Weather

आज इन 3 राज्यों में होगी भारी बारिश, जानिए अपने यहाँ के मौसम का हाल

मौसम का बदलता रुख लोगों की जिंदगियों को कई तरह से प्रभावित कर रहा है. कही बाढ़ के रूप में तो कहीं प्रदूषण के रूप में. अगर हम दिल्ली-एनसीआर कि बात करें, तो प्रदूषण का स्तर अब प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. जिस वजह से वायु की गुणवत्ता पर खराब प्रभाव पड़ रहा है जिससे लोगों का जन -जीवन अस्त -व्यस्त हो गया है. मौसम विभाग के अनुसार आंतरिक तमिलनाडु तेलंगाना,केरल और तटीय कर्नाटक के आस - पास के क्षेत्रों में भारी बारिश होने की संभावना है. इसके साथ ही पूर्वी भारत की बात करें तो ओडिशा के आस-पास के कुछ शहरों में मध्यम बारिश होने की संभावना है. तो वही उत्तर प्रदेश और बिहार में मौसम हल्का शुष्क बना रहने की संभावना बनी हुई है. ऐसे में आइए निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के अनुसार जानते है देशभर में अगले 24 घंटे के दौरान किस तरह की मौसमी गतिविधियां रह सकती है- 

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

मॉनसून की वापसी रेखा इस समय किशनगंज, बांकुरा, जमशेदपुर, चम्पा, सियोनि, खरगोन, भरूच और दीव से होकर गुजर रही है. इसके साथ ही राजस्थान के पश्चिमी हिस्सों पर एक विपरीत चक्रवात सक्रिय हो गया है. उत्तर प्रदेश के उत्तर-पश्चिमी हिस्सों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र विकसित है. अगर बात करें, असम के दक्षिणी भागों कि तो वहां भी एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बन गया है.एक अन्य चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश के भागों पर बना हुआ है.

barish

आने वाले 24 घंटों के दौरान मौसमी गतिविधियां

आने वाले 24 घंटों के दौरान, तटीय आंध्र प्रदेश, आंतरिक कर्नाटक और तमिलनाडु के भागों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है.इसके साथ ही केरल, तेलंगाना, रायलसीमा, तटीय कर्नाटक, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप समूह, मध्य महाराष्ट्र तथा ओडिशा में भी कई स्थानों पर मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है. उस दौरान, गंगीय पश्चिम बंगाल, बाकी बचे पूर्वोत्तर भारत, कोंकण व गोवा सहित विदर्भ के हिस्सों में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश होने के आसार हैं.जबकि, उत्तर-पश्चिमी मैदानी इलाकों और इससे सटे मध्य भारत के हिस्सों में न्यूनतम तापमान में मामूली गिरावट दर्ज की जा सकती है. अगर हम दिल्ली के प्रदूषण की बात करें तो, राजधानी में फिर से प्रदूषण का स्तर काफी खराब श्रेणी में जा सकता है.



Share your comments