क्या दक्षिण भारत में फिर तेज बारिश होगी?

सुबह के समय मौसम में थोड़ी सर्दी सी होने लगी है. कहीं कहीं हलकी माध्यम और तीव्र बारिश की सम्भावना बानी हुई है. यह स्तिथि पश्चिमी विक्षोभ के कारण जो की पूर्व की और बढ़ रहा है से बनी हुई है.

यदि मौसम के पूर्वानुमान की और देखें तो लगता है की सर्दी जल्दी ही आ जाएगी लेकिन आजकल कहीं गर्मी का हल्का प्रकोप भी नजर आता है, जिस की वजह से पहले गर्मी होती है और फिर बारिश का माहौल बन जाता है.

अगले 24 घंटों के दौरान, चक्रवात गज दक्षिण तमिलनाडु पर लैंडफॉल करेगा, इसलिए, हम तमिलनाडु के दक्षिण-तट पर भारी बारिश की उम्मीद करते हैं। तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है, एक दो हिस्सों में भारी वर्षा से इंकार नहीं किया जा सकता। रायलसीमा, दक्षिण-आंतरिक कर्नाटक, तटीय कर्नाटक और केरल में मध्यम बारिश की उम्मीद है।

जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश कम हो जाएगी। असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में वर्षा की तीव्रता में मामूली वृद्धि हो सकती है। गंभीर चक्रवात गज बंगाल की दक्षिणपश्चिम खाड़ी में, अक्षांश 11.4 डिग्री उत्तर और अक्षांश 82.7 डिग्री पूर्व के आसपास स्थित है। यह तमिलनाडु तट की तरफ दक्षिणपश्चिम दिशा में आगे बढ़ रहा है।

एक पश्चिमी विक्षोभ पूर्व की ओर बढ़ रही है और वर्तमान में जम्मू-कश्मीर के पूर्वी हिस्सों में है। उत्तरी पश्चिम राजस्थान में एक प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र है।

देश में पिछले 24 घंटों के दौरान दर्ज किया गया मौसम - पिछले 24 घंटों के दौरान, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ स्थानों पर काफी भारी बारिश हुई।

उत्तरी पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश देखी गयी।

असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में बिखरे हुए हल्की बारिश हुई और अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह, दक्षिण-तटीय आंध्र प्रदेश और तटीय तमिलनाडु में भी कहीं कहीं वर्षा हुई। देश के उत्तर-पश्चिमी मैदानों में दिन और रात के तापमान में काफी गिरावट आई है। असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में वर्षा की तीव्रता में मामूली वृद्धि हो सकती है

साभार : skymetweather.com 

चंद्र मोहन, कृषि जागरण

Comments