सर्वश्रष्ठ विनिर्माण विशेषज्ञता और क्षमताओं एवं बाजार पहुंच द्वारा पूरक क्षमता प्रदान करती है.

एल्गाएनर्जी के अंतरराष्ट्रीय कृषि व्यवसाय के अध्यक्ष, डगलस रि वैग्नर ने कहा, “एग्मा एनर्जी संयुक्त उद्यम दुनिया के अति महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सतत कृषि कार्यक्रमों को विकसित करने में मदद करने के लिए संभवतः सबसे इन्नोवेटिव उत्पादों को उपलब्ध कराने के लिए समर्पित दो उत्कृष्ट संगठनों को एक साथ लाता है. एल्गा एनर्जी और कृषि रसायन समूह के बीच तालमेल विशिष्ट रूप से मजबूत है और किसानों के लिए नई खोज और उत्पाद तैयार करने के लिए एक रोमांचक अवसर प्रदान करता है, जो संयुक्त उद्यम के सहयोगी प्रयासों के बिना संभव नहीं हो सकता है.”

एल्गा एनर्जी एस.ए. के अध्यक्ष और सीईओ अगस्तो रोड्रीगेज-विला ने कहा, “एल्गा एनर्जी के शेयरधारकों और कर्मचारियों की ओर से मैं कृषि के भविष्य के लिए सामन लक्ष्य पर पूर्ण भरोसा और उसकी प्रशंसा करता हूं, जिसे हमनें कृषि रसायन के अपने सहयोगियों के साथ साझा किया है. एग्मा एनर्जी एनर्जी की स्थापाना के जरिये दो महान संगठनों को एक साथ लाने से हम दुनिया के कई क्षेत्रों में एल्गा एनर्जी की टेक्नोलॉजी और प्राकृतिक उत्पादों की शक्ति को तेजी पहुंचाने में सक्षम होंगे. एल्गा एनर्जी सबसे बेहतर प्राकृतिक उत्पादों को संभव बनाने के लिए इन्नोवेशन जारी रखेगी और इस संयुक्त उद्यम की क्षमता और बाजार पहुंच के साथ हम सर्वश्रष्ठ टिकाऊ बायोलॉजिकल उत्पाद उपलब्ध कराने के जरिये भविष्य में किसानों के लिए दीर्घकालिक मूल्य प्रदान करने के लिए तत्पर हैं.”

कृषि रसायन के कार्यकारी निदेशक राजेश अग्रवाल ने कहा, “एल्गा एनर्जी और इसकी रोमांचक टेक्नोलॉजी के साथ जुड़ना हमारे लिए खुशी की बात है. एग्मा एनर्जी की स्थापना के साथ हम निश्चित रूप से बायोस्टीमुलैंट क्षेत्र में भारत के साथ ही साथ विश्व स्तर पर एक नई पहचान बनाएंगे. यह संयुक्त उद्यम हमारे किसानों के लिए विभिन्न पर्यावरण अनुकूल फसल देखभाल समाधान उपलब्ध कराएगा और इस प्रकार जैविक कृषि में सुधार लाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा. केआरईपीएल (कृषि रसायन) और एएलएससी अपने मजबूत किसान आधार और अपने व्यापक घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय वितरक नेटवर्क के जरिये योगदान देगा. मुझे पूरा भरोसा है कि हम आगे आने वाले वर्षों में एग्मा एनर्जी की सफलता के माध्यम से इस टेक्नोलॉजी के साथ अधिक से अधिक लोगों के जीवन में अपनी जगग बनाएंगे.”

एग्रोलाइफ साइंस कॉरपोरेशन, कृषि रसायन समूह का एक हिस्सा है. कृषि रसायन समूह की स्थापना 1966 में की गई थी और आज ये भारत में 7वीं सबसे बड़ी कृषि रसायन कंपनी है. कंपनी के पास देश के विभिन्न हिस्सों में स्थित 8 विनिर्माण संयंत्र हैं. कृषि रसायन समूह मानव जाति की समृद्धि और किसानों की जरूरत को पूरा करने के लिए निरंतर प्रयासरत है. विशाल अनुभव के साथ, हमारे पास ऐसे उत्पाद हैं जो न केवल देश की जरूरत को पूरा करते हैं बल्कि वैश्विक चुनौतियों का भी सामना करते हैं. समूह का आदर्श वाक्य ‘किसान समृद्धि हमारी प्राथमिकता है.’ है.

कंपनी कृषि रसायन, बायोटेक्नोलॉजी, आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर, ठोस कचरा प्रबंधन, इनलैंड ट्रांसपोर्ट, पॉल्ट्री फीड, पेस्ट कंट्राल, रीयल एस्टेट, आरएंडडी और कॉन्ट्रैक्ट रिसर्च व डाटा जनरेशन के क्षेत्र में कार्यरत है. देश में इसके 22 मार्केटिंग ऑफिस हैं और हांगकांग, शंघाई, बांग्लादेश, दुबई और ऑस्ट्रेलिया में अंतरराष्ट्रीय ऑफिस हैं. कृषि रसायन समूह के पास 1600 से अधिक कर्मचारी हैं और इसका वार्षिक टर्नओवर 1850 करोड़ रुपए  (30 करोड़ डॉलर) से अधिक है. हमारी गतिविधियों, अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं, टेक्नोलॉजी और सुविधओं, एवं उत्पादों के बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया विजिट करें www.algaenergy.com

सूक्ष्म शैवाल AgriAlgae® पर आधारित हमारे कृषि उत्पादों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए, कृपया विजिट करें www.agrialgae.com



Share your comments