गेहूं की बुवाई में 12.41 प्रतिशत की कमी

चालू रबी सत्र में अभी तक गेहूं खेती का रकबा 110.66 लाख हेक्टेयर हो गया जो पूर्व वर्ष की इसी अवधि के रकबे से 12.41 प्रतिशत कम है। सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार किसानों ने रबी सत्र 2017-18 में अब तक गेहूं की बुवाई 110.66 लाख हेक्टेयर में की है जो रकबा वर्ष भर पूर्व की इसी अवधि में 126.35 लाख हेक्टेयर था।

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में अभी तक कम रकबे में गेहूं की बुवाई हुई है। रबी जाड़े की फसलों की बुवाई अक्तूबर से शुरु होती है और कटाई का काम मार्च से शुरु होता है। गेहूं प्रमुख रबी फसल है।

हालांकि, चालू सत्र में अभी तक दलहनों की बुवाई अधिक यानी 101.43 लाख हेक्टेयर के रकबे में की गई है जबकि पिछले साल इसी अवधि में 89 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बुवाई की गई थी। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक में अभी तक दलहन खेती का रकबा अधिक है।

चालू रबी सत्र में धान की बुवाई अब तक 9.49 लाख हेक्टेयर में की गई है जो रकबा पूर्व वर्ष की समान अवधि में 7.32 लाख हेक्टेयर था। मोटे अनाजों के बुवाई का रकबा भी बढ़कर 36.35 लाख हेक्टेयर हो गया जो पूर्व वर्ष की समान अवधि में 33.93 लाख हेक्टेयर था।

मगर तिलहनों की बुवाई का रकबा चालू सत्र में अभी तक घटकर 57.93 लाख हेक्टेयर रह गया जो पूर्व वर्ष की इसी अवधि में 63.96 लाख हेक्टेयर था। सभी रबी फसलों की बुवाई का रकबा अभी तक कम यानी 315.86 लाख हेक्टेयर ही है जो पूर्व वर्ष की समान अवधि में 320.55 लाख हेक्टेयर था।

बुवाई के कुल 623 लाख हेक्टेयर के रकबे में से अब तक केवल 50 प्रतिशत को ही खेती के दायरे में लिया गया है।

Comments