तापमान में गिरावट के साथ इन राज्यों में हो सकती है बारिश, जानिए 1 और 2 दिसंबर का मौसम पूर्वानुमान

देश में ठंड का असर लगातार बढ़ता जा रहा है और तापमान में भी गिरावट आ रही है. तापमान में गिरावट के साथ कहीं-कहीं हल्की बारिश की संभावना हो सकती है. दिन में धूप होगी और मौसम शुष्क रहेगा. दक्षिण भारत में केरल और तमिलनाडु में हल्की और मध्यम बारिश हो सकती है. पूर्वोत्तर में उत्तर पश्चिमी हवांएं पहुंचनी शुरू हो गयी हैं और इस कारण यहां मौसम शुष्क और ठंडा बना रहेगा.

दक्षिण भारत से शुरुआत करें तो, पूर्वी हवाएं एक बार फिर कमजोर पड़ गयी हैं, जिसके कारण तमिलनाडु में वर्षा में कमी आएगी. हालांकि अरब सागर से कोमोरिन क्षेत्र तक एक ट्रफ बनी हुई है. इसके चलते, केरल और दक्षिणी तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश जारी रहने की संभावना है. जबकि दक्षिण भारत के बाकी भागों में मौसम शुष्क होगा.

मध्य भारत की ओर चलें तो यहाँ गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, विदर्भ, मराठवाडा और छतीसगढ़ में शुष्क और ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाएँ बहेंगी। जिससे इन राज्यों में न्यूनतम तापमान गिर सकते हैं. इसके अलावा, दिन में धूप और शुष्क मौसम जारी रहेगा.

उत्तर भारत के मौसम की अगर बात करें तो यहां दिन और रात के तापमान में कमी आ रही है,लेकिन आंकड़े अभी भी सामान्य से ऊपर बने हुए हैं. अब ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाएँ तापमान में थोड़ी और कमी लाएंगी.

वहीं, जम्मू व कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में मौसम शुष्क होगा और दिन में धूप रहेगी. पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दिल्ली में कोहरा छाया रहेगा. अनुमानों के मुताबिक दिल्ली प्रदूषण अभी भी उग्र रूप धरण किए हुए हैं. इसे साफ करने के लिए उत्तर-पश्चिमी ठंडी और शुष्क हवाएँ अब उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में चलने लगी हैं. लेकिन शुक्रवार को भी प्रदूषण दिल्ली-एनसीआर का पीछा छोड़ने को तैयार नहीं दिखा और कई जगहों पर वायु गुणवत्ता सूचकांक ख़तरनाक श्रेणी में बना रहा.

आंकड़ों में देखें तो बृहस्पतिवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक दिल्ली में 358, नोएडा में 366, फ़रीदाबाद में 338 के आसपास पहुंचा। यह आंकड़े दिन भर का औसत हैं जबकि सुबह के समय कई जगहों पर सूचकांक 400 के आसपास था.

फिलहाल उत्तर-पश्चिमी हवाएँ दिल्ली, नोएडा, गाज़ियाबाद, गुरुग्राम, फ़रीदाबाद, बल्लभगढ़, पलवल और आसपास के भागों में अब सेट हो गई हैं. इससे अगले 2-3 दिनों तक प्रदूषण से कुछ राहत की उम्मीद कर सकते हैं. लेकिन हवा की औसत गति 10 किलोमीटर के आसपास होगी इसलिए बड़ी राहत की संभावना फिलहाल नहीं है. यही वजह है कि शुक्रवार को पीएम 2.5 के अंतर्गत आने वाले प्रदूषण के तत्व हवाओं में बड़ी संख्या में मौजूद रहे.

इन हवाओं के कारण तापमान आज गिरावट हुई है, जिससे आर्द्रता बढ़ गई और यही वजह है कि प्रदूषण अभी भी चुनौती बना हुआ है. सुबह के समय कुछ इलाकों में थोड़े समय के लिए कोहरा छाया जिससे लगा कि प्रदूषण में और वृद्धि लगी. आज वायु गुणवत्ता सूचकांक पूसा में 325, लोधी रोड में 323, एयरपोर्ट पर 340, मथुरा रोड पर 350 के आसपास रहने की संभावना है.

हालांकि दिन में जैसे-जैसे हवा और धूप का प्रभाव बढ़ेगा प्रदूषण के कण हवा में कम होंगे, जिससे दिल्ली और एनसीआर के लोगों को साँस लेने में थोड़ी आसानी होगी. विशेषज्ञों की मानें तो अगले दो दिन हल्की राहत रहेगी उसके बाद यानि 2 दिसम्बर से प्रदूषण कुछ और ऊपर पहुँच जाएगा.

अंत में पूर्व और पूर्वोत्तर भारत की ओर मुड़ें तो यहाँ ठंडी और शुष्क उत्तर-पश्चिमी हवाएँ पहुंचाना शुरू हो गई हैं, जिनके चलते पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में तापमान में गिरावट आएगी. इसके अलावा इस क्षेत्र में कहीं भी बारिश की संभावना फिलहाल नहीं है. हालांकि पूर्वोत्तर राज्यों और हिमालय के तराई क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर कोहरा देखने को मिल सकता है.

साभार: skymetweather.com

चंद्र मोहन, कृषि जागरण

Comments